बस ऑपरेटरों के विरोध पर झुके आला-अधिकारी, 15 दिनों की दे दी मोहलत

suresh mishra

Publish: Jan, 14 2018 03:22:27 PM (IST)

Satna, Madhya Pradesh, India
बस ऑपरेटरों के विरोध पर झुके आला-अधिकारी, 15 दिनों की दे दी मोहलत

बस ऑपरेटरों के विरोध के आगे झुके अधिकारी, व्यापक जनहित के मामले में अपना रहे ढुलमुल रवैया

सतना। बस ऑपरेटरों के विरोध के सामने कोठी तिराहा स्थित उप बस स्टैंड से बसों के संचालन को लेकर जिला प्रशासन बैकफुट पर आ गया है। शनिवार को पुलिस कंट्रोल रूम में कलेक्टर मुकेश कुमार शुक्ला की अध्यक्षता में हुई बैठक में बस ऑपरेटरों के भारी विरोध के बीच कोठी तिराहा स्थित उप बसस्टैंड से बसों के संचालन का निर्णय 15 दिन के लिए टाल दिया गया है।

सुविधाएं मुहैया कराने के निर्देश

कलेक्टर ने निगम प्रशासन को 30 तक उप बसस्टैंड में सभी यात्री सुविधाएं मुहैया कराने के निर्देश दिए। 30 से चित्रकूट एवं नागौद रूट पर चलने वाली बसों को उप बसस्टैंड से संचालित करने का ट्रॉयल शुरू किया जाएगा। ट्रॉयल के जो परिणाम आएंगे।

बसों का संचालन नियमित

उसके बाद उप बसस्टैंड से बसों का संचालन नियमित किया जाएगा। बैठक में निगमायुक्त प्रतिभा पाल, एसपी राजेश हिंगणकर, एसडीम बलवीर रमण, सीएसपी वीडी पाण्डेय, बस ऑनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष कमलेश गौतम आदि उपस्थित रहे।

16 से होना था उप बसस्टैंड का संचालन
ज्ञात हो कि शहर की बिगडै़ल यातयात व्यवस्था को पटरी पर लाने ४ जनवरी को आयोजित बैठक में कलेक्टर मुकेश शुक्ला ने कई महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए चित्रकूट एवं नागौद रूट की बसों को १६ जनवरी से कोठी तिराहा स्थित उप बसस्टैंड में खड़ी करने के निर्देश दिए थे। इस मामले में पुलिस अधीक्षक सहित निगमायुक्त भी अपनी सहमति जताई थी। लेकिन हमेशा की तरह एक बार फिर गीदड़ भभकी के आगे प्रशासन नतमस्तक नजर आया। इसके साथ शहर में ऑटो रिक्शा का दबाव कम करने १० जनवरी से सड़कों पर सघन चेकिंग अभियान चलाने का निर्णय लिया गया था।

कृषि अभियांत्रिकी की जमीन लेगा निगम
बैठक में बाद कलेक्टर एवं निगम आयुक्त ने कोठी तिराहा स्थित उप बसस्टैंड का जायजा लिया। कलेक्टर शुक्ल ने निरीक्षण करते हुए कहा, माना कि उप बसस्टैंड के विकास में जमीन सबसे बड़ी बाधा हैं। उन्होंने इसके लिए बसस्टैंड से लगी कृषि अभियांत्रिकी विभाग की जमीन को अधिग्रहित करने का प्रस्ताव बनाने तथा निजी पट्टेधारियों से चर्चा कर बस स्टैंड की सड़क को चौड़ा कराने निगमायुक्त को निर्देश दिए।

ट्रॉयल से नहीं निकलेगा रास्ता
बस ऑनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष कमलेश शुक्ला ने बैठक में प्रशासन को जानकारी देते हुए बताया कि उप बसस्टैंड में बस खड़ा करने के लिए पर्याप्त जगह नहीं है। 25 बस की जगह में ढाई सौ बसें कैसे खड़ी होंगी। पहले शहर में सर्व सुविधायुक्त बसस्टैंड बनाया जाए उसके बाद बस स्टैंड शिफ्ट करने का निर्णय लिया जाए।

व्यापक जनाक्रोश
शहर को सुगम यातायात के लिए सालों से चली आ रही उप बसस्टैंड की मांग पर जिस तरीके से बस संचालकों का दबदबा प्रशासन पर बना उससे जनता में आक्रोश है। आमजनों का कहना है कि इस तरीके से अगर प्रशासन झुकता रहा तो फिर शहर को सुगम यातायात मिलना मुश्किल है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned