20% मजदूरी वृद्धि पर माने श्रमिक, हड़ताल खत्म, आज से फिर होगा कामकाज

20% मजदूरी वृद्धि पर माने श्रमिक, हड़ताल खत्म, आज से फिर होगा कामकाज
20% मजदूरी वृद्धि पर माने श्रमिक, हड़ताल खत्म

Sukhendra Mishra | Updated: 17 Jul 2019, 12:53:49 AM (IST) Satna, Satna, Madhya Pradesh, India

सतना कृषि उपज मंडी: चार घंटे चली बैठक के बाद गतिरोध खत्म

सतना. किसानों के लिए अच्छी खबर यह है कि मंडी श्रमिकों ने दो दिन से जारी काम बंद हड़ताल वापस ले ली है। बुधवार से सतना मंडी में एक बार फिर अनाज की डाक नीलामी शुरू होगी। मंगलवार को बंद मंडी को चालू कराने भारसाधक अधिकारी पीएस त्रिपाठी ने मंडी कार्यालय में तुलावटी संघ, किसान प्रतिनिधि एवं व्यापारी संघों के साथ बैठक की। लगभग चार घंटे चली लंबी चर्चा के बीच 20 फीसदी मजदूरी वृद्धि पर हम्माल तुलावटी काम करने को राजी हो गए और अपनी हड़ताल वापस ले ली।

मजदूरी वृद्धि की नई दर बुधवार से ही मंडी प्रांगण में प्रभावी हो जाएगी। अब मंडी आने वाले किसानों को अनाज की तुलाई के बदले प्रति क्विंटल 12 रुपए देने होंगे। अभी तक मंडी में किसानों को 10 रुपए प्रति क्विंटल की दर से तुलाई देनी पड़ती थी। मंडी समिति द्वारा तुलावटी हम्मालों की मजूदरी में 20 फीसदी की वृद्धि को मंजूरी देने से अब किसानों को प्रति क्विंटल दो रुपए अधिक देने होंगे। बैठक में किसान यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष जगदीश सिंह, कृषि उपज व्यापारी संघ के अध्यक्ष राजेन्द्र शर्मा विनोद अग्रवाल, मंडी सचिव आलोक वर्मा तुलावटी सत्यनारायण तिवारी, रज्जन यादव मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

40 साल से लागू व्यवस्था बदली

रात आठ बजे तक चार घंटे चली मैराथन बैठक में मजदूरी निर्धारण एवं बंटवारे को लेकर व्यापारी और श्रमिकों के बीच तीखी नोकझोंक भी देखने को मिली। गहमा-गहमी के बीच मंडी समिति ने मंडी में 40 साल से लागू कई व्यवस्थाओं में बदलाव भी किया। अब मंडी में कार्यरत महिला हम्माल व्यापारियों का बारदाना नहीं ढोएंगी। इसके बदले में व्यापारियों ने भी तुलाई के लिए कांटे पर बोरा चढ़ाने अपने हम्माल देने से मना कर दिया है। व्यवस्था परिवर्तन को लेकर घंटों सहमति-असहमति का दौर चला। मंडी के हम्माल कांटे पर बोरा चढ़ाने को तैयार नहीं थे। इसे लेकर विवाद की स्थिति देख भारसाधक अधिकारी ने मंडी अधिनियम का हवाला देते हुए हम्मालों को कांटे पर बोरा चढ़ाने की जिम्मेदारी सौंपी। उन्होंने कहा कि अभी तक क्या होता था ? उससे कोई लेना-देना नहीं। अब नए नियमों के तहत काम करना होगा। जो नए नियम फॉलो नहीं करना चाहता वह काम छोड़ सकता है।
कांटे पर बोरा चढ़ाने के मिलेंगे 80 पैसे

कांटे पर बोरा चढ़ाने की मजदूरी 80 पैसे अलग से तय की गई है। तौल से व्यापारियों ने अपने श्रमिक अलग कर लिए हैं। इसलिए अब तुलावटी और हम्माल मिलकर कांटे पर बोरा चढ़ाएंगे। इसके बदले दोनों को प्रति बोरा 40-40 पैसे परिश्रमिक मिलेगा। मंडी में नई मजदूरी लागू होने के बाद अब 12 रुपए में पुरुष हम्माल को प्रति क्विंटल 6 रुपए 20 पैसे, तुलावटी को 3 रुपए 40 पैसे तथा महिला हम्मालों को 2 रुपए 40 पैसे की दर से मजदूरी का बंटवारा होगा।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned