scriptThe water of Chitrakoot's drains destroying the river | राम की नगरी में मंदाकिनी को मिल रही है 'काला पानी' की सजा | Patrika News

राम की नगरी में मंदाकिनी को मिल रही है 'काला पानी' की सजा

जिम्मेदारों की अनदेखी: नदी की पवित्रता को नष्ट कर रहा चित्रकूट के नालों का पानी...।

सतना

Updated: June 11, 2022 11:31:18 am

सतना। भगवान श्रीराम की तपोभूमि श्रीचित्रकूटधाम में बहने वाली मां मंदाकिनी नदी काला पानी की सजा भुगत रही है। यहां मंदाकिनी गंगा को प्रदूषण मुक्त किए जाने के सरकारी दावे खोखले साबित हो रहे हैं। हाल यह है कि चित्रकूट के दर्जनों गंदे नाले का पानी मंदाकिनी में गिर कर उसकी पवित्रता को नष्ट कर रहा है। इसका नजारा आम है। इसके बाद भी न प्रशासन गंभीर है और न जनप्रतिनिधि।

chitrakoot.png

स्थानीय लोग और साधु-संतों की मानें तो भरत घाट में एक बड़े नाले का गंदा पानी मंदाकिनी गंगा को अपवित्र कर रहा है। इस नाले में कई होटल और घरों का सीवर मिलता है। इसी पानी का उपयोग स्नान और आचमन में किया जाता है। इसकी जानकारी वहां के स्थानीय जिम्मेदारों को है। लेकिन, कोई कुछ बोलता नहीं है।

यह भी पढ़ेंः

CHITRAKOOT VISIT: धर्म के साथ प्रकृति को भी देखने का बेस्ट डेस्टिनेशन है चित्रकूट
ज्योतिर्लिंग टूरिज्मः अब लग्जरी बस से महाकाल से ओंकारेश्वर की होगी यात्रा

चार साल पहले संतों ने खोला था मोर्चा

मंदाकिनी गंगा को अविरल और प्रदूषण मुक्त करने के लिए चित्रकूटधाम के मठ मंदिरों से निकल कर संत-महात्माओं ने चार साल पहले भाजपा सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। तब सड़क पर बैठे संतों को मनाने के लिए मुख्यमंत्री खुद चित्रकूट पहुंचे थे। उन्होंने संतों से मंदाकिनी को स्वच्छ, अविरल बनाने के लिए सीवरलाइन का कार्य पूरा कराने का आश्वासन दिया था। लेकिन, वादा कोरा निकला। आज भी करोड़ों रुपए खर्च कर सीवर लाइन की शुरुआत नहीं हो सकी।

पानी में बह जाएंगे 6 करोड़

मंदाकिनी को प्रदूषण से मुक्त करने के लिए प्रथम चरण में स्फटिकशिला से लेकर रामघाट तक सीवर लाइन डाली गई। एमपीएस और एसटीपी प्लांट बनाए गए, जिस पर 6 करोड़ रुपए से अधिक का बजट खर्च किया गया। पहले चरण का काम पूरा होने के बाद नगर परिषद चित्रकूट और पीएचई अफसरों के बीच सहमति नहीं बन पाई। इस कारण सीवर लाइन चालू नहीं हो पा रही। अब ऐसा लग रहा जैसे करोड़ों रुपए के प्रोजेक्ट में पानी फिर जाएगा।

2018 की घोषणाएं निकलीं कोरी

चित्रकूट क्षेत्र के विकास के लिए 2018 में मिनी स्मार्ट सिटी की घोषणा हुई। उस दौरान करोड़ों रुपए की लागत से होने वाले विकास कार्यों का लोकार्पण किया गया था। चित्रकूट में मंदाकिनी को प्रदूषण से मुक्त रखने के लिए सीवर लाइन डालने का वादा किया था। लेकिन, 2018 की ये घोषणाएं कोरी निकलीं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: आदित्य को छोड़ शिवसेना के सारे MLA Minister हुए बागी, उद्धव ठाकरे के साथ बचे सिर्फ MLC मंत्रीMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में क्या बन रहे हैं नए सियासी समीकरण? बागी एकनाथ शिंदे ने राज ठाकरे से की फोन पर बातचीतPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget LIVE Updates: वित्तमंत्री हरपाल चीमा ने कहा- सभी जिलों में बनाए जाएंगे साइबर अपराध क्राइम कंट्रोल रूमपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच संजय राउत को ईडी ने भेजा समन, 28 जून को पूछताछ के लिए बुलायाExclusive Interview: राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को किस आधार पर जीत की उम्मीद और क्या बोले आदिवासी महिला के खिलाफ उम्मीदवारी परमनी लॉन्ड्रिंग मामले में सत्येंद्र जैन को बड़ी राहत, कोर्ट ने हिरासत अवधि बढ़ाने से किया इनकार, जानिए क्या बताई वजह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.