रैगांव उपचुनावः विरासत के लिये बगावत, रानी भी मोर्चे पर

जुगुल के दोनों बेटे एक साथ आए पर्चा लेने, रानी बोली चुनाव लड़ा जाएगा

 

By: Ramashanka Sharma

Updated: 08 Oct 2021, 12:10 AM IST

सतना. भाजपा की टिकिट घोषित होते ही पार्टी दावेदारों में बगावत के कई मोर्चे खुल गए। सबसे ज्यादा बागी तेवर तो स्व. विधायक जुगुलकिशोर बागरी के बेटों में ही देखने को मिले। विधायक पिता जुगुल की विरासत को बचाए रखने के लिये दोनों बेटे पुष्पराज और देवराज ने पारिवारिक कलह को ताक पर रख जहां एक साथ संयुक्त कलेक्ट्रेट पर्चा लेने पहुंचे। पुष्पराज ने अपने छोटे भाई देवराज को पर्चा दिलवाया। साथ ही पार्टी नेतृत्व के टिकिट वितरण पर तल्ख असंतोष भी जताया। टिकिट की प्रबल दावेदार मानी जा रही रानी बागरी ने भी बगावत का बिगुल फूंकते हुए पर्चा लेने पहुंची और खुल कर कहा कि इस बार चुनाव लड़ा जाएगा। उधर टिकिट की घोषणा के बाद भाजपा प्रत्याशी प्रतिमा बागरी भी अपना नामांकन फार्म लेने पहुंची। गुरुवार को नामांकन फार्म लेने वालों की कुल संख्या पांच रही।

हम तमाशा देखने नहीं आए हैं : रानी

गुरुवार को सबसे पहले भाजपा पार्टी से टिकिट की दावेदार रही रानी बागरी ने टिकिट की घोषणा के कुछ ही घंटे बाद बगावत का ऐलान किया और सीधे पर्चा लेने कलेक्ट्रेट पहुंच गईं। नामांकन फार्म लेने से पहले उन्होंने कहा कि वे तमाशा देखने नहीं आईं है। स्पष्ट किया कि लड़ाई की यह शुरुआत है। शुक्रवार को सीएम के सतना पहुंचने के सवाल पर कहा कि कल का कल देखेंगे। हमारा पहले से तय था कि नवदुर्गा की शुरुआत के साथ ही पर्चा लेंगे। कहा, पर्चा देखने या रद्दी में डालने के लिये नहीं ले रहे बल्कि जमा भी करेंगे। यह भी बोलीं कि नामांकन वापस नहीं लिया जाएगा बल्कि चुनाव लड़ा जाएगा।

भाजपा प्रत्याशी को कोई पहचानता नहीं : पुष्पराज

छोटे भाई देवराज के साथ पर्चा लेने पहुंचे पुष्पराज ने कहा कि भाजपा की टिकिट घोषित होने के बाद मैं आश्चर्यचकित हूं क्योंकि सर्वे में मेरा नाम सबसे ऊपर था और कल तक पार्टी से मुझे तैयारी के लिये कहा गया। लेकिन सर्वे को झुठलाते हुए पार्टी ने यह कदम उठाया। 20 साल से लगातार मैं क्षेत्र में काम करता रहा। जिस नये उम्मीदवार को लाया गया है आज लोग पूछ रहे हैं कि ' यह है कौन...' । अब कार्यकर्ता साथियों के साथ बैठकर आगे का निर्णय लिया जाएगा। हम पहले नामांकन फार्म ले चुके हैं। आज देवराज ने पर्चा लिया है। हमारे बीच कोई पारिवारिक कलह नहीं है। उन्होंने भाजपा छोडऩे की बात से भी स्पष्ट इंकार किया।

जनता विकास चाहती है, इसे आगे बढाएंगे : प्रतिमा

भाजपा प्रत्याशी के तौर पर पर्चा लेने पहुंची प्रतिमा बागरी टिकिट वितरण के बाद किसी भी तरह के विरोध से इंकार करते हुए कहा कि किसी भी दावेदारों में विरोध नहीं है। पुष्पराज और देवराज को लेकर कहा कि वो हमारा परिवार है और वे हमारे चाचा है। वे भरपूर तरीके से मेरा समर्थन करेंगे और साथ में खड़े रहेंगे। बताया कि भाजपा ने रैगांव में विकास किया है और वे इसे और आगे बढ़ाएंगे। जो काम रुके हैं उन्हें पूरा किया जाएगा। अपनी जीत का दावा करते हुए उन्होंने कहा कि वे महिला शिक्षा और महिला सशक्तिकरण के मुद्दे को लेकर मैदान में उतरेंगी।

इन लोगों ने लिया पर्चा

गुरुवार को कुल पांच लोगों ने नामांकन फार्म खरीदे। इनमें रामगरीब चौधरी, प्रतिमा बागरी, रानी बागरी, नंदकिशोर प्रजापति और देवराज बागरी शामिल है।

सामने आई एक नई कल्पना

नामांकन फार्म लेने की समय सीमा के बाद एक युवती नामांकन फार्म लेने पहुंची। यहां उसने अपना नाम कल्पना वर्मा बताते हुए फार्म दिये जाने की बात कही। समय गुजर चुका था लिहाजा उन्हें पर्चा नहीं लिया। इधर यह जानकारी आरओ तक पहुंची तो उन्होंने कहा कि कल्पना तो पर्चा ले जा चुकी हैं। इसके बाद उन्हें आरओ कक्ष में बुलाया गया। नाम पूछने पर उसने अपना नाम कल्पना वर्मा ही बताया लेकिन वे कांग्रेस प्रत्याशी कल्पना नहीं थी। उन्हें बताया गया कि आज समय हो चुका है। अब कल आप फार्म ले सकती हैं और भर सकती है। इसके बाद कल्पना वहां से चली गईं।

Ramashanka Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned