scriptformer MLA radhelal baghel controversy BJP president action | UP चुनाव से पहले भाजपा के लिए मुसीबत बन सकती है पाल समाज की नाराजगी | Patrika News

UP चुनाव से पहले भाजपा के लिए मुसीबत बन सकती है पाल समाज की नाराजगी

पूर्व विधायक व राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष रहे राघेलाल बघेल के निलंबन से नाराज, ज्ञापन न लेने पर भड़का आक्रोश

सतना

Updated: January 23, 2022 03:01:44 am

सतना. सेंवड़ा से विधायक व राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष रहे राधेलाल बघेल को बिना नोटिस भाजपा से निलंबित करने के मामले को लेकर पाल समाज में भाजपा के प्रति भारी आक्रोश है। शुक्रवार को एक दिवसीय प्रवास पर सतना पहुंचे मप्र भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा से मिलकर उन्होंने विरोध जताना चाहा, लेकिन उन्होंने मिलने से इनकार कर दिया। जिस कारण यह आक्रोश और ज्यादा भड़क गया। समाज के लोगों ने अब राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्ढा को मामले से अवगत कराने व वीडी शर्मा का वहिष्कार करने का निर्णय लिया है। यूपी चुनाव से पहले पाल समाज की यह नाराजगी भाजपा के लिए मुसीबत बन सकती है, क्योंकि वहां भी इनकी अच्छी खासी आबादी है और राधेलाल बघेल का बर्चस्व भी है।
bjp_1.jpg
नहीं दे पाए ज्ञापन
पाल समाज का प्रतिनिधिमंडल शनिवार को रिटायर्ड सूबेदार बाल गोविंद पाल के नेतृत्व में सर्किट हाउस पहुंचा, लेकिन भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा ने न तो उनसे मुलाकात की और न ही ज्ञापन लेना उचित समझा। जिसके बाद उनकी नाराजगी और बढ़ गई है। अब उन्होंने प्रदेशाध्यक्ष शर्मा का बहिष्कार करने व राष्ट्रीय अध्यक्ष को पत्र लिखकर मामले से अवगत कराने का निर्णय लिया है।
एकतरफा कार्रवाई से आक्रोश
जिला पाल संघ के पूर्व सचिव मनोज पाल ने बताया कि पूर्व विधायक राधेलाल बघेल को पार्टी अध्यक्ष ने एक वायरल वीडियो के आधार पर निलंबित किया है। लेकिन कार्रवाई से पहले इसकी सत्यता नहीं जांची गई। उनकी एकतरफा कार्रवाई से प्रदेश के पाल, गड़रिया, बघेल, धनगर समाज के लोग खासे आक्रोशित हैं।
साइडलाइन करने की साजिश
एडवोकेट केपी पाल ने कहा कि राधेलाल न सिर्फ पाल समाज बल्कि पिछड़े वर्ग के बड़े नेता हैं। विमुक्त घुमक्क जनजातियों को महाराष्ट्र की तर्ज पर अलग आरक्षण देने की मांग को लेकर लगातार आवाज उठाते रहते हैं। यही वजह है कि एक साजिश के तहत उन्हेें साइडलाइन किया जा रहा है, लेकिन आगामी चुनावों में इसका खामियाजा भाजपा को भुगतना पड़ेगा। प्रतिनिधि मंडल में केपी पाल, मनोज पाल, गयासी पाल, विनोद पाल, सभापति पाल, रजनीश पाल, राजू पाल सहित अन्य लोग शामिल रहे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

BJP National Executive Office Bearers Meeting: कांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम ने PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाShivling In Gyanvapi: असदुद्दीन ओवैसी का अजीबोगरीब दावा, ज्ञानवापी में शिवलिंग नहीं, फव्वारा मिला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.