जिले में डंक मार रहा डेंगू

जिले में डंक मार रहा डेंगू

By: Subhash

Published: 21 Sep 2021, 09:44 PM IST

सवाईमाधोपुर.जिले में डेंगू अब तेजी से पैर पसारने लगा है। जिले में एक जनवरी से 21 सितम्बर तक कुल 40 डेंगू के केस सामने आ चुके है। पिछले डेढ़ महीने में करीब 25 केस डेंगू के सामने आ चुके है, जबकि पहले केवल गिने-चुने केस ही सामने आए थे लेकिन मौसमी बीमारियों में अचानक डेंगू तेज गति से असर दिाा रहा है। हालांकि राहत की बात ये है कि अब तक जिले में डेंगू से इस वर्ष एक भी मौत नहीं हुई है।

चिकनगुनिया के भी 22 केस
जिले में मौसमी बीमारियों के बीच डेंगू ने तो दस्तक दी है। साथ ही मलेरिया व चिकनगुनिया का प्रकोप भी बढ़ रहा है। जिले में एक जनवरी से 21 सितम्बर तक चिकनगुनिया के कुल 22 केस सामने आ चुके है। इसके अलावा मलेरिया के भी रोगी सामने आ रहे है।
जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में हालात खराब
जिले में डेंगू का खतरा भी मंडरा रहा है। विशेषतौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में बारिश के बाद जगह-जगह पानी भरा है। लेकिन वहां फोगिंग नहीं कराई जा रही है। स्थिति ये है कि कई स्थानों पर तो डेंगू के मरीज भी सामने आ रहे हैं। चिकित्सक लगातार कह रहे हैं कि बारिश के मौसम के बाद जमा पानी में मच्छर पैदा होने से मौसमी बीमारी के साथ वायरल का प्रकोप चल रहा हैं। जिला मुख्यालय सहित ग्रामीण अंचलों में गली-मोहल्लो में कई खाली भूखण्ड पड़े है, जिनमें बारिश का पानी जमा है। वहीं, नालियों का भी गंदा पानी जा रहा है। ऐसे में दिन-रात मच्छरों का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। लोगों ने अपने घरों को भले ही साफ स्वच्छ रखना शुरू कर दिया, लेकिन पड़ोस के भूखण्ड में भरे पानी को कैसे हटाया जाए। ऐसे में बीमारी पनपने का खतरा मंडरा रहा है। इससे लोगों के बीमार होने की आशंका बनी है।
सावधानी बरतना जरुरी
जिले में बारिश के बाद जगह-जगह पानी भर गया है। इसके चलते मच्छर पनप रहे हैं। बारिश के मौसम में मच्छरों के पनपने से इनकी संख्या में बेशुमार वृद्धि हो जाती है। चिकित्सक बताते हैं कि मौसम के बदलाव के साथ मौसमी बीमारियों में बढ़ोतरी होती है। डेंगू के रोगी भी सामने आ रहे हैं। ऐसे में घरों में टंकियों की सफाई प्रति सप्ताह जरुरी है, वहीं कूलरों में भी अधिक दिनों तक पानी नहीं भरा होना चाहिए। खांसी,जुखाम, बुखार की शिकायत होने पर चिकित्सक की सलाह ली जानी चाहिए।
बीमारी फैलने का कर रहे इंतजार
भूखण्डों में पानी-कचरा व कीचड़ भरा होने पर नगरपरिषद की ओर से भूखण्ड मालिकों को नोटिस देकर या तो सफाई करवाई जानी चाहिए या फिर उनकी चारदीवारी कराने के लिए पाबंद किया जाना चाहिए। लेकिन इस ओर परिषद अधिकारियों का ध्यान नहीं है। वहीं स्वास्थ्य विभाग भी नींद में सोया हुआ है।
लगातार बढ़ रहे मरीज
जिले में सैकड़ों की संख्या में लोग वायरल की चपेट में हैं। इनमें बच्चों की खासी तादाद है। डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया आदि बीमारियों का खतरा भी बना हुआ है। बच्चों में भी वायरल की स्थिति गंभीर होती जा रही है। वायरल के साथ निमोनिया होने के कारण चिंता का विषय बना है।
इनका कहना है
जिले में जनवरी से लेकर अब तक कुल 40 डेंगू व 22 चिकनगुनिया के केस सामने आए है। बारिश के बाद जहां भी पानी भरे है और मच्छर पनप रहे है, वहां फोगिंग कराई जा रही है। बीमारियों से बचाव के लिए लोगों को घरों में टंकियों व कूलर को समय-समय पर साफ करना चाहिए। किसी भी प्रकार का बुखार आने पर तत्काल चिकित्सक को दिखाना चाहिए।
डॉ.तेजराम मीणा, सीएमएचओ, सवाईमाधोपुर

Subhash Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned