Election 2019: जानें मध्यप्रदेश की सतना लोकसभा सीट के बारे में, जहां ये मुद्दे रहेंगे हावी

Election 2019: जानें मध्यप्रदेश की सतना लोकसभा सीट के बारे में, जहां ये मुद्दे रहेंगे हावी

Suresh Kumar Mishra | Publish: Apr, 17 2019 05:17:42 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2019 05:17:43 PM (IST) Satna, Satna, Madhya Pradesh, India

लोकसभा चुनाव 2019: दोनों सियासी दलों के उम्मीदवारों पर चढ़ा सियासी पारा

सतना। लोकसभा चुनाव 2019 का सियासी पारा उम्मीदवारों पर सिर चढ़कर बोल रहा है। कोई पूर्व सरकार की गलती को भुनाने में लगा है तो कोई वर्तमान सरकार के कामकाज की तारीफ कर रहा है। यहां हम बात कर रहे है मध्यप्रदेश के सतना लोकसभा सीट के बारे में जहां कुछ मुद्दे इन दिनों हावी है। जिसमे सबसे बड़ा मुद्दा जलसंकट का गर्मी में गरम पड़ रहा है। सात विधानसभाओं वाली सतना संसदीय क्षेत्र में सतना, चित्रकूट, रैगांव, नागौद, मैहर, अमरपाटन और रामपुर बाघेलान विधानसभा क्षेत्र आता है। रामपुर और कोटर क्षेत्र को छोड़ दिया जाए तो सतना जिले में लगभग हर जगह जलसंकट है। मझगवां, रैगांव और पहाड़ी क्षेत्रों में तो लोग अभी से बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे है। कई क्षेत्रों में जर्जर सड़क या अधूरी सड़कें नेताओं को कोस रहीं है। रैगांव विधानसभा के कुछ गांव सड़क विहीन है जहां हरदम रोड नहीं तो वोट नहीं की चेतावनी दी जाती है।

इन मुद्दों में बोलने से कतराते है नेता
- शहर से लेकर गांव तक जलसंकट
- शहर के अंदर की जर्जर सड़क
- अधूरा फ्लाइ ओवर
- रोजगार का वादा
- जिल में 8 सीमेंट प्लांट पर नौकरी किसी को नहीं
- रामनगर क्षेत्र में विस्थापितों का दर्द
- सतना-बेला मार्ग अधूरा
- धूल-डस्ट और धुआं

भाजपा: गणेश सिंह
गौरतलब है कि, गणेश सिंह ने 1995 से सतना की सक्रिय राजनीति में कदम रखा था। 2002 में जिपं अध्यक्ष बने। उसके बाद 2004, 2009, 2014 में लगातार तीन बार सांसद चुने गए। संसद की कई कमेटियों में सदस्य रहे हैं। वर्ष 2014 में कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं प्रदेश के पूर्व विधानसभा प्रतिपक्ष को 8688 मतो से हराया था।


कांग्रेस: राजाराम त्रिपाठी
80 के दशक से सक्रिय राजनीति में हैं। सतना मोटर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन, विंध्य चेंबर ऑफ कामर्स के अध्यक्ष रहे। 1994 में नगर निगम के प्रथम महापौर बने थे। 1998 में नागौद विधानसभा प्रत्याशी रहे। 2004 में जिला कांग्रेस के अध्यक्ष बनाए गए थे। 2009 में पार्टी से बगावत करते हुए सपा से लोकसभा चुनाव लड़े थे और कांग्रेस को चौथे नंबर पर जाना पड़ा था। लेकिन, उसके एक साल बाद पुन: पार्टी में वापस हुए और सक्रिय रहे। 2013 में सतना विधानसभा से प्रत्याशी बनाए गए। हालांकि सफलता हाथ नहीं लगी। 2019 के लोकसभा चुनाव में सतना से कांग्रेस के उम्मीदवार बने है।

अब तक सतना लोकसभा से सांसद
- 1952 शिवदत्त उपाध्याय - कांग्रेस
- 1967 देवेन्द्र विजय सिंह - कांग्रेस
- 1971 नरेन्द्र सिंह - भारतीय जन संघ
- 1977 सुखेन्द्र सिंह - भारतीय लोक दल
- 1980 गुलशेर अहमद - कांग्रेस
- 1984 अजीत कुरैशी - कांग्रेस
- 1989 सुखेन्द्र सिंह - भाजपा
- 1991 अर्जुन सिंह - कांग्रेस
- 1996 सुखलाल कुशवाहा - बसपा
- 1998 रामानंद सिंह - भाजपा
- 1999 रामानंद सिंह - भाजपा
- 2004 गणेश सिंंह - भाजपा
- 2009 गणेश सिंह - भाजपा
- 2014 गणेश सिंह - भाजपा

चार चरणों में होगा चुनाव
- 29 अप्रैल-सीधी, शहडोल, मंडला, बालाघाट, जबलपुर, छिंदवाड़ा
- 6 मई-बैतूल, दमोह, खजुराहो, रीवा, सतना, होशंगाबाद, टीकमगढ़
- 12 मई-मुरैना, भिंड, ग्वालियर, गुना, सागर, विदिशा, भोपाल,राजगढ़
- 19 मई-देवास, उज्जैन, धार, खंडवा, इंदौर, मंदसौर, रतलाम, खरगोन

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned