scriptNext month, vehicles will start running on the expressway in distt | अगले माह सवाईमाधोपुर जिले में भी एक्सप्रेस हाइवे पर दौडऩे लगेेंगे वाहन | Patrika News

अगले माह सवाईमाधोपुर जिले में भी एक्सप्रेस हाइवे पर दौडऩे लगेेंगे वाहन

locationसवाई माधोपुरPublished: Feb 28, 2023 11:50:23 am

Submitted by:

Surendra Chaturvedi

अगले माह सवाईमाधोपुर जिले में भी एक्सप्रेस हाइवे पर दौडऩे लगेेंगे वाहन
जिले में 59.39 किमी.लम्बे एक्सप्रेस वे का कार्य प्रगति पर
बौंली से खिजूरी तक तीन तहसीलों के 32 गांवों के बीच से गुजर रहा है हाइवे

सवाईमाधोपुर. बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दौसा जिले में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएचआई) की ओर से जिस दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस वे का शुभारम्भ किया गया था, उस एक्सप्रेस का काम सवाईमाधोपुर जिले में भी प्रगति पर है।

अगले माह सवाईमाधोपुर जिले में भी एक्सप्रेस हाइवे पर दौडऩे लगेेंगे वाहन
अगले माह सवाईमाधोपुर जिले में भी एक्सप्रेस हाइवे पर दौडऩे लगेेंगे वाहन
अगले माह सवाईमाधोपुर जिले में भी एक्सप्रेस हाइवे पर दौडऩे लगेेंगे वाहन
जिले में 59.39 किमी.लम्बे एक्सप्रेस वे का कार्य प्रगति पर
बौंली से खिजूरी तक तीन तहसीलों के 32 गांवों के बीच से गुजर रहा है हाइवे

सवाईमाधोपुर. बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दौसा जिले में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएचआई) की ओर से जिस दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस वे का शुभारम्भ किया गया था, उस एक्सप्रेस का काम सवाईमाधोपुर जिले में भी प्रगति पर है।
यह हाइवे सवाईमाधोपुर जिले की तीन तहसीलों के 32 गांवों के बीच से गुजर रहा है। जिले में बौंली क्षेत्र से खिजूरी तक 59.39 किलोमीटर क्षेत्र से गुजरने वाले हाइवे का निर्माण कार्य प्रगति पर है और 75 फीसदी काम पूरा हो चुका है। संभावना जताई जा रही है कि मार्च तक इसका कार्य पूरा होने पर इस पर वाहन दौड़ सकेंगे। वर्तमान में दिल्ली-मुम्बई की सडक़ से 1450 किलोमीटर की दूरी है। नए एक्सप्रेस-वे से यह दूरी घटकर 1350 रह जाएगी।
विभागीय अधिकारियों ने बताया कि 30 फीसदी अधूरे निर्माण कार्य को अधिकारियों की मॉनिटङ्क्षरग में अगले माह तक पूरा हो जाने की उम्मीद है। गौरतलब है कि 1250 करोड़ रुपए की लागत से दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस वे आठ लेन का बनाया गया है। इससे जिले के लोगों को व्यापार व पर्यटन की ²ष्टि से दिल्ली मुम्बई की दूरी कम होने से व्यवसाय में लाभ होगा। उन्हें आने जाने व सामान को लाने ले जाने के लिए सीधी सुगम रास्ता मिल सकेगा।
तीन तहसीलों के इन गांवों के बीच हाइवे
दिल्ली-मुम्र्बई एक्सप्रेस वे में जिले की तीन तहसील के 32 गांव शामिल हैं। बौंली तहसील के 16 गांव घाटा नैनवाड़ी, भैड़ोली, सोमवास, झनून, थड़ी, खिरखिड़ी, बौंली, रवासा,बड़ागांव सरवर, रसूलपुरा, ङ्क्षहदूपुरा, जटावती, पीपलवाड़ा, बासड़ा नदी, सहरावता तथा चौथकाबरवाड़ा तहसील के 6 गांव त्रिलोकपुरा, टोरड़ा, भगवतगढ, रेवतपुरा, जौला, कावड़, व सवाईमाधोपुर तहसील के 10 गांव इटावा, बिलोपा, धमूणकलां, डेकवा, जैसापुर, कुस्तला, मुई,पीपलवाड़ा, बदावद, खिजूरी गांवों की सीमा से हाइवे गुजरेगा।
पर्यटन सर्किट के रुप में होगा विकसित
दिल्ली.मुम्बई एक्सप्रेस वे पर्यटन सर्किट के रुप में विकसित होगा। हाइवे से दिल्ली व मुम्बई के बीच की दूरी कम होगी। आवागमन के दौरान जाम की समस्याओं से निजात मिलेगी। ऐसे में इस हाइवे से प्रदेश के कई टाइगर रिजर्व व अभयारण जुड़ जाएंगे। हाइवे बनने के बाद रणथम्भौर अभयारण्य तथा घडिय़ाल अभयारण्य, रामगढ़ विषधारी बूंदी, अलवर का सरिस्का अभयारण्य, कोटा का मुकन्दरा, मध्यप्रदेश का कूनो अभयारण्य की कनेक्टिविटी हो जाएगी।
इनका कहना है
& जिले में अब तक दिल्ली.मुम्बई एक्सप्रेस वे का 70 प्रतिशत काम पूरा हो गया है। जिले में 1250 करोड़ रुपए की लागत से एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य किया जा रहा है। संभवत मार्च या अप्रेल तक दिल्ली.मुम्बई एक्सप्रेस वे का कार्य पूरा हो जाएगा।
इन्द्रपालङ्क्षसह, मैनेजर एनएचआई दिल्ली.मुम्बई एक्सप्रेस वे दौसा-सवाईमाधोपुर।
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.