scriptMust have minimum 50 female mate in MNREGA | मनरेगा में न्यूनतम 50 प्रतिशत महिला मेट होना जरूरी | Patrika News

मनरेगा में न्यूनतम 50 प्रतिशत महिला मेट होना जरूरी

मनरेगा में न्यूनतम 50 प्रतिशत महिला मेट होना जरूरी
कलेक्टर ग्रामीण विकास की योजनाओं की प्रगति समीक्षा कर दिए दिशा निर्देश

सवाई माधोपुर

Published: November 08, 2021 09:44:29 am

मनरेगा में न्यूनतम 50 प्रतिशत महिला मेट होना जरूरी
कलेक्टर ग्रामीण विकास की योजनाओं की प्रगति समीक्षा कर दिए दिशा निर्देश
सवाईमाधोपुर. जिला कलक्टर राजेन्द्र किशन ने सोमवार को कलक्ट्रेट सभागार में बैठक लेकर जिला परिषद द्वारा संचालित विभिन्न विकास और व्यक्तिगत लाभ की योजनाओं की प्रगति की समीक्षा कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। कलक्टर ने कहा कि मनरेगा में न्यूनतम 50 प्रतिशत महिला मेट होनी चाहिए। बौंली,ंगंगाुपर सिटी खंडार और सवाईमाधोपुर में 50 प्रतिशत से अधिक महिला मेट वर्तमान में कार्यरत हैं। उन्होंने शेष पंचायत समितियों में भी यह लक्ष्य जल्द हासिल करने के पूर्ण प्रयास करने तथा महिला मेट को पर्याप्त प्रशिक्षण देने के निर्देश दिए। कलक्टर ने निर्देश दिये कि मनरेगा अधिशासी अभियन्ता सभी लाइन विभागों से समन्वय कर उनके विभागों द्वारा ग्रामीण क्षेत्र में किये जाने वाले विकास और व्यक्तिगत लाभ के ज्यादा से ज्यादा कार्यों को मनरेगा में डवटेल करवाने का प्रयास करें। कलेक्टर ने मनरेगा में कार्यों की संख्या बढ़ाने के भी निर्देश दिए। कलक्टर ने बताया कि गत 1 अप्रेल से 21 सितम्बर तक 22 लाख 49 हजार मानव दिवस सृजित हुए हैं। वहीं अधूरे कार्यों को प्राथमिकता से पूरा करवाएं
मनरेगा में न्यूनतम 50 प्रतिशत महिला मेट होना जरूरी
मनरेगा में न्यूनतम 50 प्रतिशत महिला मेट होना जरूरी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: आज होगी वीरता पुरस्कारों की घोषणा, गणतंत्र दिवस से पूर्व राजधानी बनी छावनीशरीयत पर हाईकोर्ट का अहम आदेश, काजी के फैसलों पर कही ये बातBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयUP Election 2022: आगरा कैंट सीट से चुनाव लड़ेंगी एक ट्रांसजेंडर, डोर-टू-डोर अभियान शुरूछत्तीसगढ़ में 24 घंटे में 19 मरीजों की मौत, जनवरी में ये आंकड़ा सबसे ज्यादा, इधर तेजी से बढ़ रही एक्टिव मरीजों की संख्यागणतंत्र दिवस को लेकर कितनी पुख्ता राजधानी में सुरक्षा? हॉटस्पॉट्स पर खास सिस्टम से होगी निगरानीUttar Pradesh Assembly Elections 2022: ...तो क्या सूबे की सुरक्षित सीटें तय करेंगी कौन होगा यूपी का शाहंशाहUttar Pradesh Assembly Elections 2022: शह और मात के खेल में डिजिटल घमासान, कौन कितने पानी में
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.