scriptRailway had given the contract for parking of two stations to the croo | रेलवे ने बदमाश को दे रखा था दो स्टेशन की पार्किंग का ठेका, पुलिस ने किया है गिरफ्तार | Patrika News

रेलवे ने बदमाश को दे रखा था दो स्टेशन की पार्किंग का ठेका, पुलिस ने किया है गिरफ्तार

पार्किंग ठेकेदार है भगोड़ा बदमाश, गिरफ्तारी होते ही रद्द कर दिए ठेके

सतना

Published: January 11, 2022 04:29:56 pm

सतना. पश्चिम मध्य रेल जबलपुर मंडल के सतना व मेहर रेलवे स्टेशन में वाहन पार्किंग का ठेका एक बदमाश चला रहा था। बताया गया कि इस बदमाश को पांच साल की सजा पड़ने के बाद से वह फरार हो गया था। दो दिन पहले जब मंडला पुलिस ने आरोपी को पकड़ा तो रेलवे को सुध आई कि उसने जिस ठेकेदार अमित खम्परिया को लाखों का ठेका दे रखा है, उसके खिलाफ कई थानों में आपराधिक प्रकरण दर्ज हैं। की गिरफ्तारी होते ही ठेका रदृव कर दिया है।

capture.png

मंडल रेल प्रबंधक वाणिज्य ने ठेकेदार अमित खम्परिया पिता एपी खम्परिया निवासी जबलपुर का सतना व मेहर स्टेशन में चल रहे सालाना के करीब 68 लाख के वाहन पार्किंग ठेके निरस्त कर दिया है। ठेकेदार खम्परिया को नोटिस देकर 7 दिन के अंदर काम समेटने को कहा गया है। बताया गया कि जबलपुर में एक सामाजिक संगठन का स्वयं अध्यक्ष और टोल सहित कई तरह के ठेके चलाने वाला अमित खम्परिया को किसी वसूली मामले में पांच वर्ष की सजा सुनाई गई थी तब से वह फरार चल रहा था।

सतना जंक्शन के पश्चिमी और पूर्वी छोर में चल रही वाहन पार्किंग के ठेके को रद्द कर दिया है। 10 जनवरी को जारी नोटिस में रेलवे ने कहा कि पश्चिम और पूर्वी छोर के साइकल, स्कूटर, कार का ठेका निरस्त कर दिया गया है। पूर्वी क्षेत्र में 55 लाख 88 हजार 888 और पश्चिमी छोर का 6 लाख 88 हजार 388 का ठेका था। पूर्वी क्षेत्र का ठेका 16 अक्टूबर 2019 से 15 अक्टूबर 2023 तक और पश्चिमी क्षेत्र 12 अगस्त 2019 से 11 अगस्त 2024 तक का था। इसी तरह मैहर स्टेशन में 5 लाख 51 हजार 888 का ठेका था जो कि 16 अक्टूबर 2018 से 15 अक्टूबर 2023 तक था।

अवैध वसूली पर नहीं
ठेकेदार ने सतना व मैहर में पार्किंग कर्मचारियों के साथ कुछ गुर्गे भी लगा रखे हैं, जो वाहन मालिकों से अवैध वसूली करते थे। लंबे अरे तक 5 रुपए की रसीद पर 6 रुपये व टाइमिंग में गड़गड़ कर वाहन चालकों से मनमानी वसूली की जाती रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.