युवक कांग्रेस ने पुलिस के खिलाफ किया प्रदर्शन

एसपी ने जांच के बाद कार्रवाही का दिया आश्वासन, सेमरिया चौक में पुतला दहन के दौरान पिटाई का मामला, चौपाटी से एसपी ऑफिस तक नारेबाजी करते गए युकांई

सतना. युवक कांग्रेस ने मंगलवार को पुलिस के अमानवीय व्यवहार के खिलाफ प्रदर्शन किया है। सिविल लाइन स्थित चौपाटी में इकट्ठा होने के बाद युवक कांग्रेस कार्यकर्ता पुलिस अधीक्षक कार्यालय तक नारेबाजी करते हुए पहुंचे। जहां पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल से एक प्रतिनिधि मण्डल ने मिलकर पूरा वाक्या बताते हुए कार्रवाही की मांग की है। युवक कांग्रेस का यह विरोध कोलगवां थाना पुलिस के खिलाफ था। 11 जनवरी को केन्द्र सरकार की नीतियों का विरोध करते हुए बेरोजगारी के मुद्दे पर प्रदर्शन के दौरान सेमरिया चौक में कोलगवां थाना पुलिस ने पुतला दहन कर रहे युवक कांग्रेस कार्यकर्ताओं को खदेड़ते हुए मारपीट कर दी थी। जिसके बद युकांई उग्र हुए और आंदोलन की राह पकड़ ली। एसपी ने युवक कांग्रेस कार्यकर्ताआें की बात सुनने के बाद उनका ज्ञापन लिया और जांच कराते हुए कार्रवाही का आश्वासन दिया है। इस मामले की जांच डीएसपी मुख्यालय प्रभ किरण किरो को दी गई है।
प्रदर्शन में यह रहे शामिल
युवक कांग्रेस के इस प्रदर्शन में प्रदेश सचिव अरुण पाण्डेय के साथ महिला कांग्रेस अध्यक्ष डॉली चौरसिया, पूर्व अध्यक्ष सतेन्द्र निगम, यूथ अध्यक्ष राजदीप सिंह, विमलेश त्रिपाठी, जिलाध्यक्ष योगेश त्रिपाठी, जितेन्द्र राय, संदीप गौतम, आनंद चौरसिया, संतोष सिंह चंदेल, अमित अवस्थी, प्रदेश सचिव शुभम साहू, सतना विधान सभा अध्यक्ष आनंद पाण्डेय, रिंकू त्रिपाठी, रजनीश द्विवेदी, समर सिंह चौहान, अंजनी यादव, राहुल सोनी, अंकित श्रीवास्तव, फजल इकबाल, अमर द्विवेदी समेत अन्य मौजूद रहे।
नजर नहीं आए बड़े नेता
युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के साथ प्रदर्शन के दौरान पुलिस की मारपीट के बाद से ही कांग्रेस के बड़े नेता इस मामले में सामने नहीं आए। जब कार्रवाही कराने के लिए युवक कांग्रेस आगे बढ़ी तब भी बड़े नेताओं ने युवक कांग्रेस के इस विरोध प्रदर्शन में शिरकत नहीं की। इसके कई मायने आपने अपने स्तर से निकाले जा रहे हैं। हालांकि यह तो कांग्रेस नेता ही जानते होंगे कि आखिर उन्होंने इस मुद्दे पर युवक कांग्रेस का साथ क्यों नहीं दिया। एक खास बात और सामने आई कि युवक कांग्रेस की ओर से खुद को नेता बताने वाले शहर और जिले के तमाम कांग्रेसी इस प्रदर्शन में झंकने तक नहीं आए।
पुलिस ने हटा दिया बस
पुलिस कप्तान के पास जब युवक कांग्रेस का प्रतिनिधि मण्डल पहुंचा तो एसपी ने खुद यह बात कही कि उन्हें पता ही नहीं कि लाठी चार्ज हुआ है। उनका कहना था कि उनके सूचना संकलन में लगे स्टॉफ ने प्रदर्शनकारियों को हटाने की बात बताई थी। घटना के बाद दो दिन तक किसी ने फोन तक नहीं किया कि इतना बड़ा घटनाक्रम हो गया। एसपी ने कहा कि पुलिस को सूचना ही नहीं दी गई थी कि युवक कांग्रेस प्रदर्शन करने वाला है। बाद में एसपी ने कहा कि जो भी वीडिया और साक्ष्य हैं वह पेश करें ताकि जांच के बाद कार्रवाही की जा सके।

Dhirendra Gupta Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned