सवाईमाधोपुर में खुलेगा मेडिकल कालेज,होंगी कई सुविधाएं, रैफर भी थमेगा

सवाईमाधोपुर में खुलेगा मेडिकल कालेज,होंगी कई सुविधाएं, रैफर भी थमेगा

By: Shubham Mittal

Published: 10 Feb 2018, 02:18 PM IST

मेडिकल कॉलेज खुलने से चिकित्सा सुविधाओं का होगा विस्तार.
हमारे मेडिकल कॉलेज में होंगी कई सुविधाएं, रैफर भी थमेगा
सवाईमाधोपुर. जिला मुख्यालय पर मेडिकल कॉलेज खुलने से जिले के लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधाओं की सौगात मिलेगी। साथ ही जिले सहित आस-पास के अन्य जिलों व समीपवर्ती प्रदेश के जिलों से यहां आने वाले रोगियों को उच्च गुणवत्ता का उपचार मिल सकेगा। इससे उन्हें जयपुर या कोटा रैफर करने से मुक्ति मिलेगी।

स्टाफ का होगा विस्तार, सभी जांचें होंगी
मेडिकल कॉलेज खुलने के बाद जिला मुख्यालय पर रोगियों को जयपुर एसएमएस अस्पताल जैसी सभी तरह की चिकित्सा सुविधाएं मिलेगी। वर्तमान स्टाफ के मुकाबले तीन गुना अधिक स्टाफ बढ़ेगा। वहीं हृदय संबंधी रोग से लेकर एमआरआई जैसी अनेक छोटी बड़ी अच्छी व गुणवत्ता पूर्ण जांच जिला मुख्यालय पर हो सकेंगी।

जांच प्रयोगशाला बनेगी
मेडिकल कॉॅलेज बनने के बाद जिला मुख्यालय पर जांच प्रयोगशाला की सुविधा मिल सकेगी। ऐसे में सभी रोगों की जांच समय पर मिल सकेगी। छात्रावास, कैंटीन , पुस्तकालय, कैंटीन आदि की सुविधाएं विकसित होंगी।

स्थानीय स्तर पर मिलेगी प्रशिक्षण की सुविधा
पीजी कॉलेज की नियमित छात्रा निक्की गर्ग का कहना है कि मेडिकल कॉलेज से छात्राओं को अध्ययन की सुविधाएं मिलेगी। मेडिकल कॉलेज की प्रदेश में एमबीबीएस डिग्री के लिए सीटें बढ़ेगी। इससे छात्र-छात्राओं को मेडिकल शिक्षा से संबंधी लाभ मिल सकेगा।

युवाओं को मिलेगा रोजगार
शहर निवासी कृष्ण मुरारी शर्मा ने बताया कि मेडिकल कॉलेज खुलने से युवाओं को रोजगार के अवसर मुहैया होंगे। उन्हें छात्रावास, कैंटीन, टिफिन सेंटर, किराए से कमरे आदि सुविधाओं से रोजगार मिल सकेगा।

सुविधाओं का होगा विस्तार
जिला मुख्यालय पर मेडिकल कॉलेज खुलने से चिकित्सा सुविधाओं का विस्तार होगा। इसके अलग से करीब 10 बीघा जमीन की आवश्यकता रहेगी। अस्पताल में करीब 500 से अधिक चिकित्सक मौजूद रहेंगे। सभी तरह की जांच सुविधा मिल सकेगी।
डॉ.उमेश शर्मा, प्रमुख चिकित्सा अधिकारी जिला अस्पताल सवाईमाधोपुर।

सीनियर रेजीडेंट की सेवाएं मिलेगी
शिशु एवं बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. महेश मीणा ने बताया कि मेडिकल कॉलेज खुलने से शिशुओं के लिए वेंटीलेटर, अपातकालीन वार्ड, बच्चों की अलग से आईसीयू यूनिट सहित अन्य सुविधाएं मिलेगी। इसी प्रकार रेजीडेंट चिकित्सकों में बढ़ोतरी होगी। अस्पताल को इंटर्नशिप करने वाले चिकित्सक भी मिल सकेंगे। मेडिकल कॉलेज के नियमों के अनुसार विशेषज्ञ चिकित्सकों की सीटें बढ़ेगी। प्रोफेसर, असिस्टेंट प्रोफे सर, एशोसिएट प्रोफेसर, सीनियर रेजीडेंट की सेवाएं मिलेगी।

वार्ड में 24 घंटे मिलेंगे चिकित्सक
चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ. नरेश बंजारा ने बताया कि मेडिकल कॉलेज खुलने के बाद जिला अस्पताल के सभी वार्डों में 24 घंटे चिकित्सक व नर्सिंग स्टाफ मिलेगा। इमरजेंसी में तीन तरह के रोगों उपचार के लिए सर्जरी, मेडिसन व हड्डी रोग के विशेषज्ञों की सुविधा मिलेगी। साथ ही माइक्रोबाइलॉजी, फॉरमेंसी, न्यूरो सर्जरी, ऐंजिओग्राफी आदि की सुविधाओं का विस्तार होगा।

Shubham Mittal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned