आईसीटी लैब: खराब कम्प्यूटर व उपकरण बन रहे ज्ञान में रोड़ा

चिकित्सा महकमे की अनदेखी

गंगापुरसिटी. सरकारी विद्यालयों में आईसीटी लैब की स्थापना की गई ताकि विद्यार्थी कठिन स्तर के विषयों को तकनीक के माध्यम से सरलता से समझ सकें। इसके तहत कक्षा 6 से 12वीं तक के विद्यार्थियों को गणित, विज्ञान एवं सामाजिक विज्ञान आदि विषयों की कम्प्यूटर के माध्यम से शिक्षा दी जाती है।

विद्यार्थी विषय शिक्षक के निर्देशन में दीक्षा पॉर्टल से विषयवस्तु डाउनलोड कर अपने स्तर पर ही अध्यययन कर सकते हैं, लेकिन सरकारी मंशा के विपरीत मुख्य ब्लॉक शिक्षा कार्यालय के अधीन संचालित 44 आईसीटी लैब में से 7 लैब अक्रियाशील हालत में है।

जानकारी के अनुसार कई विद्यालयों में प्रथम चरण से संचालित आईसीटी लैब में पुराने प्रोसेसर के कम्प्यूटर लगे हुए हैं। इनमें नवीन तकनीक के सॉफ्टवेयर काम नही करते हैं। इससे ये उपयोग के लायक नही रह गए हैं। ऐसे में विद्यार्थियों को अध्ययन में तकनीकी का लाभ नही मिल पा रहा है। (ब.उ.)

क्या हैं आईसीटी लैब

सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी जिसे आम तौर पर आईसीटी कहा जाता है। इसमें विद्यार्थी को ऑडियों एवं वीडियों के माध्यम से विषय की जानकारी दी जाती है। आईसीटी लैब में प्रोजेक्टर एवं कई विद्यालयों में सेटेलाइट प्रसारण के माध्यम से भी शिक्षण कार्य कराया जाता है। इसमें विद्यार्थियों को विषय विशेषज्ञों से पढऩे का मौका मिलता है।

शिक्षा विभाग के अनुसार माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों को सप्ताह में एक दिन विद्यालय में संचालित आईसीटी लैब में शिक्षण कार्य कराना होता है। इससे विद्यार्थियों में कम्प्यूटर की नॉलेज बढ़ती है। आईसीटी लैब प्रभारी लैब में अध्ययन करने वाले विद्यार्थियों का एक रजिस्टर में उपस्थिति दर्ज करता है। साथ ही शिक्षकों ने लैब में क्या पढ़ाया, इसका विवरण अलग से रजिस्टर में लिखा जाता है।

यहां बंद पड़ी हैं आईसीटी लैब

मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी कार्यालय के अधीन 44 विद्यालयों में आईसीटी लैब संचालित हैं। इनमें से पीलोदा राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय पीलोदा, राउमावि मोहचा का पुरा, राउमावि बगलाई, राजकीय संस्कृत प्रवेशिका पीलोदा, राउमावि फुलवाड़ा पेपट, राउमावि बड़ौली एवं राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय अहमदपुर में आईसीटी लैब अक्रियाशील अवस्था में है।

सुचारू करने के निर्देश दिए हैं

विद्यालयों में सूचना तकनीकी के माध्यम से विद्यार्थियों को शिक्षण कराने के मकसद से आईसीटी लैब संचालित है। आईसीटी लैब की शिक्षण कार्य में महती आवश्यकता है। कई विद्यालयों में आईसीटी लैब अक्रियाशील होना जानकारी मेंं आया है। सभी संस्था प्रधानों को अक्रियाशील लैब को सुचारू करने के निर्देश दिए गए है। ताकि विद्यार्थियों को आईसीटी लैब का समूचित लाभ मिल सके।
संतोष सोनी, अतिरिक्त मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी

Arun verma Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned