MP के इस रेलवे स्टेशन पर एरिया मैनेजर व रेलवे कर्मचारियों के बीच हुई तू-तू-मैं-मैं, जानिए वजह

एनसीआर के गार्डों से सतना की ट्रेनें चलवाने का आरोप, वेस्ट सेंट्रल रेलवे यूनियन ने दिया धरना

 

By: Pushpendra pandey

Published: 25 Apr 2018, 09:09 AM IST

सतना. वेस्ट सेंट्रल रेलवे एम्प्लाइज यूनियन के बैनर तले मांगों को लेकर एरिया कार्यालय में मंगलवार को धरना देने के बाद ज्ञापन सौंपने गए रेलवे कर्मियों व एरिया मैनेजर के बीच जमकर बहस हो गई। रेलकर्मियों ने आरोप लगाया कि मुख्य परिचालन प्रबंधक के आदेशों की अवहेलना कर स्टेशन अधीक्षक द्वारा नियम विरुद्ध सतना डिपो की आधा दर्जन ट्रेनंे उत्तर मध्य रेल के गार्डों से चलवाई जा रही हैं। यह सतना में पदस्थ गार्डों के हितों में सीधा कुठाराघात है। धैर्य के साथ कर्मचारियों की बात सुन रहे एरिया मैनेजर मृत्युंजय कुमार का पारा भी गरम हो गया। उन्होंने कहा कि फिजूल के आरोप मत लगाइए। मांगों पर शीर्ष अधिकारी सुनवाई करते हैं लेकिन एक ही दिन में सभी समस्याएं हल नहीं हो सकतीं। एरिया मैनेजर की समझाइश के बावजूद कर्मचारी नहीं माने और करीब 20 मिनट तक एरिया कार्यालय में गहमागहमी बनी रही। ज्ञापन देकर कर्मचारियों ने 2 मई से भूख हड़ताल की चेतावनी देकर स्थानीय रेल अधिकारियों को चिंता में डाल दिया है।


पैसा लेकर ड्यूटी लगाने का आरोप
एरिया मैनेजर मृत्युंजय कुमार से बहस के दौरान यूनियन सदस्यों ने सतना सेक्शन के पूर्व एरिया मैनेजर पर सनसनीखेज आरोप लगाया। रेलकर्मियों ने कहा, सतना में पूर्व एरिया मैनेजर के समय से गार्डों व अन्य कर्मियों के साथ ज्यादती हो रही है। जब एरिया मैनेजर ने कहा कि एेसा कुछ नहीं है तो नाराज सदस्यों ने आरोप लगाया कि पहले के साहब 2-2 हजार लेकर ड्यूटी लगाते थे। यह आरोप सुनते ही एरिया मैनेजर मृत्युंजय कुमार भी तमतमा उठे और कहा कि अपनी मांगों को सलीके से रखिए। किसी के खिलाफ इस तरह के बेबुनियाद आरोप लगाने से कुछ नहीं होगा। उन्होंने कहा कि गार्डों की कमी से थोड़ी परेशानी हो रही है लेकिन नियम विरुद्ध कुछ नहीं हो रहा।


2 मई से भूख हड़ताल की चेतावनी
वेस्ट सेंट्रल रेलवे एम्प्लाइज यूनियन के सदस्यों ने अब एरिया मैनेजर को आगामी 2 मई से एरिया कार्यालय के सामने भूख हड़ताल किए जाने की चेतावनी दी है। यूनियन के कर्मचारियों ने कहा कि गार्डों व अन्य रेलकर्मियों की विभिन्न मांगों के निराकरण के लिए ५ अप्रैल को ज्ञापन सौंपा गया था लेकिन 20 दिन बीत जाने के बाद भी वरिष्ठ अधिकारियों ने समस्याओं को सुलझाने में कोई सकारात्मक पहल शुरू नहीं की। लिहाजा, अब हक पाने के लिए आर-पार की लड़ाई लड़ी जाएगी। मंगलवार को ज्ञापन देने वालों में पुष्पेंद्र तिवारी, पंकज तिवारी, जेके चौबे, वीके चौबे, राजेंद्र शर्मा, प्रिंस पटेल, संजीव शर्मा, दिलीप, एसएन शुक्ला, विनय पाण्डेय, आरपी सिंह, मुनीश सैनी आदि शामिल रहे।

 

क्या हैं आरोप
- पश्चिम मध्य रेलवे की गाडि़यों में नियम विरुद्ध उत्तर मध्य रेल के गार्डों की ड्यूटी लगाई जा रही है।
- सीनियर गार्डों की अनदेखी कर मेल व पैसेंजर गाडि़यों को जूनियर गार्डों के जिम्मे जानबूझकर किया जा रहा है।
- सतना में 43 मेल गार्डों की पदस्थापना के बावजूद 28 गार्डों का लिंक चलवाया जा रहा है।
- नियमों को दरकिनार कर पीओ और अवकाश नहीं दिया जा रहा।

Show More
Pushpendra pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned