एक VVIP बारात के लिए 637 किमी, 34 स्टेशनों पर दी विशेष सुरक्षा ... जानिए क्या है मामला

मामला सारनाथ एक्सप्रेस में सामने आया है। जहां शुक्रवार को रेलवे की विशेष सुरक्षा में एक वीआईपी बारात वाराणसी से रायपुर के लिए निकली।

By: suresh mishra

Updated: 10 Feb 2018, 03:14 PM IST

सतना। अभी तक आप मैरिज गार्डेन या फिर शहर की सड़कों में रॉयल फैमिली की बारात निकले हुए देखे होंगे। जिसमें बाराती मर्सिडीज कारों के साथ फाइव स्टार होटलों तक जाते है। लेकिन भारतीय रेल में वीवीआईपी बारात ऐसे निकले कि चार जोनों की आरपीएफ सुरक्षा में लगा दी जाए तो क्या समझेंगे। इसे अधिकारियों का रसूख कहें या फिर भारतीय रेल को नियमों के विपरीत चलाना। हर एक रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर चिल्ला-चिल्लाकर एनाउंसमेंट किया जाता है कि यात्री अपने समान की सुरक्षा स्वयं करें।

फिर एक वीआईपी के लिए सब नियमों को कैसे सिथिल कर दिया गया। एक इसी तरह का मामला सारनाथ एक्सप्रेस में सामने आया है। जहां शुक्रवार को रेलवे की विशेष सुरक्षा में एक वीआईपी बारात वाराणसी से रायपुर के लिए निकली। बारात को सुरक्षा देने के लिए हर स्टेशन पर रेल पुलिस तैनात कर दी गई। आंतरिक सुरक्षा नियंत्रण कक्ष गोरखपुर ने इसके लिए बकायदा चार मंडलों के सुरक्षा आयुक्त को पत्र जारी किया था। इसके बाद दिल्ली में मंत्रालय को भी सूचित किया गया।

ये है पूरा मामला
दरअसल, पूर्वोत्तर रेलवे गोरखपुर से रेलवे कंट्रोल रूम जबलपुर को फैक्स भेजा गया है। उसमें लिखा है कि रायपुर में विवाह समारोह में शामिल होने के लिए एक बारात 9 फरवरी 2018 को छपरा से दुर्ग जाने वाली गाड़ी संख्या 15159 सारनाथ के कोच एस-11 व 12 में जाएगी। 72 बाराती वाराणसी से सवार होकर रायपुर तक जाएंगे। यही बारात 11 फरवरी 2018 को दुर्ग से छपरा जाने वाली गाड़ी संख्या 15160 सारनाथ एक्सप्रेस के कोच नंबर एस- 09 से लौटेगी। वापसी में कुल 45 बाराती रायपुर से वाराणसी जाएंगे। बताया गया है कि मौलवी बाग थाना सिगरा वाराणसी निवासी संजय कुमार पुत्र मीरचंद्र की बारात के लिए इतने पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

बारात की सुरक्षा का पहला मामला
जब रेलवे के कंट्रोल रूम से यह बात सामने आई तो रेल अधिकारी व कर्मचारी भी हैरत में पड़ गए। सभी के मन में सवाल था कि आखिर बारात किस खास व्यक्ति की है, जिसके लिए इतने बड़े पैमान पर सुरक्षा दी जा रही है। सुरक्षा से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि जब कोई वीवीआईपी आते जाते हैं, तो इस स्तर की सुरक्षा तय की जाती है। इसके अलावा स्पोट्र्स टूर पर जाने पर छात्रों की सुरक्षा के लिए खास इंतजाम किए जाते हैं। लेकिन, बारात की सुरक्षा का मामला पहली बार सामने आया है।

चार जोन को आदेश
आंतरिक सुरक्षा नियंत्रण कक्ष गोरखपुर से मुख्य सुरक्षा आयुक्त रेल सुरक्षा बल उत्तर मध्य रेलवे, इलाहाबाद, पमरे जबलपुर, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर एवं उत्तर रेलवे के बड़ौदा हाउस नई दिल्ली को सुरक्षा मुहैया कराने पत्र की प्रति भेजी गई है। मामले में कमांडेंट अनिल भालेराव से संपर्क किया गया तो उनका कहना था कि इस संबंध में ज्यादा जानकारी नहीं है।

suresh mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned