हिण्डौन जा रहा गंगापुर का दूध

हिण्डौन जा रहा गंगापुर का दूध
हिण्डौन जा रहा गंगापुर का दूध

Rajeev Pachauri | Updated: 06 Oct 2019, 09:21:08 PM (IST) Sawai Madhopur, Sawai Madhopur, Rajasthan, India

गंगापुरसिटी . सवाईमाधोपुर-करौली जिला दुग्ध उत्पादक संघ की ओर से संचालित डेयरी पर इन दिनों दूध की आवक में खासी बढ़ोतरी हुई है। वर्तमान में यहां से रोज करीब 6 हजार लीटर दूध हिण्डौनसिटी भेजा जा रहा है। जुलाई माह के प्रारंभ में जहां प्रतिदिन एक हजार लीटर दूध की आवक थी, जबकि दो माह से डेयरी पर छह से साढ़े छह हजार लीटर तक की आवक बनी हुई है। फिलहाल यहां संकलित दूध को ठंडा कर हिण्डौनसिटी की डेयरी भेजा जा रहा है।

गंगापुरसिटी . सवाईमाधोपुर-करौली जिला दुग्ध उत्पादक संघ की ओर से संचालित डेयरी पर इन दिनों दूध की आवक में खासी बढ़ोतरी हुई है। वर्तमान में यहां से रोज करीब 6 हजार लीटर दूध हिण्डौनसिटी भेजा जा रहा है। जुलाई माह के प्रारंभ में जहां प्रतिदिन एक हजार लीटर दूध की आवक थी, जबकि दो माह से डेयरी पर छह से साढ़े छह हजार लीटर तक की आवक बनी हुई है। फिलहाल यहां संकलित दूध को ठंडा कर हिण्डौनसिटी की डेयरी भेजा जा रहा है।


दो दर्जन गांवों से आवक


डेयरी पर दूध उत्पादक समितियों के माध्यम से दूध की आवक होती है। फिलहाल करीब दो दर्जन गांवों से दूध की आपूर्ति हो रही हैं। ताजपुर, बालौती, चूली, पीलोदापुरा, बलुआपुरा, बाटोदा, जीवद की झोपड़ी, नाननवास, कोंडली, आशाकी, लखरूकी, निभेरा, कैलादेवी, टपरा, मरमदा, दौलतियां, खिजूरा, पटपडी, डूंडीपुरा, अमरवाड आदि गांवों से डेयरी पर दूध पहुंच रहा है। दूध की दर फेट के आधार पर तय होती है। यदि एक लीटर दूध में 6 फेट है तो आपूर्तिकर्ता को 41 रुपए का भुगतान किया जाता है। इस राशि में 2 रुपया प्रोत्साहन राशि भी शामिल है।


1981 में हुई थी शुरू


शहर में डेयरी वर्ष 1981 से संचालित है। प्रारंभ में सवाई माधोपुर-टोंक जिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ के अधीन डेयरी शुरू की गई थी। वर्ष 2007 से इसे सवाई माधोपुर-करौली जिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ के अधीन संचालन किया जा रहा है। डेयरी पर पूर्व में दूध पैकिंग सहित अन्य उत्पादक तैयार किए जाते थे, लेकिन वर्ष 2013 में दूध पैकिंग कार्य बंद कर दिया गया। ऐसे में यहां संकलित दूध को हिण्डौनसिटी भेजा जा रहा है।


यह है कारण


बारिश के मौसम में दूध की उपलब्धता अधिक रहती है। मवेशियों के लिए हरा चारा भी उपलब्ध रहता है। इसके अलावा पिछले माह से शादी का सीजन नहीं होने के कारण भी डेयरी पर दूध की आवक में बढ़ोतरी हुई है।


उपलब्धता अधिक


बारिश के दिनो में दूध की उपलब्धता अधिक रहती है। इसके अलावा डेयरी पर खरीद दर भी अच्छी है। इन दिनों 6000 से 6500 लीटर तक की आवक है।
-राजकुमार शर्मा, प्रभारी, डेयरी गंगापुरसिटी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned