scriptSatna farmer's cow crazy Australia | Satna के किसान की गाय का दीवाना ऑस्ट्रेलिया | Patrika News

Satna के किसान की गाय का दीवाना ऑस्ट्रेलिया

उदयभान ने खेती.किसानी से बचे समय को कला में बिताया

 

सतना

Published: February 26, 2022 02:35:58 am

सतना. जिले में हुनरबाजों की कमी नहीं। हमारे एक ऐसे ही हुनरबाज की प्रतिभा का कायल ऑस्ट्रेलिया हुआ है। इस किसान कलाकार द्वारा बनाई गई गाय ऑस्ट्रेलिया के जॉन कार्टिन यूनिवर्सिटी की गैलरी की शोभा बढ़ा रही है। हम बात कर रहे हैं मैहर के बठिया गांव निवासी उदयभान सिंह की। ये देश के इकलौते कलाकार हैं जिन्होंने सिरेमिक क्रॉफ्ट में ऑस्ट्रेलिया और थाईलैंड की इंटरनेशनल मैग्जीन में जगह बनाई है।
Uday singh
Satna art ichol
बचपन से कलाकारी का शौक
एक सामान्य से परिवार में जन्मे उदयभान को बचपन से ही कलाकारी का शौक था। वे बताते हैं कि शुरू में मिट्टी से कुछ न कुछ बनाता रहता था। सामान्य परिवार से होने के कारण उचित मंच नहीं मिल पाता था। 2013 में एक दोस्त के माध्यम से आर्ट इचौल पहुंचा। वहां आर्ट गैलरी के संचालक अंबिका बेरी के पिता ने टेस्ट लिया। पहली बार चायना क्ले से काम किया। खिलौने और गाय.बैल बनाए पर मुझसे चायना क्ले संभल नहीं पाई। हालांकि उन लोगों को मेरी गाय बहुत पसंद आई और मुझे यह कहते हुए रख लिया कि तुम गाय ही बनाओगे।
कोरोना ने रोकी राह
उदय बताते हैं कि 2017 में उनका पहला बड़ा एक्जीबिशन कोलकाता में हुआ। इसके बाद दिल्ली और चायना में हुआ। चायना गया नहीं पर मेरे बनाए सभी सिरेमिक काऊ बिक गए। वहीं से ऑस्ट्रेलिया का रास्ता मिला। वहां की एक संस्था ने 2020 अंत में संपर्क कर 2021 में ऑस्ट्रेलिया में लगने वाली एक्जीबिशन का न्यौता दिया। लेकिनए कोरोना ने राह रोक दी और मेरे विदेश जाने का सपना चूर.चूर हो गया।
किसी से नहीं मिली मदद
उदय बताते हैं कि ऑस्ट्रेलिया जाना तो कैंसिल हो गया पर वहां से मुझसे 200 काऊ मांगे गए। किसान परिवार से होने के नाते मेरे पास इनता रुपया नहीं था कि मैं सभी क्ले खरीदकर 200 काऊ विदेश भेज सकूं। तब मैंने सांसद सहित अन्य जनप्रतिनिधियों से मदद मांगी। हर जगह से निराशा हाथ लगी। किसी तरह बचत के पैसे से 50 काऊ बनाकर भेजाए जो वहां इतना पसंद आए कि मुझे सिरेमिक क्राफ्ट में पहला स्थान मिला। मेरी कलाकारी वहां की जॉन कार्टिन यूनिवर्सिटी की गैलरी में लगवाई गई।
तमन्ना कलाकारी को जिंदा रखने की
उदय की तमन्ना इस कलाकारी को जिंदा रखना है। वे बताते हैं कि मेरे परिवार में पत्नीए एक बेटा सहित 5 बेटियां हैं। बेटियों की लगन भी कलाकारी में है। हमने गरीबी के बीच संघर्ष किया। आगे मैं उन बच्चों को प्रशिक्षित करना चाहता हूं जो इसमें रुचि रखते हैं। ताकि यह कलाकारी जीवित रहे। उदय का मानना है कि यहां प्रतिभा की कद्र करने वाले बहुत कम हैं। मेरी प्रतिभा को तो अम्बिका मैम ने पहचान लियाए पर हर किसी के पास ऐसा अवसर थोड़े आता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

'तमिल को भी हिंदी की तरह मिले समान अधिकार', CM स्टालिन की अपील के बाद PM मोदी ने दिया जवाबहिन्दी VS साऊथ की डिबेट पर कमल हासन ने रखी अपनी राय, कहा - 'हम अलग भाषा बोलते हैं लेकिन एक हैं'Asia Cup में भारत ने इंडोनेशिया को 16-0 से रौंदा, पाकिस्तान का सपना चूर-चूर करते हुए दिया डबल झटकाअजमेर की ख्वाजा साहब की दरगाह में हिन्दू प्रतीक चिन्ह होने का दावा, पुलिस जाप्ता तैनातबोरवेल में गिरा 12 साल का बालक : माधाराम के देशी जुगाड़ से मिली सफलता, प्रशासन ने थपथपाई पीठममता बनर्जी का बड़ा फैसला, अब राज्यपाल की जगह सीएम होंगी विश्वविद्यालयों की चांसलरयासीन मलिक के समर्थन में खालिस्तानी आतंकी ने अमरनाथ यात्रा को रोकने की दी धमकीलगातार दूसरी बार हैदराबाद पहुंचे PM मोदी से नहीं मिले तेलंगाना CM केसीआर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.