एक कदम भी नहीं चल पाई अनुश्री

Shubham Mittal

Publish: Sep, 17 2017 12:23:18 (IST)

Sawai Madhopur, Rajasthan, India
एक कदम भी नहीं चल पाई अनुश्री

एक कदम भी नहीं चल पाई 'अनुश्री दो साल बाद भी धरातल पर नहीं उतरी योजना 

सवाईमाधोपुर.
राजकीय महाविद्यालयों में विद्यार्थियों को कैमपस में ही प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने के उद्देश्य से शुरू की गई 'अनुश्रीÓ योजना घोषणा के करीब दो साल बाद भी धरातल पर नहीं उतर पाई है। राजकीय महाविद्यालयों में विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने के लिए साल २०१५ में कॉलेज शिक्षा आयुक्तालय ने प्रदेश के सभी महाविद्यालयों में महाविद्यालय परिसर में ही कोचिंग सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश जारी किए थे। इसके तहत महाविद्यालयों में महाविद्यालय में नियमित अध्ययन कार्य समाप्त होने के बाद शाम के समय कोचिंग कक्षाएं संचालित की जानी थी। स्थानीय शहीद कैप्टन रिपुदमन सिंह राजकीय महाविद्यालय में विभिन्न संकायों में करीब साढ़े पांच हजार से अधिक नियमित विद्यार्थी अध्ययनरत है लेकिन अब तक यह कक्षाएं शुरू नहीं हो पाई है इससे विद्यार्थियों को लाभ नहीें मिल पा रहा है।

 

 


श्री विद्या अनुशिक्षण केन्द्र के नाम से संचालित होनी थी कक्षाएं
देश के सरकारी व बैंकिंग क्षेत्र में हर वर्ष हजारों रोजगार के अवसर उपलब्ध होते हैं। चयनित युवाओं को इन परीक्षाओं की तैयारी कराने के लिए यह निर्देश जारी किए गए थे। इसमें विशेषज्ञोंं द्वारा युवाओं को प्रतियोगी परीक्षाओं में विशेषज्ञों द्वारा उपयोगी टिप्स देने के लिए यह कक्षाएं लगाई जानी थी लेकिन दो साल बाद भी महाविद्यालयों में यह कक्षाएं शुरू नहीं हो पाई हैं। 

 

 


इनकी मिलनी की थी कोचिंग
योजना के तहत युवाओं को नेशनल डिफेंस एकडमी, सीडीएस, आरपीएससी जैनी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए कोचिंग की सुविधा मिलनी थी। इसके अलावा प्रतिरक्षा सेवाएं, वित्तीय सेवाएं, बैंकिंग, प्रशासनिक व बाजारोन्नमुखी तात्कालिक आवश्यक सेवाओं की परीक्षाओं के लिए दीर्घ एवं लघु अवधि के पाठ्यक्रम स्ववित्तपोशी प्रतिमान में संचालित किए जाने थे।

 


फीस ज्यादा भरोसा कम
कॉलेज से जुड़े सूत्रों के अनुसार योजना विद्यार्थियों को आकर्षित नहीं कर पाई। कोचिंग में स्ववित्तपोशी वाला नियम लागू होने के कारण योजना नहीं चल पाई। योजना के तहत करीब एक दर्जन से अधिक छात्र- छात्राओं ने आवेदन तो किया लेकिन कोचिंग के १५ दिन के करीब पांच हजार रुपए फीस होने के कारण विद्यार्थियों ने योजना में रुचि ही नहीं दिखाई। इसके अलावा सरकारी मशीनरी लोगों का भरोसा भी नहीं जीत पाई। एक तो कोचिंग बाजार के मुकाबले में कम समय के लिए अधिक फीस का प्रावधान रखा गया। साथ ही प्रतियोगी छात्र भी बेहतर कोचिंग व सफलता के प्रति आश्वस्त नहीं रहे। बाजार में कोचिंग की प्रति विषय फीस साड़े तीन से चार हजार रुपए है। इस तरह दो विषयों में करीब तीन माह तक कोंचिंग सात से आठ हजार रुपए में की जा सकती है जबकि अनुश्री योजना के तहत १५-१५ दिन की कोचिंग के एवज में ही १२००० रुपए शुल्क वसूलने का प्रावधान था।

 

 


दो वर्ष में भी नहीं हुआ डाटा बेस तैयार
योजना के तहत राजकीय महाविद्यालयों मेें श्री विद्या अनुशिक्षण केन्द्र पर अध्यापन कार्य कराने के लिए विषय विशेषज्ञों का पंजीकरण व डाटा बेस बनाकर ३० नवम्बर २०१५ तक आयुक्जालय को भेजना था इसके बाद ही कक्षाएं शुरू होनी थी लेकिन दो वर्ष बाद भी डाटाबेस तैयार नहीं हो पाया।

 


इनका कहना है....
महाविद्यालय में श्री विद्या अनुशिक्षण केन्द्र शुरू करने के लिए २०१५ में निर्देश आए थेब लेकिन विद्यार्थियों ने इसमें ज्यादा रुचि नहीं दिखाई ऐसे में यह कक्षाएं शुरू नहीं हो पाई है।
- डॉ. ओपी शर्मा, प्रभारी, श्री विद्या अनुशिक्षण केन्द्र, पीजी कॉलेज, सवाईमाधोपुर।
मुझे इस बारे में जानकारी नहीं है अब हम प्रशिक्षण कार्यक्र म को जल्द रूसा के अन्तर्गत शुरू करने की तैयारी कर रहे हैं।
- डॉ. हरलाल मीणा, प्राचार्य, शहीद कैप्टन रिपुदमन सिंह राजकीय महाविद्यालय, सवाईमाधोपुर।

फीस ज्यादा भरोसा कम
कॉलेज से जुड़े सूत्रों के अनुसार योजना विद्यार्थियों को आकर्षित नहीं कर पाई। कोचिंग में स्ववित्तपोशी वाला नियम लागू होने के कारण योजना नहीं चल पाई। योजना के तहत करीब एक दर्जन से अधिक छात्र- छात्राओं ने आवेदन तो किया लेकिन कोचिंग के १५ दिन के करीब पांच हजार रुपए फीस होने के कारण विद्यार्थियों ने योजना में रुचि ही नहीं दिखाई। इसके अलावा सरकारी मशीनरी लोगों का भरोसा भी नहीं जीत पाई। एक तो कोचिंग बाजार के मुकाबले में कम समय के लिए अधिक फीस का प्रावधान रखा गया। साथ ही प्रतियोगी छात्र भी बेहतर कोचिंग व सफलता के प्रति आश्वस्त नहीं रहे। बाजार में कोचिंग की प्रति विषय फीस साड़े तीन से चार हजार रुपए है। इस तरह दो विषयों में करीब तीन माह तक कोंचिंग सात से आठ हजार रुपए में की जा सकती है जबकि अनुश्री योजना के तहत १५-१५ दिन की कोचिंग के एवज में ही १२००० रुपए शुल्क वसूलने का प्रावधान था।

 


दो वर्ष में भी नहीं हुआ डाटा बेस तैयार
योजना के तहत राजकीय महाविद्यालयों मेें श्री विद्या अनुशिक्षण केन्द्र पर अध्यापन कार्य कराने के लिए विषय विशेषज्ञों का पंजीकरण व डाटा बेस बनाकर ३० नवम्बर २०१५ तक आयुक्जालय को भेजना था इसके बाद ही कक्षाएं शुरू होनी थी लेकिन दो वर्ष बाद भी डाटाबेस तैयार नहीं हो पाया।

 


इनका कहना है....
महाविद्यालय में श्री विद्या अनुशिक्षण केन्द्र शुरू करने के लिए २०१५ में निर्देश आए थेब लेकिन विद्यार्थियों ने इसमें ज्यादा रुचि नहीं दिखाई ऐसे में यह कक्षाएं शुरू नहीं हो पाई है।
- डॉ. ओपी शर्मा, प्रभारी, श्री विद्या अनुशिक्षण केन्द्र, पीजी कॉलेज, सवाईमाधोपुर।
मुझे इस बारे में जानकारी नहीं है अब हम प्रशिक्षण कार्यक्र म को जल्द रूसा के अन्तर्गत शुरू करने की तैयारी कर रहे हैं।
- डॉ. हरलाल मीणा, प्राचार्य, शहीद कैप्टन रिपुदमन सिंह राजकीय महाविद्यालय, सवाईमाधोपुर।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned