तीन अधिकारियों की प्लानिंग ने 11 फीसदी बढ़ा दिया सतना में 12वीं का रिजल्ट

सतना जिला 18 पायदान ऊपर चढ़ कर प्रदेश में 29वें स्थान पर पहुंचा

सरकारी विद्यालयों का रिजल्ट प्राइवेट की तुलना में 7 फीसदी ज्यादा रहा

प्रदेश में अकेले रीवा संभाग का रिजल्ट बढ़ा

 

 

By: Ramashanka Sharma

Updated: 28 Jul 2020, 10:38 AM IST

सतना। गत वर्ष के बोर्ड परीक्षा परिणामों की शर्मनाक स्थिति के बाद इस बार सतना जिले ने 12वी परीक्षा के रिजल्ट में शानदार वापसी की है। गत वर्ष के परीक्षा परिणामों में सतना जिले ने 11 फीसदी की बढ़ोत्तरी हासिल की है। इसी तरह से प्रदेश की रैंकिंग में भी सतना गत वर्ष से 18 पायदान उपर चढ़कर 29वें स्थान पर पहुंच गया है। शैक्षणिक व्यवस्थाओं की बात करें तो इस बार सरकारी विद्यालयों ने प्राइवेट विद्यालयों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया है। सरकारी विद्यालयों का रिजल्ट इस बार प्राइवेट विद्यालयों से 7 फीसदी ज्यादा रहा। संभागवार परिणामों की स्थिति देखें तो प्रदेश में अकेला रीवा संभाग है जिसका रिजल्ट गतवर्ष की तुलना में बढ़ा है। शेष सभी संभागों में परिणाम गतवर्ष की तुलना में नीचे आए हैं।

इसलिये सुधरा सतना का परिणाम

गत वर्ष जिस तरीके से सतना जिले के परीक्षा परिणाम आए थे और प्रदेश में जिले की काफी खराब स्थिति थी उसे तीन अधिकारियों ने चैलेंज के रूप में लिया। खुद रीवा संभागायुक्त डॉ अशोक भार्गव, जिपं सीईओ ऋजु बाफना और संयुक्त संचालक स्कूल शिक्षा अंजनी त्रिपाठी ने तमाम नवाचार किये। जिपं सीईओ बाफना ने शिक्षकों की कमी को मोबाइल शिक्षकों से पूरा किया। इतना ही नहीं जिले में औचक तौर पर विद्यालयों में परीक्षा ली जाकर उनकी उत्तर पुस्तिकाएं जिले में जांची गई। इसका असर यह रहा कि शिक्षकों ने पठन पाठन में रुचि दिखाई। जिन विद्यालयों के परिणाम अच्छे आए वहां के शिक्षकों को भी सम्मानित किया गया जिससे उनका उत्साह वर्धन भी हुआ। इसका परिणाम यह रहा कि इस बार जिले का रिजल्ट 10.55 फीसदी बढ़ा। गतवर्ष जिले का परिणाम 59.46 फीसदी था जो इस बार बढ़ कर 70.01 फीसदी पर पहुंचा।

संभाग में सबसे ज्यादा बढ़ोत्तरी सतना जिले में

बारहवी के परीक्षा परिणामों की स्थिति देखें तो संभाग में सतना ने सबसे ज्यादा बढ़ोत्तरी की है। वहीं रीवा इकलौता जिला रहा जिसका परीक्षा परिणाम गत वर्ष की तुलना में नीचे आया है। नीचे देखे अंतर

जिला - वर्ष 2019 - इस वर्ष 2020 - अंतर - रिमार्क

सतना - 59.46 - 70.01 - 10.55 - बढ़ा

सिंगरौली - 64.55 - 73.11 - 8.56 - बढ़ा

सीधी - 70.79 - 74.90 - 4.11 - बढ़ा

रीवा - 65.49 - 62.22 - (-)3.27 - घटा

सरकारी स्कूल प्राइवेट से आगे रहे

इस साल के 12वीं बोर्ड के परिणामों की स्थिति पर गौर करें तो संभाग में रीवा इकलौता ऐसा जिला रहा जहां प्राइवेट विद्यालयों का परिणाम सरकारी से बेहतर रहे। शेष सतना, सीधी व सिंगरौली में सरकारी विद्यालयों का परीक्षा परिणाम प्राइवेट विद्यालयों से काफी बेहतर रहा। देखे नीचे स्थिति एक नजर में

जिला - सरकारी विद्यालय - प्राइवेट स्कूल - स्थिति

सतना -71.19 - 65.34 - 6.65 फीसदी आगे

सीधी - 76.36 - 69.46 - 6.11 फीसदी आगे

सिंगरौली - 74.96 - 65.02 - 10.94 फीसदी आगे

रीवा - 62.00 - 62.52 - 0.52 फीसदी पीछे

प्रदेश में रीवा संभाग ने लहराया परचम

12वीं के परिणामों की अगर संभागवार स्थिति देखें तो प्रदेश में इस बार रीवा संभाग ने अपना परचम लहरा दिया है। इकलौता रीवा संभाग ऐसा रहा जहां का परीक्षा परिणाम गत वर्ष की तुलना में बढ़ा है। यह बढ़ोत्तरी 3.98 फीसदी रही। गत वर्ष 2019 में रीवा संभाग का परिणाम 64.45 फीसदी रहा जो इस बार बढ़कर 68.43 फीसदी हो गया। शेष अन्य सभी संभागों में परीक्षा परिणाम गतवर्ष की तुलना में घटा है। उज्जैन संभाग में परिणाम 7.8 फीसदी घटा, इंदौर में 2.38 फीसदी घटा, भोपाल में 4.8 फीसदी घटा, जबलपुर में 5.19 फीसदी घटा, सागर में 3.57 फीसदी घटा और ग्वालियर संभाग में परिणाम 5.23 फीसदी घटा।

सीधी ने लगाई बड़ी छलांग

गत वर्ष सतना जिले प्रदेश में 47वें स्थान पर था लेकिन इस बार 29वें स्थान पर रहा। अर्थात जिले का स्थान 18 पायदान ऊपर आया। रीवा जिला गत वर्ष 42वें स्थान पर था जो इस बार 3 स्थान और नीचे गिरकर 45वें स्थान पर अटका। सीधी जिला गत वर्ष 36वें स्थान पर था जो इस बार 23 पायदान ऊपर चढ़ कर 13वें स्थान पर आया है। सिंगरौली गत वर्ष 44वें स्थान पर था जो इस बार 14 पायदान ऊपर आकर प्रदेश में 20वीं रैंक हासिल किया है।

Ramashanka Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned