अंतरराज्यीय मानव तस्कर गिरोह ने किया था आशिकी को अगवा, MP पुलिस ने महाराष्ट्र पुलिस की मदद से खोज निकाला

एसपी सतना ने किया मामले का खुलासा: गिरफ्तार किए गए आरोपी बुआ-भतीजा

By: suresh mishra

Updated: 29 Mar 2019, 02:30 PM IST

सतना। मैहर मंदिर परिसर से अगवा सात साल की आशिकी को बरामद करने के बाद गुरुवार को पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल ने मामले का खुलासा किया। पुलिस का कहना है कि बच्ची को अंतरराज्यीय मानव तस्कर गिरोह ने अगवा किया था। पुलिस और एसटीएफ की बढ़ती कार्रवाई देख आरोपी बौखला गए और उन्होंने बच्ची को चंगुल से रिहा कर दिया। इस सनसनीखेज मामले में पुलिस ने एक महिला और उसके भतीजे को गिरफ्तार किया है। जबकि एक फरार आरोपी की सरगर्मी से तलाश की जा रही है। पकड़े गए दोनों आरोपियों को अदालत मे पेश कर शुक्रवार दोपहर तक पुलिस रिमांड पर लिया है।

आइजी ने दिया 30 हजार इनाम
आइजी रीवा जोन चंचल शेखर ने पुलिस को मिली सफलता के बाद टीम के उत्साहवर्धन के लिए 30 हजार रुपए का पुरस्कार देने की घोषणा की है। आइजी व डीआइजी अविनाश शर्मा के निर्देशन में एसपी रीवा आबिद खान, एसपी सतना रियाज इकबाल के मार्गदर्शन एवं नागपुर पुलिस के सहयोग से थाना मैहर के उप निरीक्षक एचएल मिश्रा चौकी प्रभारी शारदा देवी धाम, उप निरीक्षक अजीत सिंह प्रभारी सायबर सेल, प्रधान आरक्षक दीपेश कुमार सिंगरौली, आरक्षक नीरज रैकवार पन्ना, सीसीटीवी कंट्रोल रूम मैहर के आरक्षक संदीप परिहार, सुशील द्विवेदी की अहम भूमिका रही। जबकि गिरफ्तारी में रीवा से उपनिरीक्षक गोपाल चौबे, पुलिस लाइन सतना से आरक्षक अरविंद सिंह, अभिषेक, रमकांत तिवारी व नागपुर क्राइम ब्रांच यूनिट-3 से एपीआई डीएम बेडोडकर, पीएसआई एन डोरलिकर, एएसआई- राजेंद्र बघेल, प्रधान आरक्षक सुरेश हिंगणकर, अनिल दुबे, एनपीसी श्याम कडू, संदीप मावलकर का सराहनीय योगदान रहा।

यह है मामला
रीवा जिले के ग्राम मिसिरगवां पोस्ट मऊगंज निवासी शिवलाल साकेत परिवार और रिश्तेदारों के साथ दर्शन करने 5 मार्च को मैहर गए। दर्शन के बाद जब सभी लौटे तो सीढ़ी के पास दुकानों से खरीददारी करने लगे। इस बीच उनकी बेटी आशिकी साकेत (7) लापता हो गई। अरकण्डी चौकी में सूचना देने पर पुलिस ने आइपीसी की धारा 363 के तहत अपहरण का अपराध कायम कर बालिका की तलाश शुरू कर दी। अपहृत आशिकी की तलाश और मामले की जांच के बीच जब कटनी तिराहा के सीसीटीवी कैमरे एक तस्वीर मिली तो पुलिस ने तेजी से काम करना शुरू किया। तस्वीर में आशिकी एक युवक के साथ जाते दिखाई दे रही है। संदेही की तस्वीर पीडि़त परिवार के सदस्यों को दिखाई गई, लेकिन किसी ने उसे पहचाना नहीं। दिन गुजरने के साथ जब मामला तूल पकडऩे लगा तो एसटीएफ ने भी दखल दिया और अपने स्तर से आशिकी का सुराग लगाना शुरू कर दिया। पुलिस अधीक्षक सतना ने आशिकी व संदेही को तलाशने के लिए 10 हजार रुपए का इनाम भी घोषित किया था।

वैश्यालय से ताल्लुक
पुलिस का कहना है कि आरोपी राकेश तिवारी ने पूछताछ में बताया कि इसकी बुआ रानी तिवारी नागपुर के गंगा जमुना स्थित वैश्यालय से संबंध रखती है। वह बच्चियों की शादी पुरुषों से पैसे लेकर करवाती है। इसके पास छपरा से भी तीन लड़कियां आने वाली थी। आशिकी साकेत जब रानी के पास पहुंच गई तो रानी ने भतीजे राकेश को दो हजार रुपए दिए थे। बाकी पैसा बच्ची को बेचने के बाद मिलना था। आरोपियों की निशादेही पर पुलिस ने घटना के समय पहने हुए आशिकी के कपड़े, सीसीटीवी में नजर आए आरोपी राकेश के कपड़े बरामद किए हैं। आरोपियों के पास से मोबाइल भी जब्त किए हैं। आरोपी रानी तिवारी के मोबाइल में कई लड़कियों की शादी विवाह से संबंधित बातें तथा छपरा से लड़कियों को लाने के संबंध की बात की पुष्टि हुई है। प्रकरण में पूर्व में धारा 363 आइपीसी का मामला दर्ज किया गया था। आरोपियों के पकड़े जाने के बाद प्रकरण में धारा 366 ए, 368, 370, 372, 373 आइपीसी व धारा 18 लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम बढ़ाई गई है।

नागपुर में मिला भतीजा
पूछताछ पर रानी ने पुलिस को बताया कि उसका भतीजा राकेश तिवारी (23) उर्फ लल्लू पुत्र संतोष तिवारी निवासी छिवला थाना बैकुंठपुर (रीवा) हाल यादव नगर जय भीम चौक के पास नागपुर ने बालिका आशिकी साकेत को उसे सौंपा। इसके बाद वह आशिकी को लेकर नागपुर चली गई। जहां आशिकी का हुलिया और पहचान बदल दी। आरोपी रानी के बयान के बाद मैहर से पुलिस टीम नागपुर रवाना हुई। यहां नागपुर पुलिस की मदद से आरोपी राकेश को गिरफ्तार किया। रानी और राकेश की गिरफ्तारी के बाद अब रानी के पति राजकुमार की तलाश की जा रही है।

मैहर से रीवा फिर नागपुर
पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि अपहरणकर्ता बालिका को मैहर से रीवा लेकर गए और वहां से उसे नागपुर ले जाया गया। यहां बालिका के बाल कटवाकर उसे दूसरे कपड़े पहनाते हुए उसका हुलिया बदल दिया गया, ताकि उसकी पहचान छिपाई जा सके।

रीवा से हुई बरामद
रायपुर कर्चुलियान में आरोपी रानी तिवारी हाल मुकाम यादव नगर जय भीमचौक के पास नागपुर ने जब बालिका को घर पर लाकर रखा तब पुलिस को मुखबिर सूचना मिली। रायपुर कर्चुलियान थाना प्रभारी के नेतृत्व में दबिश देने पहुंची तो अपहृत बच्ची को रानी के घर से बरामद किया।

आरोपी का जुलूस
मैहर मंदिर परिसर से बच्ची को अगवा करने के आरोपी राकेश तिवारी का मैहर कोतवाली टीआई देवेन्द्र प्रताप सिंह ने कस्बे में जुलूस निकाला, ताकि आरोपी को स्थानीय लोग पहचान लें। जब पुलिस आरोपी को कस्बा से लेकर जा रही थी तो आरोपी ने पुलिस का घेरा तोड़ भागने का प्रयास किया।

Show More
suresh mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned