scriptसरकार इधर भी करो नजरे इनायत, जिले को फूड प्रोसेसिंग यूनिट की दरकार | Government, please look here too, the district needs a food processing unit | Patrika News
सवाई माधोपुर

सरकार इधर भी करो नजरे इनायत, जिले को फूड प्रोसेसिंग यूनिट की दरकार

-प्रदेश के सवाईमाधोपुर जिले में 75 फीसदी होती है अमरूदों की बागवानी-खाद्य प्रसंस्करण इकाई तक स्थापित करने की दरकारसवाईमाधोपुर. प्रदेश में सर्वाधिक 75 प्रतिशत अमरूदों की बागवानी सवाईमाधोपुर जिले में होती है। यहां के अमरूद यानी जामफल देशभर में प्रसिद्ध हैं और पेड़े के नाम से जाने जाते हैं लेकिन सरकार,उद्यान विभाग, कृषि विपणन बोर्ड […]

सवाई माधोपुरJun 15, 2024 / 11:16 am

Subhash Mishra

सवाईमाधोपुर.अमरूदों के रखे कैरेट।


-प्रदेश के सवाईमाधोपुर जिले में 75 फीसदी होती है अमरूदों की बागवानी
-खाद्य प्रसंस्करण इकाई तक स्थापित करने की दरकार
सवाईमाधोपुर. प्रदेश में सर्वाधिक 75 प्रतिशत अमरूदों की बागवानी सवाईमाधोपुर जिले में होती है। यहां के अमरूद यानी जामफल देशभर में प्रसिद्ध हैं और पेड़े के नाम से जाने जाते हैं लेकिन सरकार,उद्यान विभाग, कृषि विपणन बोर्ड व जिला उद्योग केन्द्र की अनदेखी से अमरूदों के अधिक कारोबार के बावजूद भी यहां खाद्य प्रसंस्करण इकाई तक स्थापित नहीं हो सकी है। सरकार की ओर से घोषणाएं तो खूब की जाती है लेकिन धरातल पर ये वादे पूरे नहीं होते है। ये ही कारण है कि जिला अब तक फूड प्रोसेसिंग यूनिट के लाभ से वंचित है। उधर, सरकार व कृषि विपणन बोर्ड नजरे इनायत करें तो जिले में खाद्य प्रसंस्करण इकाई स्थापित हो सकती है। ऐसे में देरी पर देरी किसानों पर भी भारी पड़ रही है।
उत्पादों की है विदेशों तक मांग
जिले में फूड प्रोसेसिंग इकाई की स्थापना कर दी जाए तो अमरूदों से प्रोसेसिंग यूनिट की मदद से जैली, आईस्क्रीम, टॉफी, बर्फी, और कई वस्तुएं बनाई जा सकती है। इसकी विदेशों में काफी मांग है। फूड प्रोसेसिंग यूनिट की स्थापना कर दी जाए तो स्थानीय स्तर पर ही कई उत्पाद भी तैयार किए जा सकते हैं।
10 साल में 5 गुणा तक बढ़ी अमरूदों की बागवानी
जिले में पिछले एक दशक से बागवानी की तस्वीर बदलने लगी है। क्षेत्र के काश्तकार परंपरागत खेती से हटकर अब अमरूदों की बागवानी कर रहे है। स्थिति यह है कि जिले में 10 साल पहले 3 हजार हैक्टेयर में अमरूदों के बगीचे लगे थे, जो अब पांच गुणा बढकऱ 15 हजार हैक्टयर में पहुंच गए है, पर किसानों को अपनी मेहनत का फल नहीं मिल रहा है।
फूड प्रोसेसिंग यूनिट से यह मिलेगा लाभ…
-5 हजार से अधिक लोगों को मिलेगा रोजगार।
-30 प्रतिशत तक कारोबार में और होगा इजाफा।
-2 हजार से अधिक ट्रक व अन्य परिवहन साधन होंगे लाभांवित।
-120 कृषि संकाय के विद्यार्थियों को मिलेगा शोध का अवसर।
…………………….
इनका कहना है…
जिले में फूड प्रोसेसिंग यूनिट लगाने की प्रक्रिया उच्च स्तर पर चल रही है। हमने सरकार को प्रस्ताव बनाकर भी भेज रखे है।
सुग्रीव मीना, महाप्रबंधक, जिला उद्योग केन्द्र, सवाईमाधोपुर

Hindi News/ Sawai Madhopur / सरकार इधर भी करो नजरे इनायत, जिले को फूड प्रोसेसिंग यूनिट की दरकार

ट्रेंडिंग वीडियो