इस एक मंत्र में है पूरी रामायण का सार, रोजाना सुबह ऐसे करें मंत्रोच्चार

इस एक मंत्र में है पूरी रामायण का सार, रोजाना सुबह ऐसे करें मंत्रोच्चार

By: suresh mishra

Updated: 28 Apr 2019, 03:08 PM IST

सतना। हिन्दू धर्म में भगवान श्रीराम से संबंधित अनेक ग्रंथों व पुराणों की रजना की गई है। जिसमें जन्म, विवाह, वनवास, अयोध्या आगमन, रामराज्य आदि के बारे में वर्णन किया गया है। लेकिन भक्त उन सभी में महर्षि वाल्मीकि द्वारा लिखी गई रामायण को सबसे सटीक मानते है। वहीं गोस्वामी तुलसीदासजी द्वारा रचित श्रीरामचरित मानस (हिन्दी संस्करण) वर्तमान समय में सबसे ज्यादा प्रचलित है। आज की भाग-दौड़ वाली जिंदगी में किसी के पास भी इतना समय नहीं है कि वह इन ग्रंथों को पढ़ सके। मैहर के ज्योतिषाचार्य पं. मोहनलाल द्विवेदी के अनुसार, ऐसी स्थिति में नीचे लिखे एक मंत्र का रोज विधि-विधान से जाप करने से संपूर्ण रामायण पढऩे का फल मिल सकता है। इस मंत्र को एक श्लोकी रामायण भी कहते हैं। इस मंत्र के जाप से सभी तरह की परेशानियां खत्म हो जाती हैं। भक्तों के घर में खुशहाली आती है। भगवान श्रीराम श्रद्धालुओं को मनचाहा वरदान भी देते है।

ये है मंत्र
आदि राम तपोवनादि गमनं, हत्वा मृगं कांचनम्।
वैदीहीहरणं जटायुमरणं, सुग्रीव संभाषणम्।।
बालीनिर्दलनं समुद्रतरणं, लंकापुरीदाहनम्।
पश्चाद् रावण कुंभकर्ण हननम्, एतद्धि रामायणम्।।

ये है मंत्र जाप की संपूर्ण विधि
- सुबह ब्रह्म मुहूर्त पर सबसे पहले उठे, फिर स्नान करें।
- साफ वस्त्र धारणकर भगवान श्रीराम की पूजा करें।
- भगवान श्रीराम के चित्र के सामने आसन लगाकर रुद्राक्ष की माला लेकर इस मंत्र का जाप करें।
- प्रतिदिन पांच माला जाप करने से हर परेशानी समाप्त हो सकती है।
- आसन कुश का हो तो ज्यादा अच्छा रहता है।
- रोज एक ही समय पर, एक ही आसन पर बैठकर और एक ही माला से मंत्र जाप किया जाए तो यह मंत्र जल्दी ही सिद्ध हो सकता है।
- इस मंत्र के जाप से संपूर्ण रामायण पढऩे का फल मिलता है।
- कोशिश करें कि मंत्र जाप करने के बाद हवन भी करें।
- मर्यादा पुरुषोत्तम की तहर सबका सम्मान करें।
- मीठी वाणी बोलें। श्लोक में भी कहा गया है कि, ऐसी वाणी बोलिये मन का आपा खोए और को शीतल मिलय आपहूं शीतल हो गए।

Show More
suresh mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned