कायाकल्प में एक करोड़ खर्च फिर भी मैन्युअल हो रही ऑक्सीजन सप्लाई, आखिर क्या है नया सिस्टम

अस्पताल निर्माण से ही चल रही यही व्यवस्था

By: suresh mishra

Updated: 03 Mar 2019, 01:02 PM IST

सतना। मिशन कायाकल्प के तहत तीन वर्षों में जिला अस्पताल की चिकित्सा सुविधाओं को बेहतर और गुणवत्तापूर्ण बनाने के लिए 1 करोड़ रुपए से अधिक की राशि खर्च की जा चुकी है। ऑक्सीजन सप्लाय करने का सिस्टम आज भी वर्षों पुराना है। इसमें किसी भी प्रकार का अपडेशन नहीं किया गया है। ओटी में आज भी मैन्युअल सिस्टम से ही ऑक्सीजन सप्लाय की जा रही है। जानकारों की मानें तो दोनों इकाइयों में कहीं भी सेंसर नहीं लगे हुए हैं।

वर्षों पुराने सिस्टम में यदि ऑक्सीजन सप्लाय रुक जाए तो पता ही नहीं चलता है। सप्लाय रुक जाने के सेंसर भी नहीं लगाए गए हैं। गैस लीकेज होने पर भी कोई उपकरण नहीं लगाया गया है। जबकि निजी हॉस्पिटल में सेंसर लगाए गए हैं। ऑक्सीजन की सप्लाय बाधित होने, गैस लीकेज होने पर सिग्नल देने लगते हैं। जिससे कोई भी बड़ी घटना होने के पहले ही सुधार कर दिया जाता है।

इधर किसी को जानकारी नहीं
एसएनसीयू में ऑक्सीजन सप्लाय करने सेंसर लगाए हैं, जो गैस लीकेज होने पर सिग्नल देने लगते हैं। इसी प्रकार पाइप लाइन में ऑक्सीजन के प्रेशर को जांचने के लिए उपकरण लगाए गए हैं। जिसमें प्रदर्शित होता है कि कितने प्रेशर पर ऑक्सीजन सप्लाय हो रहा है। लेकिन स्टाफ को इसकी जानकारी ही नहीं रहती है कि प्रेशर लो है या ज्यादा। इसका स्टाफ को प्रशिक्षण भी नहीं दिया गया है। इकाई में पदस्थ चिकित्सक ने बताया कि संबंधित कंपनी की ओर से महज मौखिक जानकारी दी गई है।

आइसीयू में पोर्टबल सिलेंडर
गंभीर मरीजों के लिए आइसीयू इकाई में ऑक्सीजन सप्लाय करने कोइ प्रबंध नहीं है। जबकि इकाइ में रोजाना आधा दर्जन से अधिक गंभीर मरीज दाखिल रहते हैं। एेसे में सभी पीडि़तों को पोर्टेबल सिलेंडर लगाए जाते हैं। इनके माध्यम से गंभीर मरीजों को ऑक्सीजन सप्लाय की जाती है। मिशन कायाकल्प के बाद भी आकस्मिक चिकित्सा इकाई का अपग्रेड नहीं किया जा सका है।

जिला अस्पताल की सभी इकाइयों को अपग्रेड किया जा रहा है। नए आइसीयू के निर्माण की भी कार्ययोजना तैयार की गयी है। जिसमें ऑक्सीजन सहित अन्य अत्याधुनिक चिकित्सा सुविधाएं मौजूद रहेंगी। एसएनसीयू के स्टाफ को प्रशिक्षित किया गया है।
इकबाल सिंह, अस्पताल प्रशासक

Show More
suresh mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned