बिजली कटौती और ट्रिपिंग से सरकार में हड़कम्प

बिजली कटौती और ट्रिपिंग से सरकार में हड़कम्प
Stir in government with power cuts and tripping

Ramashankar Sharma | Updated: 04 Jun 2019, 11:27:35 PM (IST) Satna, Satna, Madhya Pradesh, India

मुख्य सचिव ने कहा कलेक्टर हर दिन की भेजें रिपोर्ट

सतना। लोक सभा चुनाव के बाद इन दिनों जिस तरीके से बेतहाशा बिजली कटौती और ट्रिपिंग हो रही है उससे आमजनमानस में आक्रोश तो पैदा हो ही रहा है साथ ही भाजपा भी इसे मुद्दा बनाती जा रही है। ऐसे में प्रदेश सरकार को मिल रही रिपोर्ट से हड़कंप मच गया है। ऐसी स्थिति को देखते हुए मुख्यमंत्री ने ऊर्जा मंत्री के साथ बिजली विभाग के आला अफसरों की बैठक बुलाई। इस दौरान बिजली विभाग के अफसरों के सामने चित्रकूट विधायक नीलांशु चतुर्वेदी सहित दो अन्य विधायकों से मोबाइल फोन का स्पीकर ऑन करके बात की। जिसमें बिजली संकट की मैदानी स्थिति सामने आ गई। इधर बिजली संकट से पैदा हो रहे जनाक्रोश को देखते हुए मुख्य सचिव ने कलेक्टरों से प्रतिदिन विद्युत आपूर्ति की स्थिति भेजने के निर्देश दिए हैं। हालांकि ये निर्देश पहले भी दिये गए थे लेकिन जो रिपोर्ट जा रही थी वह महज बिजली विभाग के अफसर की रिपोर्ट के आधार पर थी जबकि कलेक्टरों को कहा गया था कि इसकी पुष्टि अपने लोगों से करके भेजी जाए। लेकिन ऐसा नही किया जा रहा था।

स्पीकर ऑन कर चित्रकूट विधायक से की बात

मिली जानकारी के अनुसार बिजली अधिकारियों की मीटिंग के दौरान सीएम को बताया गया कि पिछली साल से ज्यादा बिजली दी जा रही है। लेकिन मैदानी रिपोर्ट ले चुके मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बैठक से ही चित्रकूट विधायक नीलांशु चतुर्वेदी को मोबाइल से फोन लगाया और स्पीकर ऑन करके बिजली कटौती की हकीकत पूछी। जिस पर नीलांशु ने बताया कि इस समय बिजली का आना जाना कुछ ज्यादा हो रहा है। कई बार ट्रिपिंग हो रही है। काफी परेशान हो रहे हैं लोग। थोड़ी सी आंधी पानी में ही बिजली गुल हो जाती है। इसी तरह से दो अन्य विधायकों से भी बात की। इसके बाद बिजली अफसरों से दो टूक कहा कि हर हाल में बिजली की ट्रिपिंग बंद होनी चाहिए।

सीएस ने मांगी दैनिक रिपोर्ट

बिजली कटौती को लेकर मैदानी स्तर से सीएस को मिल रही रिपोर्ट के बाद उन्होंने सभी कलेक्टरों से विकासखंडवार विद्युत आपूर्ति की रिपोर्ट तलब की है। यह रिपोर्ट कलेक्टरों को प्रतिदिन देनी होगी। बताया गया है कि शासन ने मैदानी स्तर तक विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में निर्बाध विद्युत आपूर्ति नहीं हो रही है। इसलिये अब से प्रतिदिन कलेक्टर विकासखंड स्तर पर विद्युत आपूर्ति की जानकारी सीएस कार्यालय को भेजेंगे।

तय प्रारूप में भेजी जाएगी जानकारी
सीएस ने कलेक्टर से तय प्रारूप में जानकारी चाही है। इसमें जिलावार विकासखंड वार पिछले २४ घंटे में कितनी बार विद्युत आपूर्ति बाधित हुई? विकासखंडवार विद्युत व्यवधान की कुल अवधि कितनी है? और विद्युत बाधित होने का औसत समय क्या रहा है? की जानकारी प्रतिदिन सीएस को भेजना होगा।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned