सांसद-विधायकों के साथ नहीं हो रहा शिष्टाचार का पालन, हर बार हो रही अवहेलना, फिर आया ये आदेश

2001 से अब तक 15 आदेश जारी: 16वीं बार सामान्य प्रशासन विभाग ने जारी किया आदेश, कलेक्टर ने एसपी सहित सभी संबंधितों को जारी किए निर्देश

By: Ramashanka Sharma

Updated: 04 Jan 2020, 12:46 AM IST

सतना/ संसद सदस्यों और विधायकों के पत्रों के जवाब और उनके साथ शिष्टाचार के पालन सहित शासकीय कार्यक्रमों में आमंत्रित करने के आदेश सामान्य प्रशासन विभाग 2002 से लगातार जारी कर रहा है। अब तक 15 बार इस संबंध में जीएडी ने आदेश जारी किए हैं लेकिन इसके बाद भी अपेक्षित स्थिति नहीं बन पा रही है।

लिहाजा अब सामान्य प्रशासन विभाग को सोलहवीं बार इस संबंध में आदेश जारी करने पड़े हैं। आदेश के बाद अब कलेक्टर सतेन्द्र सिंह ने पुलिस अधीक्षक सहित डीएफओ, निगमायुक्त, जिपं सीईओ, सभी कार्यालय प्रमुख, सभी एसडीएम और जनपद सीईओ को पत्र लिख कर शिष्टाचार का पालन करने के निर्देश दिए हैं।

ये है मामला
सामान्य प्रशासन विभाग ने 11 दिसंबर को शासन के सभी विभाग सहित कलेक्टर और जिपं सीईओ को पत्र लिख कर सांसदों और विधायकों के साथ शिष्टाचार पालन संबंधी गाईड लाइन जारी की है। इसमें कहा गया कि अब तक 15 बार समय समय पर सांसदों तथा विधायकों के पत्रों की पावती देने, उनके पत्रों पर कार्रवाई कर निर्धारित अवधि में उसका उत्तर देने, शासकीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा सौहाद्र्रपूर्ण व्यवहार करने तथा उन्हें सार्वजनिक समारोह व कार्यक्रमों में आमंत्रित करने के निर्देश जारी किए गए हैं लेकिन इन निर्देशों का संबंधितों द्वारा कड़ाई से पालन नहीं करने की सूचनाएं मिल रही हैं। इससे सासंदों और विधायकों को अपने कर्तव्यों के निर्वहन में असुविधा होती है और राज्य शासन की छवि पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।

अपनी सीट से उठकर स्वागत करें
सामान्य प्रशासन विभाग ने मामले में सभी संबंधितों को कहा कि अपेक्षा है कि जब भी सांसद अथवा विधायक किसी अधिकारी कर्मचारी से मिलने आते हैं तो संबंधित अधिकारी को अपनी सीट से उठकर उनका स्वागत करना चाहिए। साथ ही सांसद और विधायकों के साथ अपने व्यवहार में अधिकारियों को शिष्टाचार बरतना चाहिए। कलेक्टर से कहा गया है कि अधीनस्थ अधिकारियों के ध्यान में लाकर इसका कड़ाई से पालन कराएं।

कब-कब जारी हुए पत्र
सासंद विधायकों के साथ शिष्टाचार बरतने के पत्र सामान्य प्रशासन विभाग से 23.01.2001, 10.08.2004, 18.05.2007, 17.08.2009, 28.04.2010, 22.03.2011, 06.08.2012, 06.02.2014, 27.11.2015, 27.02.2017, 05.08.2017, 24.10.2017 और 19.07.2019 को जारी किये गए थे। इसमें 2017 का साल ऐसा रहा जब जीएडी को एक साल में तीन बार शिष्टाचार संबंधी पत्र जारी करना पड़ा।

Ramashanka Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned