बांध पर इंजन लगा लोग कर रहे पानी चोरी, पेयजल की उठानी पड़ेगी किल्लत

बांध पर इंजन लगा लोग कर रहे पानी चोरी, पेयजल की उठानी पड़ेगी किल्लत

By: Vijay Kumar Joliya

Published: 15 Nov 2018, 05:56 PM IST

खण्डार. तहसील क्षेत्र की ग्राम पंचायत गोठड़ा के गांव रावरा में बगरू बांध में लोग अवैध तरीके से पानी का दोहन कर रहे हैं। ग्रामीण केशव, चन्दशेेखर, रामविलास आदि ने बताया कि बांध रावरा जयसिंहपुरा, अणतपुरा, गणेश नगर आदि दर्जनों गांव के जानवर, पशुपक्षी व जंगली जानवरों के पीने के लिए बनाया गया है, लेकिन कुछ लोग नियम विरूद्ध कार्य कर रहे हैं।

पंचायत की अनदेखी से खोता जा स्वरूप : ग्राम पंचायत गोठड़ा की अनदेखी के चलते प्राचीन बगरू बांध अपना मूल स्वरूप खोता जा रहा है। करीब 90 बीघा में फैला क्षेत्र में फैले इस बांध में पूर्व मं नहाने के दो तीन घाट हुआ करते थे, लेकिन अतिक्रमण के चलते लोग नहाने के घाटों को तोड़ कर कब्जा कर काश्त करने लग गए। इससे गा्रामीणों में रोष हैं।

बगरू बांध पर लगभग 90 बीघा जमीन सिंचाई विभाग की है। किसानों द्वारा अवैध तरीके से सिंचाई करने पर सिंचाई विभाग ही कार्रवाई करे।
योगेन्द्र दुबे, पटवारी, जयसिंहपुरा हलका

ग्रामीणों ने बगरू बांध पर अवैध तरीके से सिंचाई करने की शिकायत की है। मौके पर जाकर ग्रामीणों के विरूद्ध नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
पन्नालाल मीणा, तहसीलदार खण्डार

सूरवाल/बहरावण्डा खुर्द. जिले के चार बांधों से सिंचाई के लिए नहरों में गुरुवार को पानी छोड़ा जाएगा। बांधों से पानी छोड़े जाने के लिए बुधवार को जिला कलक्टर की अध्यक्षता में बैठक हुई। सिंचाई विभाग के सहायक अभियंता सुरेश भोपरिया ने बताया कि बैठक में मानसरोवर, मोरासागर और ढील बांध का पानी गुरुवार सुबह दस बजे छोडऩे का निर्णय किया गया।

सूरवाल बांध का पानी सुबह ग्यारह बजे छोडऩे का निर्णय किया। इन बांधों से लिंक नहरों की सफाई का कार्य पूरा करवा लिया गया है। विभागीय कर्मचारियों ने बुधवार को नहरों का अवलोकन किया। साथ ही आसपास के किसानों को हिदायत दी कि नहर में पानी छोड़े जाने के बाद वे नहरों के पानी की चोरी नहीं करें।
नहर को किसी प्रकार क्षतिग्रस्त नहीं करें। पढ़ाना मुख्य सड़क के किनारे नहरों को क्षतिग्रस्त किए जाने और कई किसानों द्वारा पानी चोरी किए जाने की विभाग को शिकायत मिली थी।

इसे गंभीरता से लेते हुए इस नहर पर विशेष निगरानी रखी जा रही है। पिछले साल बारिश नहीं होने से बांध रीते रह गए थे, लेकिन इस बार बांध लबालब है। ऐसे में किसानों को उम्मीद है कि चारों बांधों से अपने-अपने क्षेत्रों में नहरों से उन्हें सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी मिल सकेगा। एईएन भोपरिया ने बताया कि टेल तक के सभी किसान नहरों से लाभान्वित हो, इस पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

Vijay Kumar Joliya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned