सैंया भए कोतवाल में भावपूर्ण अभिनय की प्रस्तुति

सैंया भए कोतवाल में भावपूर्ण अभिनय की प्रस्तुति
Presentation of emotional acting at Sania Bhaya Kotwal

Jyoti Gupta | Publish: Jan, 27 2019 09:54:11 PM (IST) Satna, Satna, Madhya Pradesh, India

लोकरंग समिति द्वारा आयोजित तीन दिवसीय नाट्य समारोह रंग रिवोल्यूशन का समापन

सतना. लोकरंग समिति द्वारा आयोजित तीन दिवसीय नाट्य समारोह रंग रिवोल्यूशन का सफ ल समापन नाटक सैंया भए कोतवाल के साथ हुआ। इस तीन दिवसीय रंग रिवॉल्यूशन में कई नाटक मंडली ने एक से बढ़ कर प्रस्तुतियां दी। आयोजन की आखरी शाम रंगों और भाव से लबरेज रही। पहली प्रस्तुति अमितेश सेन का एकल अभिनय मिस्टर गमईहा का मंचन हुआ। जिसमें बघेली बोली की मिठास सुनने की मिली। दूसरी प्रस्तुति सैंया भए कोतवाल भावपूर्ण अभिनय चुटकीले संवादों, रंगीले वस्त्र विन्यास, लोक गायकी और नौटंकी शैली को मंच पर अनवरत बिखेरती रहीं। सैंया भए कोतवाल में हवलदार की भूमिका में शुभम बारी, कोतवाल की भूमिका में द्वारिका दहिया और मेघना पंचाल ने मैनावती के रूप में खूब तालियां बटोरी। साथी कलाकार अक्षय वलेजा, रोहित खिलवानी, पायल गुप्ता, अविनाश सोनी, प्रियांशु सोनी, शुभम जैन, अमितेश जैन, देवेंद्र प्रताप वर्मा ने अपने किरदारों को बखूबी निभाया। इन सभी कलाकारों को एक सूत्र में पिरोने का काम किया नाटक के निर्देशक द्वारिका दहिया ने । नाटक का संगीत मनीष दुबे और सविता दहिया ने तैयार किया। जिसमें सहयोगी दिव्यांश, शारदा या पूजा सेन पुष्पेंद्र पांडे, विकी विश्वकर्मा एवं अमित शुक्ला रहे। नाटक अवलोकन के लिए साहित्यकारों एवं रंग प्रेमियों का समूह एकत्र हुआ। नाटक के मध्यांतर रंग दर्शक सम्मान से सभाजीत शर्मा को सम्मानित किया गया। समापन समारोह के मुख्य अतिथि डॉक्टर छाया श्रीवास्तव एवं विशिष्ट अतिथि नारायण पांडे, संतोष मणि, शिरीष पांडे रहे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned