एसडीएम तहसीलदार करेंगे अस्पतालों का भौतिक सत्यापन

कलेक्टर ने तीन दिन में मांगी जांच रिपोर्ट
कहा, सीएमएचओ नहीं ले रहे अपेक्षित रुचि

 

By: Ramashanka Sharma

Published: 03 Dec 2019, 12:59 AM IST

सतना. बिरसिंहपुर आपरेशन कांड के बाद जिला प्रशासन स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर और संजीदा हो गया है। घटना के बाद कलेक्टर सतेन्द्र सिंह ने सोमवार को जिले के सभी प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों का भौतिक सत्यापन करने के निर्देश सभी एसडीएम और तहसीलदारों को दिए हैं। जारी आदेश में कलेक्टर ने स्वास्थ्य महकमे के अधिकारियों और सेवाओं पर तल्ख टिप्पणी भी की है। कहा है कि स्वास्थ्य केन्द्रों में मूलभूत आवश्यक सुविधाओं का अभाव है और संबंधित बीएमओ व मेडिकल ऑफीसर व्यवस्थाओं में रुचि नहीं ले रहे हैं। स्वास्थ्य केन्द्रों का निरीक्षण मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा किया जाता है लेकिन वे भी व्यवस्थाओं के प्रति अपक्षित रुचि नहीं ले रहे हैं।

संसाधनों की कमी

कलेक्टर सतेन्द्र सिंह ने जारी निरीक्षण आदेश में कहा है कि पीएचसी और सीएचसी में हो रहे नसबंदी आपरेशन और डिलेवरी में कुछ समस्याएं प्रकाश में आई हैं। पाया गया है कि यहां जनरेटर एवं इन्वर्टर खराब स्थिति में हैं। मरीजों के लिये आवश्यकतानुसार पलंग, गद्दे आदि कम संख्या में हैं। व्यवस्थाओं में सुधार आवश्यक है। अव्यवस्थाओं में बिरसिंहपुर स्वास्थ्य केन्द्र में आपरेशन के दौरान आई समस्याओं का उल्लेख किया है। जैसे बिजली का न रहना तथा इस स्थिति में वैकल्पिक व्यवस्था उपलब्ध न होना प्रकाश में आया है।

यह तय की एसडीएम की जिम्मेदारी

जारी आदेश में कलेक्टर ने कहा है कि एसडीएम की जिम्मेदारी है कि वे अपने क्षेत्र के सभी स्वास्थ्य केन्द्रों का समय समय पर निरीक्षण करते रहें। उनमें मिलने वाली कमियों की पूर्ति के प्रयास करें। आगामी दो दिनों में एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार अपने-अपने क्षेत्र के पीएचसी और सीएचसी का अनिवार्य रूप से निरीक्षण करें। यहां जो भी कमियां है तथा जो आवश्यकताएं हैं उसकी जानकारी तैयार कर प्रतिवेदन ६ दिसंबर तक प्रस्तुत करें। उप स्वास्थ्य केन्द्रों का भी समय समय पर निरीक्षण किया जाए।

ऑपरेशन के दौरान बिजली गुल न हो

कलेक्टर ने कहा है कि स्वास्थ्य केन्द्र जहां डिलेवरी तथा नसबंदी आपरेशन होते हैं वहां का कार्यक्रम बीएमओ से समय पर लेकर सुनिश्चित किया जाए कि ऑपरेशन के दौरान बिजली गुल न हो तथा बिजली की वैकल्पिक व्यवस्था की जाए। शिविरों की जानकारी बिजली विभाग को उपलब्ध कराई जाए ताकि उस दौरान निर्बाध विद्युत आपूर्ति बनाई जा सके।

एसडीएम ने शुरू किया निरीक्षण

कलेक्टर के आदेश पर कई एसडीएम अपने क्षेत्र के स्वास्थ्य केन्द्रों का निरीक्षण भी किया। नागौद एसडीएम दिव्यांक सिंह ने तहसीलदार के साथ सीएचसी नागौद का विस्तृत निरीक्षण कर यहां की कमियां और आवश्यकताएं चिन्हित कीं। मझगवां एसडीएम एचके धुर्वे ने मझगवां स्वास्थ्य केन्द्र का निरीक्षण किया तो एसडीएम अमरपाटन धीरेन्द्र सिंह ने सिविल अस्पताल अमरपाटन का जायजा लिया। एसडीएम संस्कृति शर्मा ने उचेहरा सीएचसी का जायजा लिया।

Ramashanka Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned