12वीं बोर्ड परीक्षा परिणाम: दो विषयों में फेल होने के बाद छात्रा ने उठाया ये खौफनाक कदम, नहीं बर्दाश्त कर पाई असफलता

12वीं बोर्ड परीक्षा परिणाम: दो विषयों में फेल होने के बाद छात्रा ने उठाया ये खौफनाक कदम, नहीं बर्दाश्त कर पाई असफलता

suresh mishra | Publish: May, 15 2018 02:00:07 PM (IST) Satna, Madhya Pradesh, India

12वीं बोर्ड परीक्षा परिणाम: दो विषयों में फेल होने के बाद छात्रा ने उठाया ये खौफनाक कदम, नहीं बर्दाश्त कर पाई सदमा

सीधी। मध्यप्रदेश के सीधी जिले में एक छात्रा ने 12वीं बोर्ड परीक्षा के परिणामों से हताश होकर खुदकुशी कर ली है। बताया गया कि अमिलिया थाना अंतर्गत बघोर गांव निवासी एक छात्रा शहर में रहकर पढ़ाई करती थी। उसको अपनी सफलता पर पूरा विश्वास था। लेकिन सोमवार को जारी हुए रिजल्ट ने उसको निराश कर दिया। घर में अकेली छात्रा ने बिना कुछ सोचे समझे मरना ही मुनाशिब समझा।

फिर क्या, परिजनों की गैर मौजूदगी में छात्रा ने शरीर में केरोसीन डालकर आग लगा ली। जैसे ही घर के अंदर धुआं उडऩे की भनक पड़ोसियों को लगी तो आनन-फानन में आग बुझाने का प्रयास किया लेकिन तब तक वह बुरी तरीके से झुलस चुकी थी। फिर कुछ देर बाद घटना स्थल पर ही छात्रा ने दम तोड़ दिया।

ये है मामला
बताया गया कि अमिलिया थाना अंतर्गत बघोर गांव निवासी पूजा शुक्ला पिता सत्येंद्र शुक्ला 17 वर्ष पढऩे में बचपन से ही काफी होशियार थी। इसी वजह से परिजन उसका प्रवेश सीधी जिला मुख्यालय में संचालित सरस्वती हायर सेकंडरी स्कूल मड़रिया में प्रवेश दिलाकर पढ़ाई करा रहे थे। परीक्षा संपन्न होने के बाद वह अपने घर में रह रही थी। लेकिन सोमवार को घोषित हुए परीक्षा परिणामों ने उसकी आत्मा को झकझोर दिया। जैसे ही दो विषयों में फेल होने की जानकारी हुई तो वह सदमे को बर्दाश्त नहीं कर पाई। कुछ देर बाद सूने घर का फायदा उठाते हुए अपने शरीर में केरोसीन डालकर आग के हवाले कर लिया। जिससे वह गंभीर रूप से झुलस गई और घटनास्थल पर ही उसकी मौत हो गई।

तत्काल पुलिस को दी सूचना
पुलिस की मानें तो जब घटनास्थल पर परिजन पहुंचे तो छात्रा को जलता हुआ देखकर उनके होश उड़ गए। आनन-फानन में तत्काल चौकी पुलिस को सूचना दी गई। सूचना के बाद तुरंत पुलिस घटना स्थल पर पहुंची गई। लेकिन तब तक छात्रा की मौत हो चुकी थी, जिसका पंचनामा तैयार कर पीएम के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिहावल भेज दिया गया है। सूत्रों की मानें तो छात्रा पूजा शुक्ला १२वीं कक्षा की पढ़ाई बायो ग्रुप से कर रही थी। दोपहर 3 बजे परिणाम की जानकारी होने के बाद उसने मौत को गले लगा लिया।

सरकार की अपील नहीं आई काम
गौरतलब है कि, छात्र-छात्राओं की असफलता पर आत्मघाती कदम न उठाने की प्रदेश सरकार ने अपील की थी। फिर भी सरकार की अपील काम नहीं आई है। ओवर हाल प्रदेशभर से अब तक आधा दर्जन छात्र मौत को लगे लगा चुके है। सीधी जिले की छात्रा ने भी परिणाम बिगडऩे के बाद निराश हो गई और असफल होने के बाद अग्रिस्नान कर लिया, जिससे छात्रा की मौत हो गई। छात्रा ने सोमवार को यह कदम तब उठाया गया जब वह घर में अकेली थी, घर आने पर परिजनों को जानकारी होने पर सिहावल चौकी पुलिस को सूचित किया गया।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned