महिला मेट में पिछड़ी आधी-आबादी!

महिला मेट में पिछड़ी आधी-आबादी!

By: Subhash

Updated: 30 Jun 2020, 02:26 PM IST

सवाईमाधोपुर.प्रदेश में भले ही महिलाओं को प्राथमिकता पर जोर दिया जाता रहा है, लेकिन महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के तहत महिला मेट में सवाईमाधोपुर की आधी-आबादी पिछड़ गई है। महिलाओं के आठवीं पास नहीं होने व मेट का प्रशिक्षण नहीं मिलने से सवाईमाधोपुर जिला प्रदेश में अंतिम पायदान पर है।

जानकारी के अनुसार जिले में कई महिलाएं आठवीं पास नहीं है, तो कई महिलाओं को मेट के कार्यों की जानकारी नहीं है। ऐसे में इस बार महिला मेटो का प्रतिशत प्रदेश में 10.56 प्रतिशत रह गया है। ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग ने 2015 जुलाई में मेट चयन में बदलाव के निर्देश दिए थे। नियमानुसार प्रत्येक राजस्व गांव में चार मेट होंगे। इसमें दो महिला व दो पुरुष होने चाहिए। इसके तहत पुरूष की योग्यता दसवीं पास व महिलाओं की योग्यता आठवीं पास निर्धारित की गई है।

ये मिलना था प्रशिक्षण
मेट प्रशिक्षण में मनरेगा के तहत औसत दैनिक मजदूरी दर को बढ़ाने,, अधिकाधिक महिला मेटों का नियोजन करने, कार्य की गुणवत्ता बढ़ाने, कार्य के तकनीकी पक्ष को सुदृढ़ करने, स्थाई परिसंपत्तियों का सुदृढ़ीकरण करने का प्रशिक्षण दिया जाना था लेकिन महिला मेटों को यह प्रशिक्षण नहीं दिया गया।

प्रदेश में सिरोही सबसे ऊपर
मनरेगा में प्रदेशभर में महिला मेट में सिरोही जिला 47.44 प्रतिशत के साथ पहले नम्बर पर पहुंच गया है। अधिकारियों के अनुसार जब से मनरेगा योजना का महिला मेट का रिकॉर्ड ऑनलाइन होने लगा है, तब से सिरोही जिला प्रदेश में पहले पायदान पर है।

सवाईमाधोपुर जिला अंतिम स्थान पर
महिला मेट के मामले में जहां सिरोही नम्बर वन पर है तो पाली 35.82 प्रतिशत के साथ दूसरे नम्बर पर काबिज है। तीसरे स्थान पर राजसमंद, चौथे नम्बर पर श्रीगंगानगर, पांचवें पर कोटा, छठे पर बारां, सातवें पर जालोर, आठवें पर डूंगरपुर, नौंवें पर भीलवाड़ा व दसवें स्थान पर झालावाड़ है, जबकि 10.56 प्रतिशत के साथ सवाईमाधोपुर जिला अंतिम पायदान पर है।
50 प्रतिशत होना चाहिए मेट
नियमानुसार महिला मेट की संख्या 50 प्रतिशत होनी चाहिए। लेकिन जागरूकता व योग्यता के अभाव में महिलाएं आगे नहीं बढ़ रही है। हालांकि महिलाओं को मनरेगा में रोजगार मिल रहा है लेकिन महिला मेट के लिए जरूरी योग्यताएं नहीं है। ऐसे में कम ही महिलाएं मेट बन पाई है।

इनका कहना है
जिले में महिलाओं के आठवीं पास नहीं होने व प्रशिक्षण नहीं मिलने से महिला मेट का प्रतिशत 10.56 ही रहा है। अब जिले से करीब 2800 महिलाओं को प्रशिक्षण दिया गया है। ऐसे में महिला मेट प्रतिशत को सुधारने की कोशिश की जा रही है।
हरिसिंह मीणा, अधिशासी अभियंता, मनरेगा, सवाईमाधोपुर

Subhash Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned