एक माह में 15 फीसदी घटी महंगाई, आधे हो गए फल सब्जी के दाम

मांग घटने से गिरे खाद्य वस्तुओं के भाव, बाजार में छाई मायूसी

 

By: Sukhendra Mishra

Published: 31 May 2020, 11:36 PM IST

सतना. कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने २३ मार्च को देश में लाकडाउन की घोषणा होते ही जिले के खाद्य वस्तुओं के दाम आसमान छूने लगे थे। आपूर्ति लड़खड़ाने से सब्जियों एवं फलों के दाम दो गुना तक बढ गए थे। राशन दुकानदारों ने आटा दाल से लेकर किराना समग्री के दाम भी बढ़ा दिए थे। इससे लोगों को कोरोना वायरस के साथ महंगाई की मार भी झेलनी पड़ रही थी। लेकिन लाकडाउन 4 में स्थितियां सामान्य हुई तो खाद्य सामग्री के दाम फिर लाकडाउन के पूर्व की स्थित लौटने लगे हैं।

मांग घटने और अपूर्ति बढऩे के कारण बाजार में फल एवं सब्जियों के दाम जमीन पर आ गए हैं। ग्राहकी न निकलने के कारण खाद्य तेल एवं दालों के भाव में भी नर्मी का दौर जारी है। खाद्य सामग्री के भाव गिरने से लाकडाउन के चलते आर्थिक तंगी से जूझ रही आम जनता को राहत मिली है।
राशन से सस्ती सब्जियां
गर्मी के सीजन में आम आदमी को रूलाने वाली सब्जियों के दाम लाकडाउन के कारण सबसे अधिक गिरे हैं। वैवाहिक, धार्मिक कार्यक्रम बंद होने एवं मांग घटने के कारण इस साल मई में सब्जियों के भाव निचले स्तर पर आ गए हैं। मई में 30 से 40रूपए बिकने वाला टमाटर 10-15 रूपए में उपलब्ध है। हरी सब्ज्यिों के दाम 10 से 15 रूपए किलो पर आ गए हैं। इससे आम आदमी दाल की जगह हरी सब्जियों से काम चला रहा है।
आटा, दाल व खाद्य तेलों में नरमी
लाकडाउन १ में आटा दाल एवं खाद्य तेलों के भाव में प्रति किलो 5-10 रूपए की वृद्धि हुर्ह थी। लेकिन दो माह में खाद्य सामग्री के भाव फिर से उतरने लगे हैं। मई में दालों के दाम में प्रति किलो 2-5कि गिरावट आई है। खाद्य तेल के दाम १० रुपए तक घट गए हैं। लाकडाउन के चलते उद्योग बंद होने के कारण गेहूं एवं दलहन के दाम में भी नर्मी देखी जा रही है। खाद्य पदार्थो के दाम में गिरावट आर्थिक संकट से गुजर रहे गरीब परिवारों के लिए राहत देने वाला साबित हुआ है।
भाव पहले और अब
सब्जी लाक-1 लाक-4
आलू 25-30 15-20
प्याज 30-35 8-10
टमाटर 25-30 15-20
भिंडी 40-60 10-15
लौकी 20-25 5-10
करैला 40-45 15-20
फल
सेब 100-120 85-95
केला 40-50 20-35
आम 80-90 50-60
तरबूज 40-50 10-15
पपीता 40-50 20-30

Sukhendra Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned