डिफरेंट एक्टिविटीज में महारथ हासिल कर रहे बच्चे

ग्रीष्मकालीन खेल प्रशिक्षण: खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा 31 मई तक छह स्पोट्र्स एक्टिविटी में दी जा रही ट्रेनिंग

 

By: Jyoti Gupta

Published: 11 May 2019, 10:24 PM IST

सतना. स्कूल बंद हो गए हैं। समर लीव शुरू हो चुकी है। एेसे में शहर के बच्चे कई एरियाज में आयोजित समर कैम्प में टैलेंट को निखार रहे हैं। इसी कड़ी में खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा एक मई से ग्रीष्मकालीन खेल प्रशिक्षण निशुल्क शिविर भी स्टार्ट कर दिए गए हैं। इसमें बच्चे बड़े ही उत्साह के साथ भाग ले रहे हैं। खेल की लोकप्रियता को बढ़ाने के लिए ब्लॉक स्तर पर भी डिफरेंट खेलों का प्रशिक्षण ब्लॉक को-आर्डिनेटर के जरिए दिलवाया जा रहा है।

खेल जो सबसे अधिक लोकप्रिय
खेल विभाग द्वारा वालीबॉल, फुटबॉल, बुशू, कबड्डी, बैडमिंटन और टेबिल टेनिस का प्रशिक्षण दिलवाया जा रहा है। इसमें शहर के बच्चे बड़े ही उत्साह संग भाग ले रहे हैं। खेल प्रशिक्षण शुरू होने के पहले ही बच्चे जवाहर नगर स्टेडियम पहुंच जाते हैं। दो शिफ्ट में चलने वाले इस प्रशिक्षण शिविर में सबसे अधिक बच्चे वॉलीबॉल खेल का प्रशिक्षण लेना पसंद कर रहे हैं।


दो शिफ्ट में दिया जा रह प्रशिक्षण

दो शिफ्ट में खेलों का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जवाहर नगर स्टेडियम में सुबह साढ़े पांच बजे से सुबह साढ़े सात बजे तक और शाम को छह से सात बजे तक कोच के निर्देश में खेलों का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। आठ से १८ वर्ष के बच्चे इन खेलों का प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं।

खेल और कोच
वॉलीबॉल -

फुटबॉल- कोच एसपी तिवारी, संतोष सिंह, संजय सिंह, अंकित सिंह
बुशू- प्रवीणा चौधरी

कबड्डी - जिला कोच रमा वीके
बैडमिंटन - एयू खान

टेबिल टेनिस- नंद किशोर नंदा


खेलों के प्रति बच्चों में रुचि जगाने के लिए एक मई से कई खेलों में कुशल प्रशिक्षिकों द्वारा नि:शुल्क प्रशिक्षण दिया जा रहा। इसमें आठ से १८ साल के बच्चे भाग ले सकते हैं।
मो. अहमद खान, खेल अधिकारी, खेल एंव युवा कल्याण विभाग

 

शहर ही नहीं बल्कि ब्लॉक स्तर के बच्चों में खेल की भावना को जाग्रत करने और उनके अंदर छिपी प्रतिभा को निखारने के लिए ब्लॉकस्तर पर भी खेल प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

ज्योति तिवारी, को-आर्डिनेटर

Jyoti Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned