7 दिन में कार्रवाई नहीं तो घेराव-प्रदर्शन

गंगापुरसिटी . आदिवासी मीणा महासभा की ओर से मंगलवार को अतिरिक्त जिला कलक्टर को ज्ञापन देकर पूर्व विधायक पर कथित तौर पर समुदाय के लिए अपशब्दों व जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करने का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की। महासभा ने 7 दिन में कार्रवाई नहीं होने पर एसडीएम कार्यालय का घेराव, सत्याग्रह, भूख हड़ताल व धरना-प्रदर्शन की चेतावनी दी गई।

गंगापुरसिटी . आदिवासी मीणा महासभा की ओर से मंगलवार को अतिरिक्त जिला कलक्टर को ज्ञापन देकर पूर्व विधायक पर कथित तौर पर समुदाय के लिए अपशब्दों व जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करने का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की। महासभा ने 7 दिन में कार्रवाई नहीं होने पर एसडीएम कार्यालय का घेराव, सत्याग्रह, भूख हड़ताल व धरना-प्रदर्शन की चेतावनी दी गई।


मीणा महासभा की ओर से पूर्व जिलाप्रमुख पंखीलाल मीना के नेतृत्व में दिए ज्ञापन में कहा कि 2 दिसम्बर को पूर्व विधायक मान सिंह गुर्जर के नेतृत्व में उपखंड अधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन किया गया। इसमें वक्ताओं ने मीणा समुदाय के खिलाफ अपशब्द व जातिसूचक शब्द कहे।

ज्ञापन में कहा है कि यह मीणा समुदाय की भावनाओं को आहत करता है। ज्ञापन में आरोप लगाया कि प्रदर्शन में शामिल वक्ताओं से सुनियोजित भाषण दिलवाया गया। ज्ञापन में कहा कि 2 अप्रेल 2018 को शहर में एक जाति विशेष के निर्दोष छात्र युवाओं के खिलाफ झूठे मुकदमे लगवाए गए।

ज्ञापन में आरोप है कि धरना-प्रदर्शन में शामिल वक्ताओं व पूर्व विधायक ने षड्यंत्र के तहत सामाजिक सौहार्द को खराब करने की कोशिश की है। ऐसे में इनके खिलाफ कार्रवाई की जाए, जिससे समाजों में अमन-चैन कायम रह सके। पूर्व जिलाप्रमुख मीना ने पूर्व विधायक सहित अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की भी मांग की। कार्रवाई नहीं होने पर 9 दिसम्बर को एसडीएम कार्यालय का घेराव करते हुए धरना-प्रदर्शन की चेतावनी दी गई। इस दौरान जवान सिंह मोहचा, राजेश कुमार, रघुमन, विजय मीना, केशव, रोशनलाल, महेश पीलोदा, रहीसुद्दीन, अक्षय, कमर सिंह, बबलेश मीना आदि मौजूद रहे।


प्रशासन की कार्रवाई न्यायोचित


भारतीय युवा कांगे्रस की ओर से मंगलवार को एडीएम नवरत्न कोली को ज्ञापन देकर प्रशासन की ओर से अतिक्रमियों के खिलाफ की गई कार्रवाई का समर्थन करते हुए कहा कि कार्रवाई न्यायोचित व वैधानिक बताया है। ज्ञापन में आरोप लगाया कि कुछ लोगों द्वारा इसे राजनीतिक रंग देकर अतिक्रमणकारियों का बचाव किया जा रहा है। आरोप है कि कथित तौर पर कुछ लोगों ने सोमवार को घेराव के दौरान जातिसूचक शब्दों के साथ अपशब्दों से मीणा समाज का अपमान किया है, उनके खिलाफ एससी-एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया जाए। ज्ञापन में कहा कि कुछ लोग शहर का सामाजिक सौहार्द बिगाडऩा चाहते हैं।

ऐसे व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। ज्ञापन में दावा किया कि यह कार्रवाई राजनीतिक नहीं होकर पूर्ण रूप से प्रशासनिक कार्रवाई है। ज्ञापन में कार्रवाई जारी रखते हुए शहर को अतिक्रमण मुक्त बनाने की मांग रखी। साथ ही अतिक्रमियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की। इस दौरान सुबह सिंह सैमाड़ा, रिशेन्द्र पाल, मो. सोहिब, कुंजी, सुमित, ऋषि, विकास मीना, पवन मीना, भीम सिंह मीना, ओमप्रकाश मीना, जीतेन्द्र कुमार मीना, शिवलहरी मीना, रोहिताश, लक्की, हेमराज सेवा एवं अजयराज आदि मौजूद रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned