बिड़ला सीमेंट का गोद लिया गांव बदहाल, देखिए किस तरह ग्रामीणों का फूटा आक्रोश

बिड़ला सीमेंट का गोद लिया गांव बदहाल,  देखिए किस तरह ग्रामीणों का फूटा आक्रोश

Suresh Kumar Mishra | Publish: Nov, 15 2017 03:47:25 PM (IST) | Updated: Nov, 15 2017 05:25:37 PM (IST) Satna, Madhya Pradesh, India

कंपनी प्रबंधन ने प्रशासन को उल्टा जानकारी देकर किया ग्रामीणों से धोखा, एक-एक बूंद पानी को मोहताज ग्रामीण

सतना। मध्यप्रदेश के सतना शहर से लगा बठिया गांव इन दिनों मूलभूत सुविधाओं को मोहताज है। कहने को तो बिड़ला कंपनी ने गांव को गोद लेकर तमाम सारे विकास का दावा कर रही है लेकिन मौके पर कुछ नहीं है। हालात ये है कि ग्रामीण एक-एक बूंद पानी को मोहताज है। कंपनी के बेल्ट के नीचे पूरा गांव बसा है इसलिए प्रदूषण चरम पर है।

धुंध-धुआं के कारण सांस लेना मुश्किल हो रहा है। मूलभूत मांगों को लेकर बुधवार की सुबह 11 बजे ग्रामीण शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे है। प्रदर्शन की सूचना पर तहसीलदार रघुराज नगर बीके मिश्रा सहित भारी संख्या में पुलिसबल मौके पर पहुंच चुका है। वरिष्ठ अधिकारियों ने कार्रवाई का आश्वासन दिया है फिर भी प्रदर्शनकारी मौके पर डटे हुए है।

आक्रोश बिरला फैक्ट्री प्रबंधन के खिलाफ
बठिया के ग्रामीणों का आक्रोश बिरला फैक्ट्री प्रबंधन व जिला प्रशासन के खिलाफ है। जिला प्रशासन के समक्ष बिरला सीमेंट फैक्ट्री ने बठिया गांव को गोद लिया था। जहां सीएसआर मद से काम कराने थे, लेकिन गांव में विकास के कोई भी कार्य आज तक नहीं कराए गए। इससे नाराज लोग धरना-प्रदर्शन कर रहे है। प्रदर्शनकारियों ने बताया कि कंपनी ने प्रशासन को गलत जानकारी दे दी कि श्मसान उन्नयन, बाठिया अहरी कला रोड निर्माण और पेयजल व्यवस्था करा दी है। जबकि हकीकत में कुछ भी नहीं किया गया है।

तहसीलदार को बताई असलियत
मौके पर पहुंचे तहसीलदार बीके मिश्रा को प्रदर्शनकारियों ने ज्ञापन दिया। ग्रामीणों ने ज्ञापन के बाद मौका-मुआयना कराकर क्षेत्र की असलियत बताई। तहसीलदार ने ग्रामीणों के समक्ष कार्रवाई का आश्वासन दिया है। कहा है कि आपकी मांगों पर जल्द गौर किया जाएगा। कंपनी प्रबंधन से सीएसआर में किए गए कार्यों की जानकारी ली जाएगी। गलत जानकारी देने पर कानूनी कार्रवाई भी जिला प्रशासन करेगा। गोद लिए गांव के वादों के मुताबिक बिरला कंपनी को विकास करना होगा।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned