लापरवाह सचिव जीआरएस को थोकबंद शो-कॉज, दो मनरेगा कर्मियों की सेवा समाप्त

पंचायती राज के मैदानी अमले में कसावट लाने चलने लगा जिपं सीईओ का चाबुक

By: Ramashanka Sharma

Published: 15 Sep 2021, 11:55 PM IST

सतना. पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में अब मैदानी अमले पर कसावट का चाबुक चलना शुरू हो गया है। विगत दिवस सीएम के कार्यक्रम में जिस तरीके से सचिव और ग्राम रोजगार सहायकों ने मनमानी की थी अब उन्हें जिपं सीईओ डॉ परीक्षित राव झाड़े ने कारण बताओ नोटिस जारी किया है। 8 ग्राम पंचायतों के सचिव जीआरएस को थोकबंद नोटिस जारी करते हुए समय सीमा में जवाब प्रस्तुत करने कहा गया है। इसके साथ ही मनरेगा में अपेक्षित काम न करने वाले दो संविदा कर्मियों की सेवा समाप्ति कर दी गई है। इनका अनुबंध नवीनीकृत नहीं किया गया है।

सीएम जनदर्शन कार्यक्रम में की थी लापरवाही

मिली जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के दौरे को देखते हुए जिपं सीईओ ने जनदर्शन कार्यक्रम के मार्ग में आने वाली ग्राम पंचायतों के सचिव और रोजगार सहायकों को निर्देश दिए गये थे कि वे निर्धारित कार्यक्रम स्थलों पर उपस्थित रहने के साथ ही ग्राम पंचायत की मूल जानकारी अपने साथ रखेंगे। लेकिन दौरे में पाया गया कि कई सचिव जीआरएस जानकारी के साथ नहीं पहुंचे थे तो कुछ अनुपस्थित रहे। जिससे सीएम दौरे में अप्रिय स्थिति भी बनी। इसको देखते हुए जिपं सीईओ ने संबंधितों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। जिन्हें शो-कॉज जारी किया गया है उनमें ग्राम पंचायत पनगरा, नोनगरा, पिपरी, आमा, बंडी, रौड़, द्वारी और देवरी के सचिव और जीआरएस शामिल हैं।

इनकी सेवाएं हुई समाप्त

मनरेगा संविदा कर्मियों को अनुबंध के आधार पर काम में रखा जाता है। अनुबंध के अनुसार तय जॉब कार्ड के अनुरूप इन्हें अपनी परफार्मेंस देनी होती है। सालाना इनके कार्य का मूल्यांकन कर अनुबंध नवीनीकृत किया जाता है। लेकिन तीन मनरेगा संविदा कर्मियों का कार्य मूल्यांकन काफी कमजोर पाया गया था। जिन्हें नोटिस देकर जवाब लिया गया था। जिसमें से दो लोगों का संतोषजनक पक्ष नहीं पाये जाने पर जिपं सीईओ डॉ परीक्षित ने इनका अनुबंध नवीनीकृत नहीं किया। इनमें एपीओ विभा सिंह और माया सोनी कम्प्यूटर ऑपरेटर शामिल है। अब इनकी सेवाएं समाप्त मानी जाएंगी।

Ramashanka Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned