टमस नदी में बह रहे दो मासूमों को देखकर गांव के ही बुजुर्ग ने लगा दी छलांग, खींच लाया मौत के मुंह से बाहर

टमस नदी में बह रहे दो मासूमों को देखकर गांव के ही बुजुर्ग ने लगा दी छलांग, खींच लाया मौत के मुंह से बाहर
dhatura tamas river old man save the 2 children life in satna district

Suresh Kumar Mishra | Updated: 18 Sep 2019, 08:29:27 PM (IST) Satna, Satna, Madhya Pradesh, India

मैहर थाना क्षेत्र के धतूरा गांव का मामला, टमस नदी में डूबते-डूबते बचे दो बच्चे, एक की हालत चिंताजनक, गंभीर हालत में सिविल अस्पताल मैहर में कराया गया दाखिल

सतना। मध्यप्रदेश के सतना जिला अंतर्गत टमस नदी में दो मासूम बच्चे डूबते-डूबते बच गए। बताया गया कि गांव का ही एक बुजूर्ग भगवान बनकर नदी के किनारे पहुंचा और मौत के मुह से खींच लाया। जैसे ही दोनों को नदी से बाहर निकाला गया तो बच्ची स्वस्थ्य थी जबकि बच्चा थोड़ा पानी पी गया था। जिसको आनन-फानन में ग्रामीणों की मदद से सिविल अस्पताल मैहर में दाखिल कराया गया है।

ये भी पढ़ें: मनचले ने बोला- मुझसे रोजाना किया करो फोन में बात, नहीं की तो कॉलेज के अंदर घुसकर छात्रा के गले पर मारा ब्लेड

जहां शुरूआती दौर में मासम की हालत खतरे में बताई जा रही थी। हालांकि अब मैहर के चिकित्सकों ने खतरे से बाहर बताया है। दोनों बच्चों को काल के गाल से खींच लाने वाले रामेश्वर प्रसाद साकेत पिता मंगल प्रसाद 54 वर्ष को ग्रामीणों ने चंदा कर एक हजार की पुरस्कार राशि देते हुए सम्मानित किया है। लोगों ने बुजूर्ग से अपील की है कि इसी तरह सबकी मदद करें।

ये भी पढ़ें: एक ही परिवार के पांच लोगों की बेरहमी से हत्या, सभी मृतक पन्ना जिला निवासी

ये है मामला
मिली जानकारी के मुताबिक बुधवार की सुबह करीब 8 बजे मैहर थाना क्षेत्र के धतूरा गांव स्थित टमस नदी पर बने पुल पर अचानक से बाढ़ आ गई। उसी दौरान दुर्गेश सेन पिता मुकेश सेन 4 वर्ष निवासी कुआ जिला कटनी और कंचन सेन पिता दीपचन्द सेन निवासी धतूरा टहल रहे थे। कुछ देर बाद दोनों नहाने के लिए नदी पर उतरे। इसी दौरान पानी के तेज बहाव के चलते दोनों बहने लगे। जब बच्चे नदी में बहते हुए कुछ दूर चले गए तो गांव के ही रामेश्वर प्रसाद साकेत की नजर पड़ी। तुरंत रामेश्वर ने छलांग लगा दी और नदी के तेज धारों के बीच से खींच लाए।

दुर्गेश सेन को ले गए अस्पताल
बताया गया कि दुर्गेश सेन अपनी मौसी के यहां धतूरा आया था। वह मौसी की लड़की के साथ नहाने गया हुआ था। लेकिन भगवान बन कर पहुंचे 54 वर्षीय बुजूर्ग रामेश्वर प्रसाद साकेत पिता मंगल प्रसाद ने सकुशल दोनों को बचा लिया। कहते है दुर्गेश पानी पी गया था इसलिए ग्रामीणों बिना कोई खतरा मोड़ लिए मैहर अस्पताल ले गए। जहां शुरूआत में दुर्गेश की हालत चिंताजनक थी। लेकिन प्राथमिक उपचार के बाद सुधार बताया जा रहा है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned