लेबर रूम का प्लास्टर गिरने से मची भगदड़, महिला सिक्योरिटी गार्ड सहित चार अन्य को आई चोट

लेबर रूम का प्लास्टर गिरने से मची भगदड़, महिला सिक्योरिटी गार्ड सहित चार अन्य को आई चोट
Sidhi Crime: Labor room plaster dropped in the sidhi District Hospital

Suresh Kumar Mishra | Updated: 09 Oct 2019, 01:53:14 PM (IST) Satna, Satna, Madhya Pradesh, India

जिला अस्पताल सीधी की घटना, बारिश के दौरान जर्जर छत के रिसाव से लेवर रूम में भर जाता था पानी

सीधी। मध्यप्रदेश के सीधी जिला अस्पताल अंतर्गत भगदड़ मचने की खबर आ रही है। बताया गया कि बुधवार की सुबह 11 बजे लेबर रूम की सीलिंग का प्लास्टर अचानक से भर-भराकर गिर गया। देखते ही देखते वार्ड के अंदर अफरा-तफरी का माहौल निर्मित हो गया। बिना कुछ सोचे समझे लोग वार्ड के अंदर भर्ती मरीजों को छोड़कर अस्पताल से बाहर की ओर भागने गले।

ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ के हाथियों ने सिंगरौली में मचाया आतंक, 1 की मौत, 3 गंभीर

आनन-फानन में अस्पताल प्रशासन को मामले की सूचना दी गई। वरिष्ठ अधिकारियों ने निरीक्षण में पाया कि बारिश के दौरान जर्जर छत पर पानी का रिसाव हो रहा था। पूरे सीलिंग में पानी की सिहलन भी थी। इसलिए प्लास्टर की छपाई गिर गई। कहते है कि हादसे में महिला गार्ड सहित 4 अन्य को चोंट आई है। जिनको प्राथमिक उपचार कर घर भेज दिया गया है।

ये भी पढ़ें: ट्रक-बोलेरो की भिड़ंत में 5 की मौत, 1 गंभीर, दशहरे की खुशियां मातम में पसरी

Sidhi Crime: Labor room plaster dropped in the sidhi District Hospital
Patrika IMAGE CREDIT: Patrika

ये भी पढ़ें: अदृश्य रूप में आता है कोई, करता है मां की आरती, पर दिखाई नहीं देता कभी!

ये है मामला
मिली जानकारी के मुताबिक जिला अस्पताल का लेबर रूम लंबे समय से जर्जर बिल्डिंग पर लग रहा था। कुछ माह पहले तत्कालीन कलेक्टर अभिषेक सिंह ने छत का मरम्मतीकरण करने के निर्देश भी दिए थे। लेकिन जिम्मेदार विभाग ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। नतीजन बुधवार की सुबह ओपीडी के समय अचानक लेबर रूम का प्लास्टर टूट कर गिर गया। प्लास्टर गिरने के बाद लेबर रूम में भगदड़ की स्थितियां बन गई। जब तक लोग कुछ समझ पाते तब तक लोग अस्पताल से निकलकर बाहर भागने लगे। तुरंत जिम्मेदारों को सूचना दी गई।

ये भी पढ़ें: मैहर में फूटा भक्तों का सैलाब, जानिए क्या मिला मंदिर में पुजारी को

हादसे के समय चल रहा था स्वास्थ परीक्षण
जानकारी के बाद सिविल सर्जन सहित अन्य स्टाप मौके पर पहुंचकर मलबे को बाहर निकलवाते हुए महिला सिक्योरिटी गार्ड सहित चार अन्य घायलों का प्राथमिक उपचार कराया। तब जाकर लोगों ने राहत की सांस ली। सूत्रो की मानें तो जिस समय हादसा हुआ है उस दौरान महिला चिकित्सक गर्भवती महिलाओं का स्वास्थ परीक्षण कर रही थी। गनीमत थी कि कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ नहीं जिला प्रशासन हाथ मलता रह जाता।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned