दुष्कर्म और फिर आत्मदाह के लिए उकसाने के अभियुक्त को 10 साल का कारावास ,अपर सेशन न्यायाधीश (विशिष्ट न्यायालय) ने सुनाया फैसला

abhishek ojha

Publish: May, 18 2018 11:58:02 AM (IST)

Sawai Madhopur, Rajasthan, India
दुष्कर्म और फिर आत्मदाह के लिए उकसाने के अभियुक्त को 10 साल का कारावास ,अपर सेशन न्यायाधीश (विशिष्ट न्यायालय) ने सुनाया फैसला

दुष्कर्म और फिर आत्मदाह के लिए उकसाने के अभियुक्त को 10 साल का कारावास ,अपर सेशन न्यायाधीश (विशिष्ट न्यायालय) ने सुनाया फैसला,

सवाईमाधोपुर. हाउसिंग बोर्ड निवासी एक युवती से 13 साल पूर्व दुष्कर्म व आत्मदाह के लिए उकसाने व साक्ष्य मिटाने के मामले में गुरुवार को अपर सेशन न्यायाधीश विशिष्ट न्यायालय बालकृष्ण मिश्र ने आरोपित को 10 वर्ष का कारावास की सजा सुनाई। जबकि सह आरोपी केयरटेकर नाथूलाल और कंपाउण्डर अमीनुद्दीन को बरी कर दिया। अधिवक्ता अब्दुल हासिब ने बताया कि 3 नवम्बर 2005 की रात करीब 2 बजे हाउसिंग बोर्ड निवासी एक युवती ने आत्मदाह का प्रयास किया था। अस्पताल पहुंचने पर उसकी मौत हो गई। पोस्टमार्टम रिपोर्र्ट में युवती 8 माह की गर्भवती पाई गई। ऐसे में डीएनए परीक्षण के लिए नमूना मेडिकल बोर्ड से लिया गया।

युवती के पिता द्वारा एक रिपोर्ट कोतवाली थानाधिकारी को 9 नवम्बर को दी। इसमें आरोप लगाया था कि भू्रण प्रकाश पुत्र रामजीलाल जोशी निवासी मनिहारी मोहल्ला शहर का है। जिसकी जानकारी मृतका ने मरने से पूर्व और मरने के समय दी थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कन्या भू्रण बताया कि लेकिन डीएनए के लिए भेजा गया भू्रण सेम्पल मेल पाया गया। भू्रण बदलने में केयरटेकर नाथूलाल और कंपाउण्डर अमीनुद्दीन को आरोपित मानते हुए न्यायालय में चालान पेश हुआ। लेकिन इन दोनों पर आरोप साबित नहीं हुए।


अनुसंधान अधिकारी के खिलाफ करें कार्रवाई
न्यायालय ने भ्रूण बदलने के मामले में पुलिस महानिदेशक को अनुसंधान अधिकारी तत्कालीन उपनिरीक्षक राजकुमार मीणा थाना कोतवाली के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई के लिए लिखने के आदेश दिए है। इसमें बताया कि वे तत्कालीन अनुसंधान अधिकारी मीणा के खिलाफ अनुसंधानिक शक्तियों का दुरुपयोग और लापरवाही के लिए समुचित अनुशासनात्मक कार्रवाई करें और कार्रवाई से न्यायालय को अवगत कराए।


ये सुनाई सजा
अधिवक्ता ने बताया कि आरोपित को 376 दण्ड संहिता में 10 वर्ष का कठोर कारावास 5 हजार रुपए का जुर्माना अदायगी ना होने पर छह माह का अतिरिक्त कारावास, 306 दण्ड संहिता में 10 वर्ष का कारावास से और 5 हजार रुपए का जुर्माना अदायगी ना होने पर 6 माह का कारावास की सजा सुनाई। इसी प्रकार 201 दण्ड संहिता में तीन वर्ष का कठोर कारावास और 3 हजार रुपए का जुर्माना अदायगी ना होने पर तीन माह का कठोर कारावास तथा 120 बी दण्ड संहिता में तीन वर्ष का कठोर कारावास और 3 हजार रुपए का जुर्माना अदायगी नहीं होने पर तीन माह का कठोर कारावास की सजा सुनाई।


सर्पदंश से युवक की मौत
पीपलवाड़ा. हथडोली पंचायत गांव जटावती के युवक को सांप काटने से देर रात मंगलवार को मौत हो गई। ग्रामीण देवीलाल गुर्जर ने बताया ओमप्रकाश (32) पुत्र कैलाश मीणा मंगलवार करीब 4 बजे मवेशियों के हरे चारे को खेत पर पानी पिला रहा था। इस दौरान सांप नेे डस लिया। युवक द्वारा जोर से चिल्लाने पर आसपास व परिवार के लोग मौके पर पहुंचकर उसे तेजाजी के मंदिर पर ले गए। वहां पर देर रात युवक की मौत हो गई। ग्रामीणों ने बताया कि मृतक के चार बेटियां है। मृतक के परिवार को उचित मुआवजा दिलाने की मांग की है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned