उपचुनाव से पहले "श्रीराम वन गमन मार्ग" को लेकर MP में सियासत गर्माने में जुटी कांग्रेस

-मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

By: Ajay Chaturvedi

Published: 08 Sep 2020, 04:41 PM IST

सतना. ठीक दो साल बाद मध्य प्रदेश की सियासत में एक बार फिर से भगवान श्री राम को स्मरण किया जाने लगा है। बता दें कि सितंबर 2018 में कांग्रेस ने श्री राम वन गमन मार्ग पर चल कर सत्ता में वापसी की रणनीति अपनाई थी। तब कांग्रेस ने 21 सितंबर 2018 से राम वन गमन यात्रा निकाल कर यह भी बताना चाहा था कि बीजेपी सिर्फ राम का उपयोग अपनी राजनीति के लिए करती है। उसी वक्त प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा था कि राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने पर राम वन गमन पथ का भव्य निर्माण किया जाएगा।

दरअसल राम वन गमन मार्ग का बड़ा हिस्सा विंध्य क्षेत्र का है। विंध्य क्षेत्र में विधानसभा की कुल 30 सीटें हैं। इनमें कटनी जिले की दो विधानसभा सीटें ऐसी हैं जिन पर महाकौशल की राजनीति का भी प्रभाव देखा जाता है। राम वन गमन का जो मार्ग समिति द्वारा चिन्हित किया गया था उसमें पर्यटन स्थल भेड़ाघाट का भी जिक्र किया गया था। भेड़ाघाट जबलपुर में है। जबलपुर महाकौशल की राजनीति का केंद्र है। विंध्य क्षेत्र के कुछ जिलों की सीमाएं उत्तरप्रदेश से लगी हुई हैं, जिनमें चित्रकूट का एक हिस्सा भी है।

कांग्रेस के युवा छात्र नेता मृगेंद्र सिंह गहरवार

इन सारी कवायदतों के बाद कांग्रेस आखिरकार सत्ता में तो आई पर सरकार को बहुत दिनों तक बचा नहीं सकी। अब एक बारगी फिर से उसी श्रीराम वन गमन मार्ग को लेकर कांग्रेस मौजूदा भाजपा सरकार पर हमलावर हो रही है। कांग्रेस के युवा चेहरा, एनएसयूआई से जुड़े छात्र नेता मृगेंद्र सिंह गहरवार ने इस श्रीराम वन गमन पथ को लेकर शिवराज सिंह चौहान पर प्रहार किया है। उनका कहना है कि श्रीराम पथ गमन मार्ग के लिए जहां कांग्रेस की कमलनाथ सरकार दो हजार करोड़ की कार्ययोजना बना रही थी। वहीं भाजपा ने राम के नाम पर महज एक लाख का बजट देकर आस्था के साथ मजाक करने का दुस्साहस किया है।

उनका कहना है कि कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए बुंदेलखंड वासियों के लिए रामपथ गमन मार्ग के लिए दो हजार करोड़ रुपये का भारी भरकम बजट स्वीकृत किया था। इस बजट से रामपथ गमन मार्ग में सड़क निर्माण सहित ऐतिहासिक धरोहरों का संरक्षण व क्षेत्र का विकास शामिल था। लेकिन कमलनाथ सरकार जाने के बाद एक बार फिर मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार ने रामपथ गमन मार्ग में छलावा कर बजट में भारी कटौती कर महज एक लाख रुपये कर, भगवान के साथ बुंदेलखंड वासियों के साथ घोर मजाक किया है, जो हमारी आस्था पर गहरी चोट है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि भाजपा ने 15 वर्षो तक रामपथ गमन मार्ग के नाम पर वोट मांगे लेकिन जब सरकार बनी तब इस ओर कोई प्रयास नहीं किया। कमलनाथ सरकार ने इस ओर ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए दो हजार करोड़ रुपये का बजट स्वीकृत कर दिया और निर्माण कार्य की रूपरेखा तैयार होनी लगी। इसी बीच भाजपा ने कांग्रेस सरकार को गिराकर दोबारा सत्ता में वापसी की और सरकार बनते ही इस काम पर रोक लगा दी। एनएसयूआई नेता ने चेतावनी दी कि भाजपा सरकार के इस निर्णय का हम कांग्रेसी विरोध करते हैं और करते रहेंगे।

BJP Congress Kamal Nath
Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned