MP में सबसे ज्यादा एनकाउंटर SATNA में, अब तक 51 डकैतों का हो चुका है खात्मा

एमपी में सबसे ज्यादा एनकांउटर भिंड, मुरैना, चंबल, शिवपुरी, सतना, रीवा में हुए है। तत्कालिक रीवा आईजी जीआर मीणा के नेत्रत्व में करीब 21 बदमाशों का सतना पुलिस सफाया कर चुकी है।


सुरेश मिश्रा @ सतना।
एमपी-यूपी की सीमा में आतंक का पर्याय बने चुके डकैतों को बीते दो दशक में सतना पुलिस 51 डकैतों को मार चुकी है। आंकड़ों की बात करें तो एमपी में सबसे ज्यादा एनकांउटर भिंड, मुरैना, चंबल, शिवपुरी, सतना, रीवा में हुए है। मप्र पुलिस में ऐसे जांबाज और हिम्मतवाले पुलिस अधिकारी हैं जो न सिर्फ आदेश देते हैं बल्कि जरूरत पडऩे पर मैदान में डटकर सामना भी करते हैं।

एनकाउंटर की बात करें तो तत्कालिक रीवा आईजी जीआर मीणा के नेत्रत्व में करीब 24 बदमाशों का सतना पुलिस सफाया कर चुकी है। उनके साथ टीम में तत्कालिक एसपी हरी सिंह यादव, इरशाद बली, इंस्पेक्टर अनिमेश द्विवेदी ने भरपूर साथ निभाया है।

2005 से मुठभेड़ की शुरुआत
द्विवेदी की मानें तो पहली मुठभेड़ 18 अप्रैल 2005 को कल्लू गोंड से हुई थी। इसके बाद 27 सितंबर 2005 को दूसरी मुठभेड़ गुड्डा पटेल और ठोकिया गिरोह से हुई। 3 डकैत गुड्डा पटेल, झुल्लू केवट और एक उपाध्याय मारा गया था। तीसरी मुठभेड़ 19 फरवरी 2006 को खडग़ सिंह गिरोह से हुई थी, जिसमें 5 बदमाश मारे गए थे।

6 लाख का इनामी डकैत सुंदर पटेल

चौथी मुठभेड़ में 6 लाख का इनामी डकैत सुंदर पटेल सहित 5 बदमाश मारे गए थे। हाल ही में कुछ माह पहले डकैत चुन्नीलाल पटेल को मारने में सफलता मिली थी। हालांकि दोनों राज्यों की पुलिस के सिरदर्द बने लाखों के इनामी शिवकुमार पटेल उर्फ ददुआ एवं सुंदर पटेल उर्फ ठोकिया को यूपी पुलिस ने मार गिराया था। इनका पाठा के घने जंगलों में तीन दशकों तक आतंक चला था।

डॉ. गाजीराम मीणा का सफर
52 साल के गाजीराम ने 1990 में भारतीय पुलिस सेवा में करियर शुरू किया और 2012 तक 22 साल में 65 से ज्यादा डकैतों को मुठभेड़ में मार गिराया। झाबुआ, भिंड, रीवा, सतना की 31 मुठभेड़ में इन डकैतों को मारा गया। एडीजी डॉ. गाजीराम मीणा को राष्ट्रपति वीरता पदक के लिए चुना गया। यह पदक मीणा को दिसंबर 2011 के उस एनकाउंटर के लिए दिया जाएगा, जिसमें उनके द्वारा डकैत सुंदर पटेल गैंग का सफाया किया गया था। यह पदक स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राज्यपाल के हाथों दिया जाएगा। वर्तमान में गाजीराम पुलिस मुख्यालय एडीजी के रूप में पदस्थ है।

डकैतों की मूवमेंट मिलते ही एक्शन
बताते हैं अनिमेश द्विवेदी को जहां भी डकैतों के मूवमेंट की जानकारी होती है वो बिना समय गवांए उनकी ओर रुख कर जाते हैं। हालांकि इसकी जानकारी वो अधिकारियों को भी दे देते हैं। वर्तमान में ये सतना जिले रामपुर बाघेलान थाना प्रभारी है। 15 साल के कॅरियर में 21 डकैतों को मार चुके है। शासन द्वारा आउट आफ टर्न प्रमोशन भी दिया गया है। इसके लिए तत्कालीन डीजीपी व सीएम शिवराज सिंह चौहान सम्मान कर चुके हैं।

मैं अपने कार्यकाल के दौरान सतना में अकेले 24 बदमाशों को मार चुका हूं। ओवर हाल मप्र-उप्र की सीमा में आधा सैकड़ा बदमाश मारे जा चुके होंगे।
डॉ. गाजी राम मीणा, एडीजी वेलफेयर
Show More
suresh mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned