महंत की हत्या के दो आरोपी गए जेल, फरार आरोपियों की तलाश में दबिश

गोली मारकर की गई बालाजी मंदिर के महंत की हत्या, उप्र की चित्रकूट पुलिस जुटा रही अपराधियों का सुराग

सतना. तीन दिन पहले धर्मनगरी चित्रकूट में गोली मारकर महंत की हत्या करने वाले फरार आरोपियों की तलाश में पुलिस टीमें जुटी हैं। अभी तक पुलिस के हाथ दो ही आरोपी लगे हैं। दो अज्ञात हमलावरों की पहचान के लिए पुलिस सीसीटीवी फुटेज व साइबर सेल के सहारे प्रयास किए जा रहे हैं। उप्र की कर्वी पुलिस का कहना है कि एक नामजद आरोपी की तलाश में कई जगह दबिश दी गई है। जल्द ही सभी आरोपी गिरफ्तार कर लिए जाएंगे।
गौरतलब है कि बालाजी मंदिर चित्रकूट के महंत अर्जुनदास की तीन दिन पहले गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वारदात के बाद हमलावर मौके से फरार हो गए थे। इस मामले में महंत के घायल शिष्य की तहरीर पर तीन नामजद व दो अज्ञात व्यक्यिों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज हुई थी। पुलिस ने दो नामजद आरोपी मंगलदास व आलोक पाण्डेय को गिरफ्तार किया है। इन दोनों को रविवार को अदालत में पेश करते हुए न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया। अब तीसरे नामजद आरोपी राजू मिश्रा निवासी कौशांबी की तलाश में पुलिस टीमें लगी हुई हैं। तलाश में तीन टीमें कर्वी कोतवाल अनिल सिंह ने बताया कि तीन टीमें लगाई गई है। यह टीमें आरोपी की तलाश में बरगढ़, मप्र के पन्ना व उप्र के कौशांबी गई हुई हैं। अभी तक राजू मिश्रा पकड़ में नहीं आया है। जल्द ही उसे भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा। कई संभावित ठिकानों पर टीमों ने दबिश दिया है। घटना में शामिल अन्य लोगों को भी चिन्हित किया जा रहा है।
संपत्ति बनी हत्या की वजह
बालाजी मंदिर के नाम 32 एकड़ जमीन सीतापुर में है। इसके अलावा मारकुंडी क्षेत्र के जारोमाफी में भी 285 बीघा जमीन है। मंदिर की संपत्ति को हथियाने के लिए सभी विरोधी एक हो गए थे। आरोपी आलोक पाण्डेय मंदिर का उत्तराधिकारी बनना चाह रहा था। जबकि आरोपी राजू मिश्र भी मंदिर में संचालित संस्कृत विद्यालय में आता-जाता रहा है।

Show More
Dhirendra Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned