scriptsatna: Markfed and societies created artificial crisis of manure | satna: मार्कफेड ने सोसायटियों संग साजिश रच पैदा किया खाद का कृत्रिम संकट | Patrika News

satna: मार्कफेड ने सोसायटियों संग साजिश रच पैदा किया खाद का कृत्रिम संकट

नियोजित तरीके से चिन्हित विक्रेताओं के यहां खाद डम्प करवा पर बढ़ाते थे रेट

सहकारिता नियमों की आड़ में हो रहा सतना जिले में बड़ा घोटाला

सतना

Published: June 11, 2022 10:53:26 am

सतना। किसानों की मांग के अनुरूप राज्य सहकारी विपणन संघ के जिले में संचालित गोदामों में पर्याप्त खाद का भंडारण कराने के बाद भी जिले में खाद का जो संकट बनता था उसके पीछे एक बड़ी साजिश थी। विपणन संघ इस साजिश को जिले की 19 सामान्य सोसायटियों के साथ मिल कर अंजाम दे रहा था। इसके लिये सामान्य सोसायटियां अपने सदस्यों की ही निजी संस्थाओं में खाद भिजवा कर डम्प करवा देती थीं जिससे खाद का संकट पैदा हो जाता था।इसके बाद जिले में खाद की कालाबाजारी का खेल शुरू होता था। यह खेल तब किया जाता था जब खाद की आवश्यकता का पीक सीजन रहता था। नतीजा यह होता था कि किसानों को उनकी आवश्यकता के अनुसार पर्याप्त आपूर्ति के बाद भी खाद समय पर नहीं मिल पा रही थी, तब ये मनमाने रेट पर खाद की बिक्री करते थे।
satna: मार्कफेड ने सोसायटियों संग साजिश रच पैदा किया खाद का कृत्रिम संकट
satna: Markfed and societies created artificial crisis of manure
समिति सदस्य बनवाते थे फुटकर लाइसेंस

पत्रिका के पास मौजूद दस्तावेजों से जिले में बड़े पैमाने पर होने वाले खाद के खेल का खुलासा हो रहा है। इस पूरे खेल को अंजाम दे रही थीं सहकारी सोसायटी अधिनियम 1960 तथा नियम 1962 के तहत गठित 19 सामान्य सोसायटियां। विपणन संघ के अधिकारियों से स्त्रोत प्रमाण पत्र (ओ फार्म) प्राप्त कर पहले इन सोसायटियों ने उर्वरक लाइसेंस प्राप्त किए। इसके बाद इन्ही सामान्य सोसायटियों से संबंधित सदस्यों, अध्यक्षों और सचिवों ने अलग से निजी उर्वरक थोक और फुटकर लाइसेंस प्राप्त किये। इसके बाद इन सामान्य समितियों ने सहकारी सोसायटी अधिनियम के सहारे विपणन संघ के गोदाम प्रभारियों से सांठगांठ कर उर्वरकों की अति आवश्यक अवधि में अधिक से अधिक मात्रा में उर्वरक प्राप्त कर लेते थे। फिर सामान्य सोसायटियों की आड़ में अपने निजी संस्थानों से उर्वरक की कालाबाजारी करते थे। इस वजह से शासन से पर्याप्त खाद की आपूर्ति के बाद भी किसानों को आवश्यकतानुसार खाद समय पर नहीं मिल पाती थी।
इस तरह होता है खेल

जिले में खरीफ में 2.70 लाख हैक्टेयर में धान और रबी मौसम में 3.20 लाख हैक्टेयर में गेहूं बोया जाता है। इसके लिये बोनी से गभोट तक किसान खाद की मांग करते हैं। जिसा फायदा विपणन संघ के गोदाम प्रभारियों व सामान्य सोसायटियों द्वारा उठाया जाता रहा है। अधिकतम मांग की समयावधि को ध्यान में रखते हुए इनके द्वारा कालाबाजारी की जाती रही है। शासन के तय फार्मूले 70:30 के तहत क्रमश: विपणन संघ और निजी थोक खाद विक्रेताओं को उर्वरक प्रदान किया जाता है। लेकिन जिला विपणन अधिकारी की उदासीनता या मिलीभगत के चलते निजी क्षेत्र की सामान्य समितियों को रेक हेड से ही नियम विरुद्ध सीधे खाद का आवंटन कर दिया जाता है।
दस्तावेजों से खुला राज

दस्तावेज बताते हैं कि सामान्य समितियों के सचिव, अध्यक्ष व सदस्यों के द्वारा अपने नामों से निजी उर्वरक के थोक व फुटकर लाइसेंस लिये गये। मसलन मां शारदा रासायनिक खाद क्रय विक्रय सहकारी समिति मर्या. हरनामपुर के प्रबंधक दीपक पाण्डेय हैं। मार्कफेड के डबल लॉक केन्द्र मैहर से 50 मीटर दूर संचालित थोक व फुटकर खाद विक्रय प्रतिष्ठान मे. शुभम ट्रेडर्स के प्रोपराइटर भी दीपक पाण्डेय हैं। इनके द्वारा सामान्य सोसायटी के नाम पर सतना रैक हेड से मैहर डबल लॉक के द्वारा समिति के नाम खाद आवंटित करवा कर मे. शुभम ट्रेडर्स में खाद का भंडारण कराया जाता रहा। जिला विपणन अधिकारी सतना कार्यालय के दस्तावेजों के अनुसार इसके बाद खाद आवश्यकता के पीक सीजन में मैहर डबल लॉक 3-4 ट्रक खाद मां शारदा रासायनिक खाद क्रय विक्रय सहकारी समिति मर्या. के नाम पर आवंटित करवा लेते थे। इसके बाद कालाबाजारी का खेल शुरू होता था। इस मामले में विपणन संघ प्रभारी की सफाई है कि किसानों की भीड़ नियंत्रित करने ऐसा किया जाता है। जबकि यह खाद का कृत्रिम संकट पैदा करने का खेल था। इस तरह का खेल अन्य सामान्य सोसायटियों में भी विपणन संघ के अधिकारियों की मिली भगत से हो रहा था।
'' अगर ऐसा हो रहा है तो यह गंभीर मामला है। इसकी जांच कराई जाएगी। इसमें जो भी दोषी होगा उस पर कार्यवाही की जाएगी। '' - अनुराग वर्मा, कलेक्टर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मीन राशि में वक्री होंगे गुरु, इन राशियों पर धन वर्षा होने के रहेंगे आसारइन राशियों के लोग काफी जल्दी बनते हैं धनवान, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानभाग्यवान होती हैं इन नाम की लड़कियां, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानऊंची किस्मत वाली होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, करियर में खूब पाती हैं सफलताधन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीweather update news..मौसम की भविष्यवाणी सटीक, कई जिलों में तूफानी हवा के साथ झमाझमस्कूल में 15 साल के लड़के से बनाए अननेचुरल संबंध, वीडियो भी बनाया

बड़ी खबरें

Udaipur Murder Case: पूरे देश में तनाव का माहौल, दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा- CM Ashok Gehlot, देखें Video...Udaipur : उदयपुर में आगजनी-पत्थरबाजी, इंटरनेट बंद, कर्फ्यू लगाया, पूरे राज्य में अलर्टUdaipur में नूपुर शर्मा के सपोर्ट में पोस्ट करने पर युवक की गला काटकर हत्या, सोशल मीडिया पर जारी किया वीडियोMaharashtra Political Crisis: पुत्र और प्रवक्ता बालासाहेब के शिवसैनिकों को बोल रहे भैंस-कुत्ता, उद्धव ठाकरे की अपील का एकनाथ शिंदे ने दिया जवाबPunjab: सीएम भगवंत मान का ऐलान, अग्निपथ के खिलाफ विधानसभा में लाएंगे प्रस्ताव, होगा किसान आंदोलन जैसा विरोध!Maharashtra Political Crisis: जेपी नड्डा के आवास पर पहुंचे देवेंद्र फडणवीस, इस मुद्दे पर हो सकती है चर्चाMaharashtra: ईडी ने शिवसेना नेता संजय राउत को फिर भेजा समन, जमीन घोटाले के मामले में 1 जुलाई को पेश होने के लिए कहाEoin Morgan Retirement: 35 की उम्र में संन्यास लेने वाले Eoin Morgan ने क्रिकेट में इंग्लैंड के लिए बनाए गए 5 खास रिकॉर्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.