MP के इस जिले में महीने भर बाद भी कोरोना वायरस की जांच के पर्याप्त इंतजाम नहीं

-एक मेडिकल कॉलेज पर दो-दो संभाग का भार
-जिला अस्पातल से 4-4 दिन के नमूनों की नहीं आई रिपोर्ट

By: Ajay Chaturvedi

Published: 01 May 2020, 01:56 PM IST

सतना. कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर देश में लॉकडाउन घोषित हुए महीने भर से ज्यादा गुजर चुके हैं। केंद्र से लेकर राज्य सरकारों तक की ओर से इस वैश्विक महामारी से निबटने के तमाम दावे किए जा रहे हैं। लेकिन हकीकत उन दावों से इतर है। आलम यह कि इस रोग का पता कैसे चले, ये कैसे मालूम हो कि कौन कोरोना पॉजिटिव है और कौन निगेटिव इसका ही ठिकाना नहीं है। यानी अब तक जांच के ही पर्याप्त इंतजाम नहीं हो सके हैं।

कोरोना वायरस के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए सफाई, शारीरक दूरी के साथ जांच सबसे जरूरी माना गया है। जांच से ही तो यह पता चलेगा कि कौन कोरोना पॉजिटिव है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही संबंधित को क्वारंटीन किया जाएगा या उसे अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भेज कर इलाज होगा। जांच रिपोर्ट के आधार पर ही इलाके को हॉटस्पॉट घोषित किया जाएगा। लेकिन उसी का पर्याप्त इंतजाम नहीं है।

अब सतना का ही उदाहरण लें तो यहां कोरोना संदिग्द्धों की जांच का दायित्व रीवा मेडिकल कॉलेज पर है। रीवां मेडिकल कॉलेज पर दो संभाग के नमूनों के जांच का भार है। ऐसे में जांच में तीन से चार दिन लग रहे हैं। अब तो मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने कह दिया है कि जिनकी जांच ज्यादा जरूरी हो उनके ही नमूने भेजे जाएं।

इस बाबत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे के मद्देनजर ज्यादा से ज्यादा लोगों की सैंपलिंग कराई जा रही है। लेकि जांच केंद्रों में बैकलॉग बढ़ने से रिपोर्ट आने में विलंब हो रहा है। तीन से चार दिन लग रहे हैं। जांच में देरी से संदिग्ध रोगी की पहचान करने से लेकर अन्य सावधानियां बरतने में भी देर हो रही है जो बड़ी चूक का कारण बन सकती है।
बता दें कि रीवा मेडकल कॉलेज मे 21 अप्रैल से कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों के थ्रोट सैपल की जांच शुरू हुई। रीवा डिवीजन के सतना, सीधी, सिंगरौली के अलावा शहडोल, संभाग के जिलों के संदिग्ध मरीजों से नमूने भी यहीं भेजे जा रहे हैं। ऐसे में यहां रोजाना 50-60 नमूने आ रहे हैं जबकि स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि लैब में एक दिन में अधिकतम 30 नमूनों की ही जांच हो सकती है। ऐसे में बैकलॉग लाजमी है।

उधर जिला अस्पताल में सोमवार से भेजे जा रहे नमूनों की जांच रिपोर्ट गुरुवार तक नहीं आ पाई थी। यहां पिछले चार दिन में 34 संदिग्धों के नमून भेजे गए थे जिसमें से एक की भी रिपोर्ट नहीं आ पाई।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned