सतना की इस कॉलोनी में चल रहा एटीएम से धोखाधड़ी का ट्रेनिंग सेंटर, जरा बच कर रहिए

पन्ना पुलिस का हैरान करने वाला खुलासा, आरोपी गिरफ्तार

 

By: Pushpendra pandey

Published: 15 Jan 2018, 01:15 PM IST

सतना/पन्ना. पन्ना पुलिस ने एटीएम से धोखाधड़ी करने के मामले का खुलासा करते हुए हैरान करने वाले तथ्य रखे। पुलिस ने साफ तौर पर बताया कि सतना में एटीएम बदलकर धोखाधड़ी करने की ट्रेनिंग दी जाती रही। पूरा खेल कंपनी की आड़ में चल रहा था। पन्ना एसपी रियाज इकबाल ने बताया कि शासकीय महाविद्यालय देवेंद्रनगर के प्राचार्य रामायण प्रसाद गर्ग ने 26 जुलाई 2017 को शिकायत दर्ज कराई थी। बताया था कि वह देवेंद्रनगर स्थित स्टेट बैंक के एटीएम से रुपए निकालने गए थे। उसी समय एक अंजान व्यक्ति आया और सहयोग करने के बहाने उनका एटीएम कार्ड बदल लिया। दो घंटे बाद स्टेट बैंक के एटीएम से 35 हजार नकद निकलने और 40 हजार रुपए किसी अन्य खाते में ट्रांसफर होने के मैसेज आए।

 

छतरपुर के युवक से खुला राज
शिकायत के बाद पुलिस ने जांच शुरू की तो छतरपुर निवासी राजेश अहिरवार का नाम आया। इसके बाद पुलिस सक्रिय हो गई और सतना के सिंहपुर क्षेत्र से उसे गिरफ्तार कर लिया गया। उससे पूछताछ में यह बात सामने आई कि वह सतना के राजेंद्र नगर में सेवशॉप कंपनी में काम करता है। कंपनी में उसके साथी विनोद कुमार पटेल और कमला मिश्रा द्वारा ट्रेनिंग देकर बताया जाता था कि किस प्रकार से भोले-भाले, गरीब और न समझ लोगों के एटीएम बदलकर पैसा निकालना है। पूछताछ के आधार पर पुलिस पूरे गिरोह तक पहुंच गई। मामले में आरोपी विनोद कुमार पटेल पिता राजाराम निवासी ग्राम सेजवार भगड़ा थाना मझगवां जिला सतना और कामता मिश्रा पति रामनारायण निवासी गली नंबर 12 जवाहर नगर थाना कोतवाली जिला सतना को गिरफ्तार किया गया। आरोपियों के कब्जे से 31 हजार 500 रुपए नकद बरामद किए गए हैं। साथ ही जिस खाते में फरियादी के रुपए ट्रांसफर किए गए हैं उसकी पासबुक एवं एटीएम जब्त किया गया है। धोखाधड़ी कर फरियादियों का पैसा आरोपियों ने जिस अकाउंट में डाल रखा है, उस पर होल्ड लगा दिया गया है।

 

ऐसे हुआ खुलासा
शिकायत पर थाना प्रभारी देवेंद्रनगर व सायबर थाना पन्ना को मामले की जांच में लगाया गया। जांच में फरियादी के खाते से जिस अन्य खाते में रुपए ट्रांसफर हुए थे, उसकी जानकारी प्राप्त की। उसके आधार पर पता लगा कि उक्त खाता दरउआ अहिरवार निवासी खरदूती थाना भगवां जिला छतरपुर के नाम पर है। आरोपी की तलाश कर पूछताछ में बताया कि उसका लड़का राजेश अहिरवार सतना में किसी कंपनी में काम करता है। उसने घर पर बता रखा था कि कंपनी का पैसा एकांउट में आता है। निकालकर दे दिया करो। दरउआ ने 40 हजार रुपए निकालकर पुत्र को देने की बात कही। इस पर पुलिस ने आरोपी राजेश अहिरवार के विरुद्ध धोखाधड़ी की धाराओं के तहत अपराध दर्ज कर लिया। उसके बाद प्रकरण की गुत्थी सुलझती चली गई। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि पन्ना जिले के थाना देवेंद्रनगर क्षेत्र से एक बार, सतना जिले के नागौद कस्बे से 5 बार तथा सतना से अन्य प्रकरणों में शामिल रहे। इन लोगों ने आम व्यक्ति से धोखाधड़ी करते हुए करीब 7.57 लाख राशि पार कर दी थी।

 

इनके साथ किया एटीएम फ्रॉड
26 जुलाई 2017 को सतना से उमेश धुर्वे का एटीएम बदलकर उसके अकाउंट से 1.19 लाख रुपए निकालकर आपस में बांट लिया था, 26 जुलाई 2017 को देवेंद्रनगर में रामायण प्रसाद गर्ग का एटीएम बदलकर 35 हजार रुपए निकाले व 40 हजार रुपए ट्रांसफर किया, थाना नागौद जिला सतना से पांच स्थानों से लोगों के एटीएम कार्ड बदलकर लाख 57 हजार 150 रुपए निकाले गए, दिसंबर 2017 में नागौद में जसो निवासी रिटायर्ड जय नरायण पांडेय को निशाना बनाया।

Pushpendra pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned