सुबह लगाए नौसखिया गोताखोर, शाम को बदले आदेश

सुबह लगाए नौसखिया गोताखोर, शाम को बदले आदेश

By: Subhash

Published: 15 Jun 2021, 09:32 PM IST

सवाईमाधोपुर. जिला प्रशासन की ओर से बाढ़ नियंत्रण में मनमर्जी से गोताखोरों की ड््यूटी लगाई जा रही है। स्थिति ये कि हाल में अतिरिक्त जिला कलक्टर ने एक आदेश जारी कर बाढ़ नियंत्रण में 12 नए कर्मचारियों को लगाया है लेकिन इनमें से नौसिखिया है और एक भी कर्मचारी को तैरना नहीं आता है, जबकि दो महिलाओं की ओर ड््यूटी लगाई गई है। ये सभी तैराकी में अनट्रेंड है। ऐसे में तेज बारिश के दौरान कोई हादसा होगा तो ये कुछ नहीं कर पाएंगे, जबकि गोताखोर का काम जान जोखिम में डालकर ही दूसरो को बचाने का है।
पाली ब्रिज से कूदा तो हाथ-पैर फूले
अतिरिक्त जिला कलक्टर ने एक आदेश जारी कर बाढ़ नियंत्रण में 12 अनट्रैंड गोताखोर की ड््यूटी लगा दी। लेकिन जैसे ही मंगलवार दोपहर को पाली ब्रिज से एक युवक ने छलांग लगाई और गोताखोरों की आवश्यकता महसूस हुई तो जिला प्रशासन के हाथ-पैर फूल गए। नए लगाए गए पूरे गोताखोर नौसिखिया होने से कोई भी पाली ब्रिज पर नहीं पहुंचा।
शाम को बदले आदेश तो पहुंचे पुराने गोताखोर
पाली ब्रिज से एक व्यक्ति के कूदने के बाद गोताखोर नहीं पहुंचे। ऐसे में शाम को फिर आदेश को संशोधित कर जिला प्रशासन ने आनन-फानन में पुराने खोताखोरों को बुलाया और पाली ब्रिज भेजा।
जिले में मानूसन के लिए 39 कार्मिकों का स्टॉफ लगाया
जिला प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार मानसून को देखते हुए बाढ़ नियंत्रण कक्ष सवाईमाधोपुर में 12 स्टॉफ कर्मियों के लिए अलावा जिले में कुल 39 कार्मिकों की ड््यूटी लगाई गई है। इनमें गोताखोर, नागरिक सुरक्षा कर्मचारी आदि शामिल है। ये पूरे मानसून सत्र में पूरी निगरानी रखेंगे।

इनका कहना है
बाढ़ नियंत्रण कक्ष में हमने 8 गोताखोर व 4 नागरिक सुरक्षा कर्मियों की ड््यूटी लगाई है। ऐसे में कुल 12 कर्मचारियों की ड््यूटी लगाई है। फिलहाल इनकी ड््यूटी एक महीने के लिए लगाई गई है।
डॉ.सूरजसिंह नेगी, अतिरिक्त जिला कलक्टर, सवाईमाधोपुर

Subhash Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned