आदिवासियों ने किया कोटर थाने का घेराव, कहा- TI मैडम नंबर बढ़ाने के लिए कर रही फर्जी कार्रवाई

आदिवासियों ने किया कोटर थाने का घेराव, कहा- TI मैडम नंबर बढ़ाने के लिए कर रही फर्जी कार्रवाई

Suresh Kumar Mishra | Publish: Nov, 10 2018 07:29:54 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 07:29:55 PM (IST) Satna, Madhya Pradesh, India

कोटर थाना क्षेत्र के अबेर गांव का मामला, 320 पाव शराब जब्ती का मुकदमा हुआ था कायम, पुलिस ने कहा-आरोपी को बचाने के लिए ग्रामीण बना रहे दवाब

सतना। कोटर थाने की पुलिस पर अबेर गांव के आदिवासियों ने गंभीर आरोप लगाए हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस अपने नंबर बढ़ाने के लिए फर्जी कार्रवाई करते हुए बेगुनाहों को जेल भेज रही है। थाने का घेराव करने पहुंचे लोगों ने बताया कि कोटर थाना प्रभारी निरीक्षक सरिता बर्मन ने अजय आदिवासी (25) के कब्जे से 320 पाव देशी शराब बरामद करना बताते हुए आबकारी एक्ट 34/2 की कार्रवाई की थी। ग्रामीणों ने कार्रवाही को फर्जी बताया है। इस मामले में डीएसपी हेडक्वार्टर प्रभा किरण किरो का कहना है कि ग्रामीण पुलिस पर दवाब बनाने के लिए थाने आए थे। जिनको समझाइश देकर घर लौटा दिया गया है। आरोपी बहुत पहले से शराब बेचता था। चुनाव के मद्देनजर जहां अवैध शराब की शिकायत मिल रही है पुलिस निष्पच्छ कार्रवाई कर रही।

क्या है मामला
पुलिस के अनुसार, मुखबिर से सूचना मिलने के बाद थाना प्रभारी निरीक्षक सरिता वर्मन के नेतृत्व में एसआई अजय शुक्ला, आरक्षक मुकेश सिंह व चालक दिनेश की मदद से दबिश दी गई। घेराबंदी करते हुए अबेर से आरोपी अजय आदिवासी पुत्र मोहन लाल (२५) निवासी अबेर को गिरफ्त में लेकर इसके कब्जे से 320 पाव सादी देशी मदिरा जब्त की गई। इस मामले में आरोपी के खिलाफ आबकारी अधिनियम की धारा 34 (2) के तहत कार्रवाई की गई थी।

ये है महिलाओं का आरोप
अबेर गांव की महिलाओं ने कहा कि टीआई मैडम बुधवार को एक समझौते का बहाना बनाकर अजय आदिवासी को घर से उठा ले गई। लेकिन थाने पर लाने के बाद आबकारी अधिनियम की धारा लगाकर गुरुवार को सोशल मीडिया में जानकारी जारी करा दी। जबकि पुलिस ने आपसी समझौते के लिए थाने पर बुलाया था। फिर केस हल्का करने के लिए 6000 हजार रुपए की मांग की गई। पीडि़त गरीब होने के कारण पैसे नहीं दिया तो आबकारी एक्ट की धारा 34 (2) का केस बनाकर जेल भेज दिया गया। जब ग्रामीणों को पूरे मामले की जानकारी हुई तो शनिवार की सुबह थाना घेराव करने पहुंचे। जबकि पुलिस विभाग के जिम्मेदारों ने ग्रामीणों के विरोध की जानकारी मिलने पर थाने की ओर रुख नहीं किया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned