अवैध बजरी खनन पर डीजीपी एवं खनिज विभाग से मांगा स्पष्टीकरण

अवैध बजरी खनन पर डीजीपी एवं खनिज विभाग से मांगा स्पष्टीकरण

सवाईमाधोपुर. जिले की बनास नदी में अवैध बजरी खनन से जुड़े पोक्सो एक्ट के एक मामले में विशेष न्यायाधीश पोक्सो सवाईमाधोपुर ने मंगलवार को सुनवाई करते हुए पुलिस महानिदेशक एवं खनिज विभाग से स्पष्टीकरण मांगा है। सेशन प्रकरण संख्या 142/2018 सरकार बनाम अमजद में सुनवाई करते हुए जवाब तलब किया है।न्यायाधीश दिनेश कुमार गुप्ता ने डीजीपी को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है कि बजरी के अवैध खनन एवं परिवहन भंडारण को खुर्द-बुर्द करने के आपराधिक तथ्यों के लिए भादसं की धारा के तहत पीपीडीएफ एक्ट के तहत व अन्य घटित होने वाले अपराधों के लिए एफआईआर क्यों नहीं दर्ज की जा रही है।


न्यायालय ने इन खुर्द बुर्द को रोकने के लिए विजिलेंस की ओर से प्रभावी कार्रवाई अमल में लाई जाने के लिए तथा अब तक शिथिलता बरत रहे दोषी अधिकारी व कर्मचारी के विरुद्ध समुचित अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाने की रिपोर्ट भी तलब की है। साथ ही खनिज विभाग उदयपुर पूछा कि खान विभाग को बोर्डर होमगार्ड की तीन कंपनियां उपलब्ध हुई है या नहीं। इसके लिए खान विभाग को उदयपुर से स्पष्टीकरण तलब किया है।


क्या था मामला
पोक्सो कोर्ट ने 2 मार्च 2019 को एक बालिका से घर में घुसकर यौन शोषण मामले में अभियुक्त अमजद को दोषी ठहराया था। इस मामले में पीडि़ता ने बयान दिया था कि घटना के वक्त उसके पिता बनास में पत्थर भरने की मजदूरी पर गए थे। जबकि पुलिस ने इस बात को छिपाते हुए कोर्ट में कहा कि घटना के वक्त उसके परिजन घर से बाहर कहीं गए हुए थे। कोर्ट ने पुलिस द्वारा बनास में अवैध खनन के तथ्य को छिपाने को गंभीर माना। कोर्ट ने पत्रिका में अवैध खनन को लेकर प्रकाशित खबरों का भी हवाला देते हुए अवैध खनन रोकने के भी निर्देश दिए थे। साथ ही कहा था कि पुलिस व खनिज विभाग की अनदेखी से सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद अवैध खनन हो रहा है। इससे पर्यावरण को नुकसान हो रहा है। कोर्ट में इस मामले में मंगलवार को भी सुनवाई हुई थी।

rakesh verma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned