सतना के रैगांव विधायक जुगल किशोर की राजकीय सम्मान संग अंत्येष्टि

-विधायक का 78 वर्ष की उम्र में भोपाल के चिरायु अस्पताल में इलाज के दौरान हुआ निधन
-विधायक कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके थे
- पोस्ट कोविड कांप्लीकेशन से हुआ निधन

By: Ajay Chaturvedi

Published: 11 May 2021, 02:43 PM IST

सतना. रैगांव विधायक जुगल किशोर बागरी का मंगलवार को उनके पैतृक गांव बसुधा में कोविड नियम के तहत अंतिम संस्कार कर दिया गया। बड़े पुत्र पुष्पराज बागरी ने पीपीई किट पहनकर उन्हें मुखाग्नि दी। रैगांव विधायक बागरी का 78 वर्ष की उम्र में सोमवार को भोपाल के चिरायु अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो गया था। वे कोरोना संक्रमण से हाल ही में मुक्त हो चुके थे। लेकिन पोस्ट कोविड कांप्लीकेशन के कारण हृदय गति रुकने से उनका निधन हो गया।

विधायक जुगल किशोर बागरी के निधन की सूचना मिलने के बाद से ही जिला प्रशासन अलर्ट हो गया था और बीती रात को ही उनके पैतृक गांव वसुधा में जाकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया था। खुद कलेक्टर अजय कटेसरिया व पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह यादव उनके गांव पहुंचे थे और अधिकारियों को अंत्येष्टि के लिए व्यवस्था के निर्देश दिए थे। मंगलवार सुबह लगभग 10 बजे उनका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ कोरोना की गाइडलाइन के तहत किया गया। इस दौरान स्वजनों के अलावा गिने चुने राजनेता मौके पर पहुंचे। इनमें से अधिकांश लोगों ने पीपीई किट पहन रखा था। अंत्येष्टि के दौरान जिला पुलिस बल ने भी पीपीई किट पहनकर स्वर्गीय विधायक को गार्ड ऑफ ऑनर दिया। उनके अंत्येष्टि के दौरान भाजपा जिला अध्यक्ष नरेंद्र त्रिपाठी, राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल, सांसद गणेश सिंह, विधायक विक्रम सिंह सिंह, प्रशासनिक अधिकारी सहित सीमित संख्या में लोग उपस्थित रहे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने विधायक के पुत्र पुष्पराज बागरी से फोन पर चर्चा कर दुख प्रकट किया और अंतिम संस्कार में कोरोना संक्रमण के नियमों के पालन का निर्देश दिया। इस पर खुद पुष्पराज ने सोशल मीडिया के माध्यम से सभी समर्थकों और विधायक व चाहने वालों से अपील की थी कि वे अंत्येष्टि में ना पहुंचे और घर में ही विधायक जी को श्रद्धांजलि दें।

विधायक जुगल किशोर बागरी का सतना शहर में निवास है लेकिन वह मूल रूप से रैगांव विधानसभा के बसुधा गांव के निवासी रहे। यही उनका पैतृक गांव है। उनके पिता रामगोपाल के नाम पर उनके गांव के मोहल्ले के भी नाम गोपालपुर रखा गया था।

विधायक बागरी बीते माह 20 अप्रैल से बीमार चल रहे थे। उन्हें तेज बुखार आया था। जिसके बाद 24 अप्रैल को सतना के बिरला अस्पताल में उनकी सीटी स्कैन जांच भी हुई थी जिसकी रिपोर्ट नार्मल आई थी। इसके बाद उनकी कोरोना जांच के लिए एंटीजन रिपोर्ट 26 अप्रैल को रीवा से प्राप्त हुई थी जिसमें उनके कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हो गई। वे शहर के पेप्टेक सिटी स्थित अपने घर में ही आइसोलेशन में थे लेकिन इसके बाद से ही उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही थी जिसके बाद उन्हें बिरला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 28 अप्रैल की रात को जब उनकी तबियत अधिक बिगड़ी तो सतना से लेकर भोपाल तक लोगों की चिंताएं बढ़ गई। राज्य सरकार के निर्देश पर 29 अप्रैल की रात ही उनका हाल जानने सतना कलेक्टर अजय कटेसरिया और पुलिस अधीक्षक धर्मवीर यादव बिरला अस्पताल पहुंचे। इस दौरान अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. संजय माहेश्वरी से भी चर्चा की गई। वहीं उनकी स्थिति सुबह थोड़ी और बिगड़ रही थी जिसके बाद शुक्रवार 30 अप्रैल की सुबह लगभग 10 बजे के लगभग उन्हें सतना से पहले भोपाल के बंसल अस्पताल में रेफर किया गया और शाम 6.30 बजे वे भोपाल पहुंचे। कुछ दिनों तक जब उनकी तबियत ठीक नहीं हुई तो उन्हें चिरायु अस्पताल में शिफ्ट किया गया। लेकिन कल उनका निधन हो गया। उनके साथ अलग से प्रशासन ने तहसीलदार बीके मिश्रा व निरीक्षक पद के पुलिस अधिकारी को भी अलग से भेजा गया था ताकि भोपाल में उनके इलाज की व्यवस्था हो जाए।

जुगल किशोर बागरी भाजपा से पांच बार के विधायक हैं। बढ़ती उम्र के साथ उनकी लोकप्रियता भी क्षेत्र में बढ़ती जा रही है। सबसे पहले वे वे 1993 में पहली बार विधायक बने थे। इसके बाद 1998 में दूसरी बार और 2003 में उमा भारती की सरकार में तीसरी बार विधायक बने इसके साथ ही उन्हें कैबिनेट में मंत्री बनाया गया, लेकिन लोकायुक्त में प्रकरण की वजह से उन्हें अपनी कैबिनेट मंत्री का पद छोड़ना पड़ा था। इसके बाद 2008 में वे लगातार चौथी बार विधायक बने और क्षेत्र में इतिहास रचा। विधायक बागरी की बढ़ती उम्र के कारण पार्टी ने उन्हें 2013 में टिकट नहीं दिया जबकि उनकी जगह उनके बड़े बेटे पुष्पराज बागरी को टिकट दिया। लेकिन जी तोड़ मेहनत के बाद भी पुष्पराज चुनाव नहीं जीत पाए और वे बहुजन समाज पार्टी की उषा चौधरी से हार गए। अगली बार पार्टी ने दोबारा खतरा लिया और विकल्प ना होने पर उनके बुजुर्ग पिता जुगल किशोर बागरी को टिकट दिया। लेकिन उन्होंने पार्टी के भरोसे को बनाए रखा और एक बार फिर पांचवी बार 2018 में विधायक बने।

इन्होंने दी श्रद्धांजलि

विधायक बागरी के निधन पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ सहित सतना के सभी विधायक और भाजपा जिलाध्यक्ष नरेंद्र त्रिपाठी, कांग्रेस जिलाध्यक्ष मकसूद अहमद, कलेक्टर अजय कटेसरिया, पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह यादव ने शोक व्यक्त किया है।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned