एसडीएम की सुनाई ऑडियो क्लिप, बोल रहे थे-मैं तुम्हें औकात दिखा दूंगा

बैठक: कलेक्टर की नसीहत-सख्ती से काम करें और उपार्जन गतिविधियों पर निगरानी

By: suresh mishra

Published: 03 Jan 2020, 11:54 AM IST

सतना/ 'तुमको समझ नहीं आता है, मैं तुम्हें औकात दिखा दूंगा...' कुछ इस तरह की ऑडियो क्लिप कलेक्टर सतेंद्र सिंह ने राजस्व अधिकारियों की बैठक में सबके सामने माइक पर सुनाई, जो एक अनुविभागीय अधिकारी की थी। इसके बाद कलेक्टर ने संबंधित अधिकारी से कहा कि ये आपकी भाषा है। क्या ऐसी भाषा आपके पद के अनुकूल है? अधिकारियों को अपनी भाषा संयमित रखनी चाहिए। फटकार के साथ ही कलेक्टर की यह अन्य अधिकारियों के लिये नसीहत भी थी कि वे अपनी भाषा संतुलित और संयमित रखें। बैठक में कलेक्टर ने राजस्व, आजाक, खनिज और धान उपार्जन की समीक्षा की।

उन्होंने इन दिनों चल रहे धान उपार्जन के संबंध में संबंधित अधिकारियों से कहा कि पाया जा रहा कि अधिकारी धान खरीदी को लेकर गंभीर नहीं हैं। इसलिए वे अपने संबंधित क्षेत्र में उपार्जन गतिविधियों की निगरानी करें। आफिस में बैठकर खानापूर्ति न करें। उपार्जन के दौरान भंडारण और परिवहन पर विशेष नजर रखें। इसकी नियमित तौर पर मुझे भी जानकारी दें। धान उपार्जन केन्द्रों का संबंधित अनुविभागीय अधिकारी सतत भ्रमण कर समस्या एवं प्रगति से प्रतिदिन अवगत कराना सुनिश्चित करें। बैठक में धान उपार्जन के लिए शेष बचे दो उपार्जन केन्द्रों नयागांव खुटहा एवं भाजीखेरा को शीघ्र प्रारंभ कराने के निर्देश जिला खाद्य अधिकारी को दिए।

12 फीसदी वसूली
राजस्व वसूली की स्थिति काफी कमजोर मिली। जिले में कुल वसूली 10.94 करोड़ होनी है। इसके विरुद्ध अभी तक महज 1.38 करोड़ की ही वसूली हो सकी है जो लक्ष्य की 12.62 फीसदी है। अभी 95621035 रुपए की वसूली होनी शेष है। राजस्व अधिकारियों को वसूली में ध्यान देने के निर्देश दिए गए। समीक्षा में पाया गया कि जिले में चल रहे अलग अलग प्रोजेक्ट के तहत 6 हजार से ज्यादा हितग्राहियों को मुआवजा की राशि दी जा चुकी है लेकिन अभी भी 24 के लगभग हितग्राहियों को 55.19 करोड़ रुपए का भुगतान लंबित है।

दो लिपिकों को किया निलंबित
नागौद के नायब तहसीलदार जसो ने अपने यहां के लिपिक रामाश्रय रावत के संबंध में जानकारी दी कि वह पीठासीन के सामने प्रकरण प्रस्तुत नहीं करता है। इस पर कलेक्टर ने इस मामले में प्रतिवेदन चाहा। इस पर कलेक्टर ने तत्काल प्रभाव से संबंधित लिपिक को निलंबित करने के आदेश दिए। इसी तरह कोटर तहसील के लिपिक दयाशंकर कोल को बिना सूचना अनुपस्थित रहने पर निलंबित कर दिया है।

वनाधिकार पट्टों की फीडिंग में तेजी लाएं
कलेक्टर ने वनाधिकार पट्टों की फीडिंग की भी समीक्षा की। विकासखंडवार जानकारी ली और पाया कि कुछ विकासखंडों में फीडिंग की गति धीमी है। जिम्मेदारों से कहा कि इस मामले में गंभीरता से ध्यान दें और फीडिंग में तेजी लाएं। जाति प्रमाण पत्रों के वितरण में तेजी लाने के निर्देश दिए तो पात्रता पर्ची सत्यापन का कार्य शीघ्र पूरा कराने के निर्देश सभी अनुविभागीय अधिकारियों और तहसीलदारों को दिये। अभी पात्रता पर्ची सत्यापन के मामले में सतना जिला प्रदेश में 48 वें स्थान पर है।

suresh mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned