वीमन के लिए वरदान साबित होगा रूटीन हेल्थ चेकअप

वीमन के लिए वरदान साबित होगा रूटीन हेल्थ चेकअप
National Women Health Checkup-Day

Jyoti Gupta | Publish: May, 13 2019 08:53:25 PM (IST) Satna, Satna, Madhya Pradesh, India

नेशनल हेल्थ चेकअप-डे: महिलाएं पहले से रहेंगी सजग, तो बीमारी रहेगी दूर

 

सतना. महिलाएं अपनी सेहत को परिवार के हर सदस्य से पीछे रखती हैं। वो बीमर होती हैं, उनको संकेत भी मिलते हैं पर परिवार, घर, दफ्तर, बच्चों की उम्मीदों को पूरा करने में इतनी मग्न होती हैं कि उन्हें खुद का ख्याल ही नहीं रहता। शहर की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. मीनाक्षी अग्रवाल कहती हैं कि महिलाएं खुद के साथ छलावा कर रही हैं। वे खुद को हमेशा हेल्दी ही मानती हैं। जबकि इसके दुष्परिणाम महिलाओं में दिखने लगे हैं। विंध्य क्षेत्र की महिलाएं थायराड, एनीमिया, शुगर, इंफेक्शन, कैशिल्यम और कैंसर जैसी बीमारियों जूझ रही हैं। हैरानी वाली बात यह है कि यदि समय रहते इन महिलाओं ने समय-समय पर चेकअप कराया होता तो आज इतनी गंभीर बीमारियों से खुद को बचा पाती। महिलाएं घर की नींव हैं। अगर उनकी सेहत बिगड़ गई तो फि र परिवार की देखभाल कौन करेगा। आज नेशनल वीमेन हेल्थ चेकअप डे है...। इसलिए जानें कि महिलाओं को हेल्थ चेकअप कराना क्यों जरूरी है:-

सेहत के बारे में पहले से चल जाता है पता
शहर के विशेषज्ञ कहते हैं कि हेल्थ चेकअप हर महिला को जरूर करवाना चाहिए। चेकअप से कई बीमारियों का उनकी सेहत पर मंडरा रहे खतरों का समय रहते पता लगाना आसान हो जाता है। चेकअप से बीमारी और हो चुकी बीमारी का समय रहते पता चल जाता है। तो मरीज को बेस्ट से बेस्ट ट्रीटमेंट देकर उसकी जिंदगी को सेफ कर दिया जाता है। लास्ट स्टेज पर पता चलने वाली गंभीर बीमारी से मरीज को बचाना मुश्किल हो जाता है। इसलिए हर महिला को समय समय पर हेल्थ चेकअप जरूर करवाना चाहिए।


साल में एक बार जरूर कराएं हेल्थ चेकअप

डॉक्टर का कहना है कि महिलाओं को लगता है कि गंभीर बीमारी ४० के बाद ही होती है पर एेसा नहीं है। अब अर्ली एज में भी महिलाओं को गंभीर बीमारियां होने लगी हैं। हर महिला को ३० साल के बाद साल में एक बार रूटीन हेल्थ चेकअप कराना चाहिए। इसके अंतर्गत हिमोग्लोबीन, यूरिन, थायराड, कैशिल्यम, एनीमिया, प्रोट्रीन, इसीजी, शुगर, माइग्रेन, स्किल एलर्जी, आई टेस्ट आते हैं। चालीस के बाद महिलाआें को एक या दो साल में कैंसर का चेकअप कराना चाहिए। खास कर उन घरों की महिलाओं को जहां पर पहले से ही कोई कैंसर या शुगर का मरीज रहा हो।

इन हेल्थ चेकअप को नहीं करें इग्नोर

ब्रेस्ट कैंसर की जांच
प्रेग्नेंसी के बाद या स्तनों में बदलाव नजर आने पर इनकी जांच कराना जरूर होता है। साल में 1 बार ब्रेस्ट टेस्ट करवाएं। इसके अलावा ब्रेस्ट कैंसर की जांच के लिए 1 से 2 साल में मेमोग्राफ ी करवाना जरूरी है।

गर्भाशय का हेल्थ टेस्ट

गर्भाशय से जुड़ी बीमारियों का समय रहते पता लगाने के लिए आप पेल्विक टेस्ट करवा सकती हैं। इस टेस्ट के जरिए कैंसर, फ ायब्रॉइड, सिस्ट और एसटीडी का समय पर पता लगाया जा सकता है।

दिल की सेहत
महिलाओं को दिल की सेहत का ख्याल जरूर रखना चाहिए। नियमित रूप से ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल का स्तर जरूर चेक करवाते रहना चाहिए।

शुगर की जांच

मोनोपॉज के बाद बढ़ता वजन महिलाओं को इस बीमारी की ओर धकेल सकता है। ऐसे में अगर शुगर नहीं है तो भी हर तीन महीने में एक बार यह टेस्ट करवा लेना चाहिए।

आंखों की सेहत भी है जरूरी
अक्सर महिलाएं यह सोचकर टेस्ट करवाना जरूरी नहीं समझती कि उनकी आंखें ठीक हैं। मगर आंखों से जुड़ी कोई प्रॉब्लम न होने पर भी इसका टेस्ट करवा लेना ही अच्छा है।

थायराड, एनीमिया, कैशिल्यम और यूरिनल इंफेक्शन
विंध्य क्षेत्र की महिलाएं थायराड, एनीमिया, कैशिल्यम और यूरिनल इंफेक्शन इन चार बीमारियों से सबसे अधिक ग्रसित होती हैं। इनका टेस्ट चेकअप सस्ता है। ब्लड और यूरिन से आसानी से इन बीमारियों के बारे में पता चल जाता है। इसलिए इस बीमारी का टेस्ट जरूर करवाएं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned